सितंबर 2020 में इस ग्रह के परिवर्तन के साथ ही पलट जाएगी बहुतों की किस्मत!

होने वाली है सबसे बड़ी ज्योतिषीय घटनाओं में से एक...

ज्योतिष का सर्वाधिक रहस्यमयी ग्रह राहु ग्रह अगले महीने 23 सितंबर 2020 को स्थान परिवर्तन कर रहा है। इस दिन राहु मिथुन राशि से वृषभ राशि में गोचर शुरू करेगा और 12 अप्रैल 2022 तक वृषभ में ही स्थित रहेगा।

ज्योतिष के जानकार पंडित सुनील शर्मा के अनुसार राहु व केतु की चाल हमेशा उल्टी दिशा में होती है, जबकि सूर्य एक मात्र ऐसा ग्रह है, जो हमेशा सीधी चाल ही चलता है। राहु का ये परिवर्तन इस साल की सबसे बड़ी ज्योतिषीय घटनाओं में से एक है। ऐसे में इसका प्रत्येक राशि पर जोरदार पड़ेगा। इससे जहां कुछ को पदेशानी होगी, वहीं कुछ की किस्मत अचान ही खुल जाएगी।

वहीं ज्योतिष के जानकारों के अनुसार चूकिं राहू का असर कोरोना वायरस से भी जुड़ा दिख रहा है। ऐसे में इसके राशि परिवर्तन से कोरोना से का असर न्यूनतम स्थिति में आने की भी संभावना है।

Patrika .com/religion-and-spirituality/corona-epidemic-countdown-date-is-this-6312087/">MUST READ : कोरोना की मारकेश दशा शुरू, इस तारीख से शुरु होगी कोरोना की उल्टी गिनती

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/corona-epidemic-countdown-date-is-this-6312087/

ज्योतिष शास्त्र के अनुसार, राहु एक अशुभ मगर अत्यधिक ताकतवर ग्रह है, यहां तक की ये देव सेनापति मंगल के साथ बैठने पर उसका प्रभाव तक शून्य कर देता है।ज्योतिष में राहु ग्रह को एक पापी ग्रह है। वहीं वैदिक ज्योतिष में राहु ग्रह को कठोर वाणी, जुआ, यात्राएं, चोरी, दुष्ट कर्म, त्वचा के रोग, धार्मिक यात्राएं आदि का कारक माना जाता हैं।

माना जाता है कि जिस व्यक्ति की जन्म पत्रिका में राहु अशुभ स्थान पर बैठा हो, अथवा पीड़ित हो तो यह जातक को इसके नकारात्मक परिणाम प्राप्त होते हैं। ज्योतिष में राहु ग्रह को किसी भी राशि का स्वामित्व प्राप्त नहीं है। लेकिन मिथुन राशि में यह उच्च होता है और धनु राशि में यह नीच भाव में होता है।

MUST READ : किस ग्रह के अधिपत्य में है ये साल 2020, जानिये कैसे पाएं इस साल की मुसीबतों से मुक्ति

https://www.patrika.com/dharma-karma/rahu-s-dominance-on-this-year-2020-and-its-influence-on-you-6310423/

राहु के स्वभाव के कारण उसे को पापी ग्रह कहा जाता है। आमतौर पर कुंडली में राहु का नाम सुनते ही लोगों के मन में भय उत्पन्न हो जाता है। परंतु राहु कुंडली में शुभ होने पर शुभ फल भी देता है। इसके शुभ फल से व्यक्ति धनवान और राजयोग का सुख भी प्राप्त करता है।

राहु के वृषभ में गोचर के प्रभाव...

1. मेष राशि:
राहु का गोचर आपकी राशि से दूसरे भाव में रहेगा, इस समय आपको अपने खर्चे और वाणी पर काबू रखना होगा। यह आपको कुछ शुभ परिणामकारी भी देगा। कई क्षेत्रों में आपको शानदार परिणाम मिलने की संभावना है। इसके प्रभाव से आपके साहस में वृद्धि होगी। लेकिन वैवाहिक जीवन में आप असमंजस की स्थिति में रहेंगे। कुल मिलाकर ये गोचर आपके लिए मिलाजुला रहेगा।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री हनुमान अष्टक का नित्य 9 बार पाठ करें।

MUST READ : राहु के खराब होने के संकेत! ग्रहों पर इसका प्रभाव और आप पर असर

https://www.patrika.com/bhopal-news/bad-sign-of-rahu-and-its-effects-on-you-with-your-planets-5038128/

2. वृषभ राशि :
राहु का गोचर आपकी ही राशि में होगा, इस गोचर के दौरान आप किसी तरह की ग़लतफ़हमी के शिकार हो सकते है और बिना बात का मानसिक तनाव भी बना रहेगा।गोचर के प्रभाव से आपका आर्थिक जीवन प्रभावित होने के साथ ही परिवार में कलह की स्थिति भी पैदा हो सकती है। इस समय हर बात सोच समझ कर ही बोलें।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री अष्ट लक्ष्मी जी का नित्य पाठ करें।


3. मिथुन राशि :
यह गोचर विदेश यात्रा के लिए शुभ रहेगा परंतु अत्यधिक ख़र्चों के लिए बेहतर नहीं रहेगा। इसके कारण आपको शारीरिक और मानसिक परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। इस दौरान आपको निर्णय लेने में कठिनाई होगी। साथ ही आपको अपनी सेहत पर ध्यान रखना होगा।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री महाविष्णु स्तोत्रम जी का नित्य पाठ करें।

MUST READ : राहु का यहां है आधिपत्य, जानें राहु से जुड़ी हर वो चीज जो करती है आपको प्रभावित

https://www.patrika.com/religion-and-spirituality/role-and-importance-of-rahu-in-astrology-6298236/

4. कर्क राशि :
राहु का गोचर आपकी राशि से एकादश भाव में होगा। यह समय आर्थिक स्थिति के लिए बहुत बेहतर रहेगा। आपके धन से जुड़े सपने पूर्ण होने के साथ ही आपकी समाज में नई पहचान बनेगी। व्यवसाय को लेकर नये प्रोजेक्ट मिलेंगे जिसमें आपने ईमानदारी से ही कार्य करना है। इस समय रुका हुआ धन वापस मिल सकता है। लेकिन आपको हर काम में सावधानी रखनी होगी।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री कुबेर मंत्र जी का नित्य पाठ करें।

5. सिंह राशि :
आपकी राशि से दशम भाव में राहु गोचर करेगा। इस समय में आप कार्य को लेकर कुछ भ्रम की अवस्था में आ सकते हैं। लेकिन, राहु का ये गोचर आपकी आमदनी में इजाफा कर सकता है। राहु के शुभ प्रभाव से आपको अपने कार्यक्षेत्र में उपलब्धि मिलने की भी संभावना है।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री लक्ष्मी जी की आरती नित्य करें।

6. कन्या राशि :
इस गोचर में राहु आपसे नवम भाव पर रहेंगे। इसके चलते आपकी आध्यात्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी और धार्मिक यात्राओं का भी संयोग बनेगा। पिता के साथ किसी प्रकार के मतभेद से बचें और उनकी सेहत का भी ध्यान रखें। कार्यक्षेत्र में बनते काम बिगड़ सकते हैं। अध्यात्म के क्षेत्र में रुचि बढ़ेगी। आपको कार्यक्षेत्र में बाधाओं का सामना करना पड़ सकता है।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री विष्णु जी की आरती नित्य करें।

7. तुला राशि :
चुनौतियों का सामना करने के लिए तैयार रहें। आपके नैतिक मूल्यों का पतन हो सकता है। गोचर होने से अचानक किसी शोध में रुचि होगी विदेश जाने का अवसर प्राप्त होगा।आपको भाग्य की बजाय अपनी मेहनत पर ही भरोसा करना होगा।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री गणपति जी की आरती नित्य करें।

8. वृश्चिक राशि :
राहु का गोचर सप्तम भाव में होने से इस समय से आप अपने वैवाहिक जीवन को लेकर तनाव में रहेंगे, किसी प्रकार की ग़लतफ़हमी की वज़ह से आपसी दूरी हो सकती है। वाहन चलाते समय सावधानी बरतें।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री महादेव जी की आरती नित्य करें।

9. धनु राशि :
इस समय राहु का गोचर धनु राशि से छठे भाव में वृषभ राशि में होगा। इस भाव में राहु बहुत शुभ फल देता है और शत्रुओं पर विजय देता है। कोर्ट कचहरी में कोई केस चल रहा था तो यह राहु आपको जीत दिलाएगा। स्वास्थ्य का खास ख्याल रखना होगा।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री गुरु गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें।

10. मकर राशि :
इस समय राहु का गोचर पंचम भाव में होने से सोच में भ्रम सा महसूस करेंगे और निर्णय लेने में खुद को कमज़ोर महसूस करेंगे। संतान के साथ किसी ग़लतफ़हमी की वज़ह से तनाव हो सकता है। दिमाग में कई तरह के विचार आएंगे, लेकिन फैसला सोच समझकर व किसी जानकार की सलाह पर ही लें।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री शनि गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें।

11. कुंभ राशि :
सुख में कमी के साथ ही पारिवारिक जीवन से थोड़ी असंतुष्टि हो सकती है। वहीं आपको अति व्यस्तता के चलते परिवार से दूर जाना पड़ सकता है। ऐसे में अपने परिवार को अपना पूरा समय दें जिससे आप के बीच में प्रेम बना रहे। आपनी मां की सेहत का खास ध्यान रखें।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री रूद्र मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें।

12. मीन राशि :
राहु का यह गोचर आपकी सभी परेशानियों को दूर करेगा और उत्साह व आत्मबल बढ़ाएगा। यह समय नया काम करने के लिए भी उत्तम रहेगा। इस दौरान आपको धैर्य से काम लेना होगा। भाई बहनों से लगातार संपर्क में रहें और किसी भी तरीके के टकराव या बहस से दूर रहें।

परेशानियों से बचने के लिए : उपाय - श्री गायत्री मंत्र का 108 बार ध्यान / पाठ करें।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned