आज है शीतला अष्टमी का पर्व, जानिए इससे जुड़ी कुछ खास बातें

इस पर्व में चूल्हा न जलाने की परंपरा का पालन किया जाता है

By:

Updated: 08 Mar 2018, 03:23 PM IST

नई दिल्ली। दिनांक 09/03/2018 यानि कि आज शीतला अष्टमी है इसे बसौड़ा के नाम से भी जाना जाता है। शीतला अष्टमी का पालन चैत्र माह के कृष्ण पक्ष को किया जाता है और इस बार ये 09 मार्च को पड़ा है। चैत्र माह की कृष्ण पक्ष की अष्टमी को शीतला अष्टमी के रूप में मनाया जाता है। इस बार ये त्योहार 9 मार्च 2018 को यानि कि आज है। इस दिन का अपना विशेष महत्व है।

Shitla Ashtami

इस पर्व में चूल्हा न जलाने की परंपरा का पालन किया जाता है और इसलिए शीतला अष्टमी के एकदिन पहले ही खाना बनाकर रख दिया जाता है और बसौड़ा के दिन इसी बासी भोजन का सेवन किया जाता है।

शीतला माता का स्वरूप अत्यन्त शीतल और रोगो का निवारण करने वाला है। मां शीतला के हाथ में कलश, सूप, झाड़ू और नीम के पत्ते हैं। बता दें सबसे पहले स्कन्दपुराण में शीतला माता के बारे में जानने को मिला था।

Shitla Ashtami

शीतला अष्टमी के पर्व पर मां को बासी भोग लगाने और स्वयं बासी भोजन करने का ही चलन है।

कहा जाता है कि आप केवल इसी दिन आखिरीबार बासी खाना खा सकते हैं क्योंकि इसके बाद यानि कि शीतला अष्टमी के बाद बासी खाने के सेवन पर रोक लगा देना चाहिए, क्योंकि इसके बाद गर्मी की ऋतू आ जाती है और इस समय बासी खाने से तरह-तरह की बीमारियों और फूड प्वाईज़निंग का खतरा बना रहता है।

शीतला अष्टमी का ये पर्व ग्रीष्म काल के शुरूआत में ही पड़ता है, ऐसे में इस त्यौहार के माध्यम से लोगों को इस विषय में जागरूक किया जाता है कि गर्मी में किन चीजों का प्रयोग करना चाहिए और किन चीज़ों के प्रयोग से बचना चाहिए।

Shitla Ashtami

शीतला मां के हाथों में उपस्थित नीम के पत्तों से हमें ये संदेश मिलता है कि एंटीबायोटिक गुणों से युक्त नीम का प्रयोग गर्मी भर अवश्य रूप से करना चाहिए।

इस पूजा के पालन में स्वच्छता का ध्यान का विशेष रूप से ध्यान रखना चाहिए और यदि किसी के घर में चेचक की बीमारी हो तो उनके घर में शीतला अष्टमी का पालन नहीं किया जाना चाहिए।

आज शीतला अष्टमी की पूजा का शुभ मुहुर्त सुबह 6:41 मिनट से लेकर शाम के 6:21 मिनट तक है।

 

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned