scriptRituals: Why does the bride drop rice kalash while entering in house | रीति-रिवाज: दुल्हन घर में प्रवेश करते समय पैर से क्यों गिराती है चावल से भरा कलश? | Patrika News

रीति-रिवाज: दुल्हन घर में प्रवेश करते समय पैर से क्यों गिराती है चावल से भरा कलश?

बहू के घर में प्रवेश करते समय कई जगह चावल से भरा कलश रखा जाता है। जिसे दुल्हन अपने दाहिने पैर से गिराती है। जानिए क्या है इस रस्म के मायने।

नई दिल्ली

Updated: May 08, 2022 04:13:24 pm

Hindu Marriage Rituals: बहू के ससुराल में प्रवेश करते समय चावल से भरे कलश को गिराने की परंपरा प्राचील काल से ही चली आ रही है। गृह प्रवेश समारोह शादी के बाद की रस्मों का एक अभिन्न हिस्सा है। जहां विदाई समारोह दुल्हन के लिए काफी भावुक और तनावपूर्ण होता है। वहीं ये रस्म उसके तनाव को कम करने का काम करती है। इस रस्म को अधिकतर दूल्हे की मां द्वारा किया जाता है। गृह प्रवेश की रस्म दर्शाती है कि दूल्हे के परिवार वालों ने अपने दिल से दुल्हन का स्वागत किया है और उसे अपने परिवार के सदस्य के रूप में स्वीकार कर लिया है।
hindu rituals, marriage rituals, shadi rituals, hindu religion, marriage, शादी ब्याह की रस्में, grah parvesh rituals,
रीति-रिवाज: दुल्हन घर में प्रवेश करते समय पैर से क्यों गिराती है चावल से भरा कलश?

गृह प्रवेश रस्म विभिन्न क्षेत्रों में अलग-अलग तरीके से और अलग-अलग नामों के साथ की जाती है। गृह प्रवेश के दैरान दूल्हे के घर की महिलाएं प्रवेश द्वार पर खड़ी रहती हैं। फिर सास बहू-बेटे की आरती उतारती है और उन्हें तिलक लगाती है। जिसके बाद दूल्हा-दुल्हन सभी बड़े बुजुर्गों का आशीर्वाद लेते हैं। इस तरह से बहू घर परिवार का एक अहम हिस्सा बन जाती है।

बहू के घर में प्रवेश करते समय कई जगह चावल से भरा कलश रखा जाता है। जिसे दुल्हन अपने दाहिने पैर से गिराती है। फिर दाहिने पैर का उपयोग करते हुए घर में प्रवेश करती है। कई जगह दुल्हन को सिंदूर पाउडर या लाल कुमकुम या आल्टा युक्त पानी में पैरों को डुबोने के लिए भी कहा जाता है। ये लाल पैर के निशान बहू द्वारा सौभाग्य को ले आने को दर्शाते हैं। ये रस्म इस बात को दर्शाती है कि घर में धन और समृद्धि की देवी लक्ष्मी ने प्रवेश किया है।

कलश चावल अनुष्ठान का महत्व: हिंदू रीति-रिवाज में कलश लगभग हर पूजा पाठ में प्रयोग में लाया जाता है। ये एक बहुत ही महत्वपूर्ण पात्र या पूजा यंत्र है। वहीं चावल एक घटक है जिसे हिंदू परंपरा में बहुत ही शुभ माना जाता है। इसका भी प्रयोग हर पूजा-पाठ में किया जाता है। अत: चावल से भरा कलश धन की अधिकता का प्रतीक माना जाता है जिसे दुल्हन घर में लाने की उम्मीद करती है। जब दुल्हन घर के अंदर चावल कलश को धक्का देती है तो उसे घर के भीतर समृद्धि, धन और सौभाग्य का प्रतीक माना जाता है।

यह भी पढ़ें

सुबह बिस्तर छोड़ने से पहले इस मंत्र के जाप के साथ करें ये एक काम, बनी रहेगी सुख-समृद्धि

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

बड़ी खबरें

महाराष्ट्र की राजनीति में बड़ा उलटफेर: एकनाथ शिंदे ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ, देवेंद्र फडणवीस बने डिप्टी सीएमMaharashtra Politics: बीजेपी ने मौका मिलने के बावजूद एकनाथ शिंदे को क्यों बनाया सीएम? फडणवीस को सत्ता से दूर रखने की वजह कहीं ये तो नहीं!भारत के खिलाफ टेस्ट मैच से पहले इंग्लैंड को मिला नया कप्तान, दिग्गज को मिली बड़ी जिम्मेदारीAgnipath Scheme: अग्निपथ स्कीम के खिलाफ प्रस्ताव पारित करने वाला पहला राज्य बना पंजाब, कांग्रेस व अकाली दल ने भी किया समर्थनPresidential Election 2022: लालू प्रसाद यादव भी लड़ेंगे राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव! जानिए क्या है पूरा मामलाMumbai News Live Updates: शरद पवार ने किया बड़ा दावा- फडणवीस डिप्टी सीएम बनकर नहीं थे खुश, लेकिन RSS से होने के नाते आदेश मानाUdaipur Murder: आरोपियों को लेकर एनआईए ने किया बड़ा खुलासा, बढ़ी राजस्थान पुलिस की मुश्किल'इज ऑफ डूइंग बिजनेस' के मामले में 7 राज्यों ने किया बढ़िया प्रदर्शन, जानें किस राज्य ने हासिल किया पहला रैंक
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.