भगवान परशुराम के पिता यमदग्नि के नाम पर बसा जौनपुर

भगवान परशुराम के पिता यमदग्नि के नाम पर बसा जौनपुर

भगवान परशुराम के यदि वंशज को देखा जाए तो महाराज गाधि के एक मात्र पुत्री सत्यवती व पुत्र ऋषि विश्वामित्र थे।

पुराणों में भगवान परशुराम की जन्मस्थली का वर्णन शाहजहांपुर जिले के जलालाबाद में है। हालांकि, उनकी कर्म व तपोभूमि जौनपुर जिले की सदर तहसील क्षेत्र के आदि गंगा गोमती के पावन तट स्थित जमैथा गांव ही रहा, जहां पर महर्षि यमदग्नि ऋषि का आश्रम आज भी है और उन्हीं के नाम पर उस समय यमदग्निपुरम् रहा। बाद में धीरे धीरे जौनपुर हो गया। परशुराम का जन्म अक्षय तृतीया 18 अप्रैल को पड़ रहा है। इसलिए पूरे देश में इसी दिन उनकी जयन्ती मनाई जा रही है।

भगवान परशुराम के यदि वंशज को देखा जाए तो महाराज गाधि के एक मात्र पुत्री सत्यवती व पुत्र ऋषि विश्वामित्र थे। स्त्यवती का विवाह ऋचीक ऋषि से हुआ। उनके एक मात्र पुत्र यमदग्नि ऋषि थे। ऋषि यमदग्नि का विवाह रेणुका से हुआ और इनसे परशुराम का जन्म हुआ। परशुराम का पृथ्वी पर अवतार अक्षय तृतीय के दिन हुआ था। ये भगवान विष्णु के छठे अवतार भी माने जाते थे। परशुराम के गुरू भगवान शिव थे। उन्हीं से इन्हे फरसा मिला था।

महर्षि यमदग्नि जमैथा अब जौनपुर स्थित अपने आश्रम पर तपस्या कर रहे थे मगर आसुरी प्रवृत्ति के राजा कीर्तिवीर ( जो आज केरार वीर हैं) उन्हें परेशान करता था। मान्यताओं के अनुसार यमदग्नि ऋषि तमसा नदी (आजमगढ़) गए, जहां भृगु ऋषि रहते थे। उनसे सारी बात बताई, तो भृगु ऋषि ने उनसे कहा कि आप अयोध्या जाइयें। वहां पर राजा दशरथ के दो पुत्र राम व लक्ष्मण हैं। वे आपकी पूरी सहायता करेगें।

यमदग्नि अयोध्या गए और राम लक्ष्मण को अपने साथ लाए। राम व लक्ष्मण ने कीर्तिवीर को मारा और गोमती नदी में स्नान किया तभी से इस घाट का नाम राम घाट हो गया। यमदग्नि ऋषि बहुत क्रोधी थे। परशुराम पिता भक्त थे। एक दिन उनके पिता ने आदेश दिया कि अपनी मां रेणुका का सिर धड़ से अलग कर दो। परशुराम ने तत्काल अपने फरसे से मां का सिर काट दिया, तो यमदग्नि बोले क्या वरदान चाहते हो। परशुराम ने कहा कि यदि आप वरदान देना चाहते हैं, तो मेरी मां को जिन्दा कर दीजिए। यमदग्नि ऋषि ने तपस्या के बल पर रेणुका को पुन: जिन्दा कर दिया। जीवित होने के बाद माता रेणुका ने कहा कि परशुराम तूने अपने मां के दूध का कर्ज उतार दिया। इस प्रकार पूरे विश्व में परशुराम ही एक ऐसे हैं जो मातृ व पितृ ऋण से मुक्त हो गए हैं।

परशुराम ने तत्कालीन आसुरी प्रवृत्ति वाले क्षत्रियों का ही विनाश किया था। यदि वे सभी क्षत्रियों का विनाश चाहते तो भगवान राम को अपना धनुष न देते, यदि वे धनुष न देते तो रावण का वध न होता। परशुराम में शस्त्र व शास्त्र का अद्भुत समन्वय मिलता है। कुल मिलाकर देखा जाय तो जौनपुर के जमैथा में उनकी माता रेणुका, बाद में अखण्डो, अब अखड़ो देवी का मन्दिर आज भी मौजूद है जहां लोग पूजा अर्चना करते है।

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned