scriptChaitra Navratri 2022 First Day Puja Vidhi, Muhurat, Katha And Mantra | Happy Chaitra Navratri 2022: आज नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की होगी पूजा, जानिए पूजा की पूरी विधि और कथा | Patrika News

Happy Chaitra Navratri 2022: आज नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री की होगी पूजा, जानिए पूजा की पूरी विधि और कथा

Navratri First Day Maa Shailputri Puja Vidhi, Muhurat, Katha And Mantra: कहते हैं जो भक्त मां शैलपुत्री की सच्चे मन से आराधना करता है उसे मनोवांछित फल प्राप्त होता है। शैल का मतलब होता है पत्‍थर और पत्‍थर को दृढ़ता की प्रतीक माना गया है।

नई दिल्ली

Updated: April 02, 2022 07:16:33 am

Maa Shailputri Puja Vidhi, Katha, Muhurat And Mantra: नवरात्रि के प्रत्येक दिन मां अंबे के अलग स्वरूप की पूजा अर्चना की जाती है। पहले दिन की बात करें तो इस दिन माता के शैलपुत्री स्वरूप भी पूजा होती है। माता शैलपुत्री ने पर्वत राज हिमालय के घर जन्म लिया था। जिस कारण से उन्हें शैलपुत्री नाम से जाना गया। माता के इस स्वरुप का वाहन बैल है। माता का ये रूप करुणा और स्नेह का प्रतीक माना जाता है। जानिए कैसे करें मां के इस रूप की पूजा अर्चना, क्या है विधि, कथा और मंत्र।

Navratri, Navratri 2022, Navratri first day puja, mata shailputri puja vidhi, mata shailputri mantra, mata shailputri katha, navratri katha, नवरात्रि,
नवरात्रि के पहले दिन इस विधि से करे मां शैलपुत्री की पूजा, इन परेशानियों से मिलेगी मुक्ति

माता शैलपुत्री की पूजा विधि: नवरात्रि के पहले दिन कलश स्थापना करने के बाद देवी के इस स्वरूप की पूजा करें। सुबह सूर्योदय से पूर्व उठकर स्नान कर साफ वस्त्र धारण करें। पूजा स्थल पर लाल रंग का कपड़ा बिछाकर उस पर माता की प्रतिमा स्थापित करें। माँ को धुप दीप दिखाएं और उन्हें लाल रंग के फूल अर्पित करें। देवी माँ को फल और मिठाई का भोग लगाएं। अंत में माता शैलपुत्री के मंत्र का जाप करें।

माता शैलपुत्री के मंत्र:
-ॐ देवी शैलपुत्र्यै नमः॥
-वन्दे वाञ्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्।
वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्॥
-स्तुति: या देवी सर्वभू‍तेषु माँ शैलपुत्री रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:॥

माता शैलपुत्री की पवित्र कथा: पौराणिक कथा अनुसार एक बार राजा दक्ष प्रजापति के आगमन पर उनके स्वागत के लिए वहां मौजूद सभी लोग खड़े हुए, लेकिन भगवान शंकर अपने स्थान पर बैठे रहे। राजा दक्ष को भगवान शिव की यह बात अच्छी नहीं लगी। कुछ समय बाद दक्ष ने अपने निवास पर एक यज्ञ का आयोजन किया, जिसमें उन्होंने सभी देवी-देवताओं निमंत्रण दिया लेकिन अपनी पुत्री के पति भगवान शिव को वहां आमंत्रित नहीं
किया।
सती ने भगवान शिव से अपने पिता द्वारा आयोजित यज्ञ में जाने की इच्छा ज़ाहिर की। सती के आग्रह पर भगवान शिव ने उन्हें जाने की अनुमति दे दी। जब सती यज्ञ में पहुंचीं तो केवल उनकी मां से ही स्नेह प्राप्त हुआ। वहां उनकी बहनों की बातें उपहास के भाव से भरी थी। सती के पिता दक्ष ने भरे यज्ञ में भगवान शंकर के लिए अपमानजनक शब्द कहे।
सती ने जब अपने पिता के मुख से अपने पति यानी भगवान शिव के लिए कठोर बातें सुनी, तो वो अपने पति का अपमान सहन नहीं कर पाई और यज्ञ वेदी मे कूदकर उन्होंने अपने प्राण त्याग दिए। सती का अगला जन्म शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में हुआ और वे शैलपुत्री कहलाईं। शैलपुत्री का विवाह भी भगवान शिव से हुआ था।
यह भी पढ़ें

चैत्र नवरात्र घटस्थापना की 20 जरूरी सामग्री, विधि, शुभ मुहूर्त और मंत्र सबकुछ यहां जानिए

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

BJP राष्ट्रीय पदाधिकारी बैठक: PM नरेंद्र मोदी ने दिया 'जीत का मंत्र', जानें प्रधानमंत्री के संबोधन की बड़ी बातेंबिहार में बारिश व वज्रपात से 37 लोगों की मौत, जानिए बिहार में क्यों गिरती है इतनी आकाशीय बिजली?Pegasys Spyware Case: सुप्रीम कोर्ट ने जांच समिति का कार्यकाल 4 हफ्ते बढ़ाया, अब जुलाई में होगी सुनवाईRaj Thackeray Ayodhya Visit: राज ठाकरे की अयोध्या यात्रा स्थगित, पांच जून को रामलला का दर्शन करने वाले थे मनसे प्रमुखलालू के ठिकानों पर CBI Raid; सामने आई RJD की पहली प्रतिक्रिया, मात्र 5 शब्द में पूरे सिस्टम को लपेटाअनिल बैजल के इस्तीफे के बाद कौन होगा दिल्ली का उपराज्यपाल? चर्चा में हैं ये 5 नामRoad Rage Case: नवजोत सिंह सिद्धू ने सरेंडर के लिए कोर्ट से मांगा वक्त, खराब सेहत को बताया कारणबेंगलुरू हवाईअड्डे को बम से उड़ाने की धमकी, अधिकारियों ने शुरू की जांच
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.