देवभूमि की सिद्धपीठ: कालीशिला: यह है मां भगवती के सबसे ताकतवर और शक्तिशाली मंदिरों में से एक

कालीशिला मंदिर: जहां बालिका के रूप में प्रकट हुईं देवी मां...

By: दीपेश तिवारी

Updated: 31 Jan 2021, 06:09 PM IST

देश दुनिया में हिंदुओं की आस्था के प्रतीक अनेक मंदिर मौजूद हैंं। सनातन धर्म में जहां देवताओं की पूजा का विधान है, वहीं शक्ति के रूप में देवी मां को माना गया है, जिनके अनेक रूपों का भी वर्णन तो है ही वहीं देवी माता की सिद्ध पीठ भी हैं।

इन्हीं में से कुछ सिद्ध पीठ देवभूमि उत्तराखंड में भी मौजूद हैं। ऐसे में आज हम आपको एक ऐसी सिद्धपीठ के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसके संबंध में मान्यता है कि यहीं देवी ने 12 साल की कन्या के रूप में जन्म लिया था।

कालीशिला मंदिर: जहां बालिका के रूप में प्रकट हुईं देवी मां...
कहते हैं कि उत्तराखंड के कालीशिला में मां भगवती ने 12 साल की कन्या के रूप में जन्म लिया था और शुंभ निशुंभ का संहार किया था। वहीं देवभूमि उत्तराखंड में एक प्रमुख सिद्धपीठ है कालीमठ मंदिर। जिस पर लोगों की अटूट आस्था है और इसी वजह से हर साल बड़ी संख्या में भक्त कालीमठ मां के दर्शनों के लिए पहुंचते हैं।

यह मंदिर रुद्रप्रयाग जिले में स्थित है। मान्यता है कि राक्षसों के आतंक से परेशान देवताओं ने मां भगवती की अराधना और तपस्या की। जिसके बाद मां ने देवताओं ने राक्षसों से मुक्ति दिलाई थी।

क्रोध के कारण मां का शरीर काला पड़ गया। मां ने शुंभ-निशुंभ और रक्तबीज का वध किया था और कालीशिला में 12 साल की बालिका के रूप में प्रकट हुई।

समुद्र तल से 3463 मीटर की ऊंचाई पर स्थित कालीशिला मंदिर में सालभर लोगों का तांता लगा रहता है। ये मंदिर भारत के प्रमुख सिद्ध और शक्तिपीठों में एक है।

कालीशिला मंदिर साधना की दृष्टि से भी महत्वपूर्ण है। ये स्थान विंध्याचल की मां कामख्या और जालंधर की ज्वाला मां के समान ध्यान और तंत्र के लिए अत्यंत ही उच्च कोटि का कहा जाता है।

स्कन्दपुराण में वर्णन
स्कन्दपुराण के केदारखंड में 62 अध्याय में मां काली के मंदिर का वर्णन है। कालीमठ मंदिर से 8 किलोमीटर की खड़ी ऊंचाई पर एक दिव्य शिला है जिसे कालीशिला के नाम से जाना जाता है। यहां इस शिला में आज भी देवी काली के पैरों के निशान मौजूद हैं।

कालीशीला के बारे में मान्यता है कि मां भगवती ने शुम्भ, निशुम्भ और रक्तबीज दानव का वध करने के लिए कालीशीला में 12 साल की बालिका के रूप धारण किया। कालीशीला में देवी के 64 यन्त्र है। मां दुर्गा को इन्ही 64 यंत्रो से शक्ति मिली थी। कहा जाता है कि इस जगह पर 64 योगिनियां विचरण करती रहती हैं।

सिद्पीठ कालीमठ से करीब 4 किलोमीटर की खड़ी चढ़ाई चढ़ने के बाद कालीशिला आता है। इसे भगवती के सबसे ताकतवर और शक्तिशाली मंदिरों में से एक कहा जाता है। स्कंद पुराण के अंतर्गत केदारखंड के बासठवें अध्याय में मां के इस मंदिर का वर्णन है।

रुद्रशूल नामक राजा की ओर से यहां शिलालेख स्थापित किए गए हैं जो बाह्मी लिपि में लिखे गए हैं। इन शिलालेखों में भी इस मंदिर का पूरा वर्णन है। इस मंदिर की स्थापना शंकराचार्य ने की थी।

यहां मां काली ने रक्तबीज राक्षस का संहार किया था। इसके बाद देवी मां इसी जगह पर अंर्तध्यान हो गई थीं। आज भी यहां पर रक्तशिला, मातंगशिला व चंद्रशिला स्थित है। धर्म के जानकारों का भी मानना है उत्तराखंड का ये वो शक्तिपीठ है, जिसकी तुलना किसी से नहीं की जा सकती।

Show More
दीपेश तिवारी
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned