शनि की साढ़ेसाती और ढैय्या से हैं परेशान तो आज ही गले में धारण करें ये माला

जिन लोगों पर शनि की साढ़े साती या ढैय्या का असर है, उन्हें शनि दोष की शांति के लिए कुछ उपाय करना चाहिए।

By: Devendra Kashyap

Updated: 26 Jan 2020, 06:25 PM IST

24 जनवरी को शनि का राशि परिवर्तन हो गया है। शनि धनु राशि से मकर राशि में पहुंच चुके हैं। ज्योतिष के जानकारों के अनुसार, शनि का राशि परिवर्तन प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष तौर पर कई राशियों को प्रभावित कर रहा है। एक तरफ वृश्चिक से साढ़े साती समाप्त हो गया है। इसके साथ ही कन्या राशि से शनि के ढैय्या खत्म हो गई है। वहीं मकर के लिए मध्य और कुंभ के लिए चढ़ती साढ़े साती का प्रभाव रहेगा।


ऐसे में कुछ राशियों पर शनि का असर रहेगा। जिन लोगों पर शनि की साढ़े साती या ढैय्या का असर है, उन्हें शनि दोष की शांति के लिए कुछ उपाय करना चाहिए। आज हम आपको कुछ उपाय बताने जा रहे हैं। माना जाता है कि इन उपायों में एक भी उपाय करने से शनि शांत हो सकते हैं...

माना जाता है कि शनिवार के दिन लाल चंदन की माला को अभिमंत्रित कर के पहनने से शनि का अशुभ प्रभाव कम हो जाता है।

शमी वृक्ष की जड़ को अभिमंत्रित करवा कर काले धागे में बांधकर गले या बाजू में धारण करने से भी शनिदेव प्रसन्न हो जाते हैं।

मान्यता है कि बिच्छू घास की जड़ को अभिमंत्रित करवा कर काले धागे में धारण करने से भी शनि संबंधी सभी तरह की परेशानियां दूर हो जाती है।

इसके अलावे शनिवार के दिन सुबह-सुबह पीपल पर जल चढ़ाने और दीपक लगाने से भी शनिदेव प्रसन्न हो जाते हैं।

 

 

माना जाता है कि इन उपायों में से किसी एक उपाय को करने से शनिदेव प्रसन्न रहते हैं और साढ़े साती और ढैय्या का प्रभाव कम हो जाता है। जिन जातकों पर शनि की साढ़े साती और ढैय्या का असर है, उन्हें एक बार इस उपाय को जरूर करना चाहिए। ध्यान रखें कि इस उपाय को करने से पहले एक बार ज्योतिष के जानकार से सलाह अवश्य लें।

Show More
Devendra Kashyap
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned