अष्टमी के दिन पूजा के बाद जरुर करें ये आरती, पूरी होगी आपकी आराधना

अष्टमी के दिन पूजा के बाद जरुर करें ये आरती, पूरी होगी आपकी आराधना

Tanvi Sharma | Publish: Oct, 05 2019 03:25:35 PM (IST) धर्म

अष्टमी के दिन पूजा के बाद जरुर करें ये आरती, पूरी होगी आपकी आराधना

नवरात्रि के आंठवे दिन देवी दुर्गा के महागौरी स्वरुप की पूजा की जाती है। इस दिन पूजा करने से देवी मां अपने भक्तों की सभी मनोकामना पूरी करती हैं। महागौरी की पूजा करने से जातकों को विवाह संबंधी समस्याएं नहीं आती, इसके साथ ही संतान प्राप्ति के लिये भी देवी के इस स्वरूप की सच्चे मन से पूजा करनी चाहिए।

 

यदि आप अष्टमी के दिन विधइ-विधान से पूजा कर रहे हैं तो मां अंम्बे की इस आरती के साथ पूजा का समापन करें। पूजा संपूर्ण कहलाएगी और शुभ परिणाम मिलेंगे। आइए जानते हैं अष्टमी के दिन कौन सी आरती करना चाहिए....

पढ़ें ये खबर- दशहरा 2019: शस्त्र पूजन करते समय इन बातों का रखें विशेष ध्यान, जानें पूजा विधि

maa ambe aarti in hindi

अम्बे मां आरती

जय अम्बे गौरी मैया जय मंगल मूर्ति ।
तुमको निशिदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिव री॥जय॥

मांग सिंदूर बिराजत टीको मृगमद को ।
उज्ज्वल से दोउ नैना चंद्रबदन नीको॥जय॥

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजै।
रक्तपुष्प गल माला कंठन पर साजै॥जय॥

केहरि वाहन राजत खड्ग खप्परधारी ।
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुःखहारी॥जय॥

कानन कुण्डल शोभित नासाग्रे मोती ।
कोटिक चंद्र दिवाकर राजत समज्योति॥जय॥

शुम्भ निशुम्भ बिडारे महिषासुर घाती ।
धूम्र विलोचन नैना निशिदिन मदमाती॥जय॥

चौंसठ योगिनि मंगल गावैं नृत्य करत भैरू।
बाजत ताल मृदंगा अरू बाजत डमरू॥जय॥

भुजा चार अति शोभित खड्ग खप्परधारी।
मनवांछित फल पावत सेवत नर नारी॥जय॥

कंचन थाल विराजत अगर कपूर बाती ।
श्री मालकेतु में राजत कोटि रतन ज्योति॥जय॥

श्री अम्बेजी की आरती जो कोई नर गावै ।
कहत शिवानंद स्वामी सुख-सम्पत्ति पावै॥जय॥

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned