साल में एक बार अमावस्या की रात यहां लगता है भूतों का मेला, देखने वालों के उड़ जाते हैं होश

साल में एक बार अमावस्या की रात यहां लगता है भूतों का मेला, देखने वालों के उड़ जाते हैं होश

Tanvi Sharma | Publish: Sep, 23 2018 06:27:31 PM (IST) | Updated: Sep, 23 2018 06:27:32 PM (IST) धर्म

साल में एक बार अमावस्या की रात यहां लगता है भूतों का मेला, देखने वालों के उड़ जाते हैं होश

आपने आज तक मेले का नाम सुना होगा लेकिन भूत-प्रेतों का मेला नहीं सुना होगा। यदि आपको असल में भूत-प्रेत देखना है तो आप अमावस्या की रात इस गांव में आ सकते हैं और भूत-प्रेतों की हरकतों को देख सकते हैं। अमवस्या की रात यहां भूतों का मेला लगता है। हम जिस जगह की बात कर रहे हैं वह मध्यप्रदेश के बैतूल जिले की है। यहां हर साल श्राद्धपक्ष की अमावस्या की रात को नर्मदा किनारे भूत-प्रेतों का मेला लगता है। इस अजीबो-गरीब मेले को देखने पहुंचे लोगों के होश उड़ जाते हैं। अमावस्या की रात को वहां का माहौल देखते ही रौंगटे खड़े हो जाते हैं। यहां मौजूद पेड़ों पर भूत-प्रेत का वास होता है। ऐसा कैसे आइए जानते हैं....

bhoot mela

दरअसल बैतुल में बंधारा नदी किनारे पर मलाजपुर के बाबा के समाधि स्थल है जिसके आसपास के पेड़ों की झुकी डालियां उलटे लटके भूत-प्रेत की याद ताजा करवा देती हैं। माना जाता है कि जिस व्यक्ति के शरीर में प्रेत-बाधा होती है उसके शरीर के अंदर से प्रेत बाबा की समाधि के एक दो चक्कर लगाने के बाद अपने आप उसके शरीर से निकल कर पास के किसी भी पेड़ पर उलटा लटक जाती है। भूत-प्रेत बाधा निवारण के लिए गुरु साहब बाबा के मंदिर पूरे भारत में विशेष रूप से प्रसिद्ध है। बाबा की समाधि के पूरे चक्कर लगाने के पहले ही बाबा के हाथ-पैर जोड़ कर मिन्नत मांगने वाला व्यक्ति का सर पटक कर कर माफी मांगने के लिए पेट के बल पर लोटने का सिलसिला तब तक चलता है जब तब कि उसके शरीर से वह तथाकथित भूत यानी कि अदृश्य आत्मा निकल नहीं जाती।

bhoot mela

समाधि पर जाते ही बोलने लगते हैं भूत-प्रेत

जिस किसी व्यक्ति को भूत-प्रेत लगे होते हैं उसे सबसे पहले बंधारा नदी में स्नान करवाया जाता है। उसके बाद पीड़ित व्यक्ति को गुरु साहब बाबा की समाधि पर लाया जाता है। जहां गुरु साहब बाबा के चरणों पर नमन करते ही पीड़ित व्यक्ति झूमने लगता है और उसके शरीर में एक अलग ही शक्ति आने लगती है जिससे उसकी सांसे तेज हो जाती है और आंखे लाल होकर एक जगह स्थिर हो जाती हैं। इतना होने के पश्चात जैसे ही बाबा की पूजा प्रक्रिया प्रारंभ होती है वैसे ही प्रेत-बाधा पीड़ित व्यक्ति के मुंह से अपने आप में परिचय देती है, पीड़ित व्यक्ति को छोड़ देने की प्रतिज्ञा करती है। इस अवस्था में पीड़ित आत्मा विभूषित हो जाती है और बाबा के श्री चरणों में दंडवत प्रणाम कर क्षमा याचना मांगता है। एक बात तो यहां पर दावे के साथ कही जा सकती है कि, प्रेत बाधा से पीड़ित व्यक्ति यहां आता है तो वह निश्चित ही यहां से प्रेत बाधा से मुक्त होकर ही जाते है।

 

bhoot mela

मकर संक्राति के बाद पूर्णिमा पर भी लगता है मेला

प्रतिवर्ष मकर संक्राति के बाद वाली पूर्णिमा को लगने वाले इस भूतों के मेले में आने वाले सैलानियों में देश-विदेश के लोगों की संख्या काफी होती है। यह मेला एक माह तक चलता है। ग्राम पंचायत मलाजपुर इसका आयोजन करती है। कई अंग्रेजों ने पुस्तकों एवं उपन्यासों तथा स्मरणों में इस मेले का जिक्र किया है। इन विदेशी लेखकों के किस्सों के चलते ही हर वर्ष कोई ना कोई विदेशी बैतूल जिले में स्थित मलाजपुर के गुरू साहेब के मेले में आता है।

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned