शनि जयंती 2019 : शिव की कृपा से शनि बने थे दंडाधिकारी

शनि जयंती 2019 : शिव की कृपा से शनि बने थे दंडाधिकारी

Pawan Tiwari | Updated: 02 Jun 2019, 12:23:21 PM (IST) धर्म

शनि जयंती 2019 : शिव की कृपा से शनि बने थे दंडाधिकारी

पौराणिक कथाओं के अनुसार, शनिदेव को न्याय का देवता कहा जाता है। कहा जाता है कि शनिदेव न्याय करते वक्त न तो डरते हैं, न ही किसी से प्रभावित होते हैं। लेकिन क्या आप लोग जानते हैं शनिदेव दंडाधिकारी कैसे बने थे, नहीं... तो आइये जानते है....

intresting fact of  <a href=Shanidev and shiv" src="https://new-img.patrika.com/upload/2019/06/02/surya_nanna111_4654636-m.jpg">

शनिदेव सूर्य देव और संवर्णा (छाया) के पुत्र हैं। हिन्दू शास्त्रों में शनिदेव को क्रूर ग्रह की संज्ञा दी गई है। कहा जाता है कि शनिदेव मनुष्य को उसके पाप और बुरे कर्मों का दंड देते हैं।

intresting fact of shanidev and shiv

पौराणिक कथाओं के अनुसार, शनि की उदंडता से सूर्यदेव इतना परेशान थे कि उन्होंने भगवान शिव को समझाने को कहा। भगवान शिव ने शनि को बहुत ही समझाने की कोशिश की लेकिन शनि नहीं माने। शनि के मनमानी से भगवान शिव भी परेशान हो गए। उसके बाद महादेव ने शनि को दंडित करने का फैसला लिया।

intresting fact of shanidev and shiv

कथा के अनुसार, भगवान शिव ने शनि के मनमानी से परेशान होकर उन पर प्रहार किया। भगवान शिव के प्रहार से शनिदेव अचेत हो गए। ऐसा देखकर सूर्यदेव पुत्र मोह में आकर शनि के जीवन की प्रार्थना भगवान शिव से की। उसके बाद भगवान ने शिव ने शनि को माफ कर दिया। कहा जाता है कि सूर्यदेव के आग्रह पर भगवान शिव ने शनि को अपना शिष्य बना लिया।

intresting fact of shanidev and shiv

उसके बाद शिव ने शनि को दंडाधिकारी बना दिया। कहा जाता है शनि कर्मों के आधार पर सबको दंडित करते हैं। माना जाता है कि शनि न्यायाधीश की भांति जीवों को दंड देकर भगवान शंकर का सहयोग करने लगे।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned