जानते हैं क्या? साल में दो बार मनाई जाती है ईद

जानते हैं क्या? साल में दो बार मनाई जाती है ईद

Pawan Tiwari | Updated: 04 Jun 2019, 01:23:45 PM (IST) धर्म

जानते हैं क्या? साल में दो बार मनाई जाती है ईद

चांद के दीदार होने के बाद पूरे देश में ईद मनाई जाएगी। हम सभी जानते हैं कि ईद का त्यौहार मुस्लिम समाज के लोगों के लिए पाक त्यौहार होता है। इस त्यौहार को मुस्लिम समाज के लोग बड़ी धूम-धाम से मनाते हैं लेकिन क्या आप जानते हैं कि ईद साल में दो बार मनाई जाती है। अगर नहीं तो हम आपको बताते हैं।

दरअसल, इस्लामिक कैलेण्डर के अनुसार, साल में दो ईद आती है। एक ईद-उल-जुहा तो दूसरा ईद-उल-फितर। ईद-उल-जुहा को बकरीद के नाम से जाना जाता है जबकि रमजान के 30वें रोज चांद को देखकर ईद-उल-फितर मनाई जाती है। ईद-उल-फितर रमजान महीने के आखिरी दिन मनाया जाता है।

Eid

कहा जाता है कि 624 ईस्वी में पहली बार ईद-उल-फितर मनाई गई थी। बताया जाता है कि पैगम्बर हजरत मुहम्मद के युद्ध में विजय प्राप्त करने की खुशी में मनाई गई थी। तभी से ईद-उल-फितर यानि कि ईद मनाई जाती है। इस दिन मुस्लिम समाज के लोग सुबह उठकर मस्जिदों में नमाज अदा करते हैं, इसके बाद एक दूसरे गले मिलकर ईद मुबारकबाद देते हैं। कहा जाता है कि इस दिन ऐसा करने आपसी प्रेम और भाईचारे की भावना बढ़ती है।

Eid

वहीं, ईद-उल-जुहा बकरीद को कहा जाता है। इसका मतलब कुर्बानी होता है। मुस्लिम धर्म के लोगों के लिए यह त्यौहार बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। यह त्यौहार रमजान खत्म हो जाने को 70 दिनों के बाद मनाया जाता है। बताया जाता है कि इस दिन हजरत इब्राहिम साहब अपने बेटे की कुर्बानी देने को तैयार हो गए थे। कहा जाता है कि अल्लाह उनके बेटे को जीवनदान दे दिया था। तब ही से हजरत इब्राहिम साहब के बेटे की याद में बकरीद मनाई जाती है

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned