scriptMaha Shivratri 2022 worship auspicious time and puja method | महाशिवरात्रि पर ऐसे करें भगवान शिव को प्रसन्न, जानें शिव पूजा का शुभ मुहूर्त | Patrika News

महाशिवरात्रि पर ऐसे करें भगवान शिव को प्रसन्न, जानें शिव पूजा का शुभ मुहूर्त

MahaShivratri 2022- भगवान शिव को समर्पित महाशिवरात्रि का त्यौहार फाल्गुन कृष्ण मास की चतुर्दशी को मनाया जाता है।

Published: February 20, 2022 02:22:47 pm

maha shivratri 2022 : भगवान शिव को साल में सबसे प्रमुख त्यौहार महाशिवरात्रि का माना जाता है। यूं तो हर माह मासिक शिवरात्रि का भी त्यौहार आती है, लेकिन फाल्गुन कृष्ण मास की चतुर्दशी को मनाया जाने वाला महाशिवरात्रि पर्व अति विशेष माना गया है। इसका कारण यह है कि हिंदू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इसी तिथि को भगवान शिव का माता पार्वति के साथ विवाह हुआ था।

Maha shivratri Special 2022
Maha shivratri Special 2022

भगवान शिव को समर्पित है महाशिवरात्रि (महा शिवरात्रि 2022) का त्यौहार को लेकर ये भी धार्मिक मान्यता है कि इस दिन भगवान शिव ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट होते हैं। ऐसे में, महाशिवरात्रि के दिन, भक्त उपवास रखने के साथ ही भगवान शिव का का आशीर्वाद पाने के लिए उनकी पूजा करते हैं।

भगवान शिव के दयालु और भोले होने के कारण ही उन्हें भोलेनाथ भी कहा जाता है, ऐसे में भगवान शिव केवल भक्तों की सच्ची भक्ति और एक लोटा पानी से ही प्रसन्न हो जाते हैं।

Maha <a href=Shivratri 2022" src="https://new-img.patrika.com/upload/2022/02/20/maha_shivratri_2022_7352034-m.jpg">

पंडित एसके उपाध्याय के अनुसार भगवान शिव को अनेक नामों से जाना जाता है। वहीं पौराणिक ग्रंथों में भगवान शिव के 108 नामों का उल्लेख है। जिनके संबंध में माना जाता है कि भगवान शिव के इन नामों का नियमित रूप से जाप करने वाले भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं। अत: माना जाता है कि महाशिवरात्रि पर भगवान शिव के इन 108 नामों का जाप अवश्य करना चाहिए। ध्यान रहे कि इस साल यानि 2022 में मंगलवार, 1 मार्च को महाशिवरात्रि का पर्व है।

महाशिवरात्रि 2022 : शिव पूजा का शुभ मुहूर्त
शिवरात्रि चतुर्दशी तिथि मंगलवार, 01 मार्च की सुबह 03 बजकर 16 मिनट से बुधवार, 02 मार्च की मध्य रात 01 बजे तक रहेगी। इस दौरान पंचग्रहों के संयोग से कई शुभ योग का निर्माण हो रहा हैं। पंडित उपाध्याय के अनुसार इस बार शिवरात्रि पर धनिष्ठा नक्षत्र में परिधि नामक योग रहेगा और इस योग के बाद शतभिषा नक्षत्र शुरू हो जाएगा। जबकि परिध योग के ठीक बाद से शिव योग भी शुरू हो जाएगा। वहीं शिव पूजन के समय केदार योग का निर्माण होगा।

ऐसे करें महाशिवरात्रि पर भगवान शिव की पूजा-
मान्यता के अनुसार महाशिवरात्रि (Maha Shivratri 2022) के दिन भगवान भोलेनाथ व माता पार्वती (BholeNath And Parvati Puja) की विधि-विधान से पूजा, भक्तों के समस्या व दुख दूर करती हैं और भगवान शंकर भक्तों की समस्त मनोकामनाएं भी पूरी करते हैं।

Must Read- यहां हुआ था शिव-पार्वती का विवाह, फेरे वाले अग्निकुंड में आज भी जलती रहती है दिव्य लौ

land_of_lord_shiv_parvati_marriage_-_ancient_temple_of_india_where_lord_shiva_and_goddess_parvati_marriage_completed_here.jpg

शिवरात्रि के दिन शिवलिंग (Shivling) के अभिषेक के संबंध में माना जाता है कि इस दिन अभिषेक के दौरान शिवलिंग पर सर्वप्रथम पंचामृत (गाय का दूध, गंगाजल, पिसी मिश्री, शहद, और गाय के घी से बना हुआ मिश्रण) अर्पित करना चाहिए। भगवान शिव का आशीर्वाद पाने के लिए महाशिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर इन चीजों को अर्पित करनी चाहिए।

1. बिल्व पत्र: इस दिन भगवान शिव (Lord Shiva) की पूजा में बिल्वपत्र और अभिषेक का विशेष स्थान है। मान्यता के अनुसार भोलेनाथ को बिल्वपत्र चढ़ाना और एक करोड़ कन्याओं का कन्यदान का फल एक सामान होता है। वहीं बिल्वपत्र (तीन पत्तियां वाले बिना कटे फटे) को महाशिवरात्रि के दिन इस मंत्र के साथ अर्पित करना चाहिए-

त्रिदलं त्रिगुणकरं त्रिनेत्र व त्रिधायुतम।
त्रिजन्म पाप संहार बिल्व पत्रं शिवार्पणम।।

2. भांग: शास्त्रों के अनुसार भगवान शिव द्वारा हलाहल विष को पीकर उसे गले में रोक लिया गया था, इस विष के प्रभाव को रोकने के लिए औषधि के रूप में भांग का उपयोग किया गया। इसी कारण ये माना जाता है कि भगवान शिव को भांग बेहद प्रिय है।

Must Read- भगवान शिव के साथ हमेशा जुड़ी रहती हैं ये चीजें

special_things_of_lord_shiv_which_always_with_him.jpg

ऐसे में मान्यता है कि महाशिवरात्रि के दिन भांग के पत्ते पीसकर दूध या जल में घोलकर भगवान का अभिषेक करने से जातक को रोग दोष से मुक्ति मिलती है।

3. धतूरा: भांग के समान ही धतूरे को भी औषधिगुण के तहत भगवान शिव पर चढ़ाया जाता है। दरअसल भगवान शिव पर चढ़े विष के प्रभाव को कम करने के लिए धतूरा अर्पित किया जाता है। ऐसे में महाशिवरात्रि के दिन खासतौर से भगवान शिव को धतूरा अर्पित किया जाता है। माना जाता है कि धतूरा अर्पित करने से जातक शत्रुओं के भय से दूर हो जाता है, साथ ही उसकी आर्थिक स्थिति भी मजबूत हो जाती है।

4. गंगाजल: धार्मिक ग्रंथों के अनुसार भगवान विष्णु के चरणों से निकली गंगा भगवान शिव जी की जटाओं से होती हुईं धरती पर उतरी हैं। इसी कारण सभी नदियों से गंगा नदी को अधिक पवित्र माना जाता है। माना जाता है कि भगवान शिव का अभिषेक गंगाजल से करने पर जातक को मानसिक शांति के साथ ही सुख की भी प्राप्ति होती है।

Must Read- भगवान शिव को प्रसन्न करने के सबसे सरल व आसान उपाय

easiest_way_to_make_happy_to_lord_shiva.jpg5. गन्ने का रस: गन्ने को मिठास और सुख का प्रतीक माना जाता है। जबकि शास्त्रों में गन्ने को पवित्र फल के रूप में माना गया है। इसके लेकर एक मान्यता ये भी है कि कामदेव का धनुष गन्ने से ही बना है। वहीं, देवप्रबोधनी एकादशी पर भगवान विष्णु और मां तुलसी की पूजा करने के लिए भी गन्ने का घर बनाया जाता है। माना जाता है कि शिवलिंग का अभिषेक गन्ने के रस से करने से जातक को धन-धान्य की प्राप्ति होती है।
महाशिवरात्रि 2022 में इस बार ये है विशेष-
इस बार की महाशिवरात्रि 2022 पर पंच ग्रहों के योग का महासंयोग और दो महाशुभ योग बन रहे हैं। इन महाशुभ योग को मनोरथ पूर्ण करने वाला माना है।
दरअसल मंगलवार को मकर राशि में शुक्र, मंगल, बुध, चंद्र, शनि के संयोग के साथ ही केदार योग का निर्माण भी होगा, जिसे पूजा उपासना के लिए विशेष कल्याणकारी माना जाता है। वहीं दूसरी ओर शिव पूजन का संयोग 28 फरवरी यानि सोमवार को प्रदोष से शुरू हो जाएगा। इसके चलते तीन दिनों तक विशेष पूजन अनुष्ठान होंगे।
Must Read- भगवान शिव का स्वरूप बाकी के देवताओं से बिल्कुल भिन्न क्यों?

lord_shiv_top_secrets_which_you_never_know.jpg

वहीं मंगलवार, 01 मार्च को महाशिवरात्रि और बुधवार 02 मार्च को अमावस्या होगी। इस दिन श्रद्धालु पूजन कर अनुष्ठान का समापन करेंगे।

पौराणिक ग्रंथों में ये हैं भगवान शिव के 108 नाम-
1. शिव: कल्याण स्वरूप 2. महेश्वर: माया के अधिश्वर 3. शंभू: 4 आनंदस्वरूपवाले। पिनाकी: पिनाका धनुष धरन कर्णवाले (धनुष धारण करने वाला)। शशि शेखर: चंद्रमा धरन कर्णवाले 6. वामदेव: अत्यंत सुंदर स्वरूपवाले (बेहद सुंदर) 7. विरुपाक्ष: विचित्र, तीन आंखवाले (विचित्र या तीन आंखों वाला)। कपार्डी: जटा धरन कर्णवाले 9. नीलोहित: नीले और लाल रंगवाले (नीला और लाल रंग वाला)

10. शंकर: सबका कल्याण कर्णवाले (सभी को आशीर्वाद देने वाला)। 11 शुलपानी: हाथ में त्रिशूल धरन कर्णवाले (जिसके हाथ में त्रिशूल है)। 12 खटवांगी: खटिया का एक पाया रखनेवाले.13 विष्णुवल्लभ: भगवान विष्णु के अति प्रिया (भगवान विष्णु के प्रिय) 14. शिपिविष्ट: सीतुहा में प्रवेश करनेवाले (सीतुहा में प्रवेश करने वाले) 15 अंबिकानाथ: देवी भगवती के पति (पति के पति) देवी भगवती) 16. श्रीकांत: सुंदर कंठवाले (एक सुंदर कंठवाले)।

Must read- भगवान शिव को प्रसन्न करते हैं ये मंत्र, मिलता है महादेव से मनचाहा आशीर्वाद

the_miraculous_mantras_of_lord_shiva.jpg

17 भक्तवत्सल: भक्तों को सत्यंत स्नेह करनेवाले (भक्तों को अत्यधिक स्नेह देने वाले।) 18 भाव: संसार के रूप में प्रकाश होनेवाले 19 शरवाहः कश्तों को नाश करनेवाले (दुखों का नाश करने वाले)। त्रिलोकेश: तीन लोकों के स्वामी (तीनों लोकों के स्वामी) 21. शितिकांत: सफेद कंठवाले (सफेद गले वाला) 22. शिवप्रिया: पार्वती के प्रिया (पार्वती की प्यारी) 23. उग्रा: अत्यंत उग्र रूपवाले (बेहद उग्र) 24. कपाली: कपल धरन कर्णवाले (खोपड़ी रखने वाला।) ।

25 कमारी: कामदेव के शत्रु, अंधकार को हरानेवाले (अंधेरे को हराने वाला) गंगाधर: गंगा को जटाओं में धारण करने वाले। जटाओं में गंगा को धारण करने वाला।) 28 लालताक्ष: माथे पर आंख धारण किए हुए (माथे पर एक आंख वाला।) 29 महाकाल: कलों के भी कल 30. कृपानिधि: करुणा की खान (जिसके पास करुणा है) 31. भीम: भयंकर या रुद्र रूपवाले। 32 परशुहस्ता: हाथ में फरसा धारण करनेवाले (हाथ में फरसा रखने वाला)। 33 मृगपानी: हाथ में हिरण धरन करनेवाले (हाथ में हिरण रखने वाले।) 34 जटाधार: जटा रखनेवाले 35. कैलाशवासी: कैलाश पर निवास करनेवाले (कैलाश पर रहने वाले)।

36. कवची: कवच धारण करने वाले 37. कठौर: अत्यंत मजबूत देहवाले (एक बेहद मजबूत शरीर के साथ)38. त्रिपुरांतक: त्रिपुरासुर का विनाश कर्णवाले (त्रिपुरासुर का विनाशक।) 39. वृषंक: बेल चिन्हा की ध्वजीवाले वृषभरुध: बैल पर सवार होनेवाले (जो बैल की सवारी करता है) 41. भस्मोधुलिटविग्रह: भस्म लगानवाले (भस्म लगाने वाला) 42. सम्प्रिया: समन से प्रेम करनेवाले 43. स्वरमयी: सातो स्वरों में निवास करनेवाले।

Must Read- जानें भगवान शिव क्यों कहलाए त्रिपुरारी

sanatan_dharma_-_why_lord_shiva_is_called_tripurari.jpg

44. त्रिमूर्ति: वेद्रोपी विग्रह कर्णवाले। 45. अनीश्वर: जो स्वयंम ही सबके स्वामी (सर्वोच्च भगवान) 46. सर्वज्ञ: सब कुछ जननेवाला (जो सब कुछ जानता है) 47. परमात्मा: सब आत्मो में सर्वोछा 48. सोमसूर्यग्निलोचन: चंद्र सूर्य और अग्निरूपी आंखवाले (चंद्रमा के साथ एक, सूर्य और अग्नि जैसी आंखें)।

49. हविही: आहुतिरूपी द्रव्यवाले। 50. यज्ञमय: यज्ञ स्वरूपवाले। 51. सोम: उमा के साहित्य रूपवाले। 52.पंचवक्त्र: पंच मुखवाले (पांच मुख वाले) 53. सदाशिव: नित्य कल्याण रूपवाले 54. विश्वेश्वर: विश्व के ईश्वर (विश्व के देवता) 55. वीरभद्र: वीर तथा शांता स्वरूपवाले (एक बहादुर और शांत स्वभाव के साथ। ) 56. गणनाथ: गनो के स्वामी (गणों के भगवान) 57. प्रजापति: प्रजा का पालनपोशन कर्णवाले (लोगों का पालन-पोषण करने वाले।) 58 हिरण्यरेता: स्वर्ण तेजवाले (सोने की तरह चमकने वाले।) 59. दुर्धूर्ष: किसी से ना हरनेवाले (अपराजेय)। 60.गिरीश: पर्वतों के स्वामी (पहाड़ों के भगवान)। 61. गिरीश्वर: कैलाश पर्वत पर रहनेवाले (कैलाश पर्वत पर रहने वाले।) 62. अनाघ: पाप्रहित या पुण्य आत्मा (पापरहित या पुण्य आत्मा) 63. भुजंगभूषण: सपोन या नागोन के भूषण धारण करनेवाले (वह जो सांप और नागों को पहनता है) आभूषण)।

64. भार्ग: पापो का नाश करनेवाले (पापों का नाश करने वाला) 65. गिरिधन्वा: मेरु पर्वत को धनुष बननेवाले (मेरु पर्वत का धनुष बनाने वाला)। 66. गिरप्रिया: पर्वत को प्रेम कर्णवाले (पहाड़ों से प्यार करने वाला) 67. कृतिकावास: गजचर्मा पेहनेवाले (हाथी की खाल पहनने वाला) 68. पुराणी: पूरोन का नैश कर्णवाले। 69. भगवान: सर्वसमर्थ ऐश्वर्यासम्पन्न 70. प्रमथधिप: प्रथम गणों के अधिपति (प्रथम गणों के शासक) 71. मृत्युंजय: मृत्यु को जीत्तेवाले (मृत्यु का विजेता)।

Must Read- इस आसान विधि से करें भगवान शिव व माता पार्वती की पूजा

how_can_you_please_lord_shiv_and_get_the_blessings.jpg

72.सूक्ष्मतनु: सुषमा शरिरवाले। 73. जगद्व्यापी: जगत में व्याप्त होकर रहने वाले। 74. जगतगुरु: जगत के गुरु। 75. व्योमेश: आकाशरूपी बालवाले 76. महासेनजनक: कार्तिकेय के पिता (कार्तिकेय के पिता) 77. चारुविक्रम: सुंदर परिक्रमावाले 78. रुद्र: उग्र रूपवाले 79. भूतपति: भूतप्रेत वा पंचभूतो के स्वामी (भूतों और पंचभूतों के स्वामी) 80. : स्पंदनराहित कूटस्थ रूपवाले। 81. अहिरबुदन्या: कुंडलिनी धरन कर्णवाले। 82. दिगंबर: नगना, आकाशरूपी वस्त्रवाले। 83. अष्टमूर्ति: आठ रूपवाले (आठ रूपों वाला एक)।

84. अनेकात्मा: अनेक आत्मावाले। (अनेक आत्माओं के साथ एक)। 85. सात्विक: सात्वा गुणवाले। 86. शुद्धविग्रह: दिव्यमूर्तिवाले (दिव्य एक)। 87. शाश्वत: नित्या रेनेवाले। (अनन्त जीवित प्राणी)। 88. खंडपरशु: टूटा हुआ फरसा धारण करनेवाले। 89. अजहा: जन्म राहत (जन्महीन) 90. पश्विमोचन: बंधन से चूड़ानेवाले (बंधन का मुक्तिदाता)।

91. मृदाः सुखस्वरूपवाले 92. पशुपतिः पाहुओं के स्वामी (पशुओं के भगवान) 93. देव: स्वयं प्रकाशरूप 94. महादेव: देवों के देव (देवताओं के देवता)। 95. अव्यय: करचा होने पर भी ना घाटनेवाले (एक जो खर्च करने पर भी कम नहीं होता)। 96. हरि: विष्णु समरूपी 97.पुषदंतभीत: पूषा के दाता उखड़नेवाले। 98. अव्यग्रहः व्यथित ना होनेवाले (अप्रतिबंधित) 99. दक्षध्वरहारः दक्ष के यज्ञ का नैश करनेवाले (दक्ष के यज्ञ का नाश करने वाला)।

Must Read- भगवान शिव के चमत्कारों से भरे ये स्थान, देखकर आप भी रह जाएंगे हैरान

these_places_filled_with_the_wonders_of_lord_shiva.jpg

100. हर: पापोन को हरनेवाला (पापों का नाश करने वाला) 101. भगनेत्रभिद: भाग देवता की आंख फोडनेवाले। 102. अव्यक्त: इंद्रियों के सामने प्रकाश ना होनेवाले (वह जो इंद्रियों के सामने प्रकट नहीं होता)। 103.सहस्त्रक्ष: अनंत आंखवाले (अनंत आंखों वाला)। 104.सहस्रपद: अनंत जोड़ीवाले (अनंत पैरों वाला एक)। 105. अपवर्गप्राड: मोक्ष देनेवाले (मोक्ष के दाता) 106.अनंत: देशकल वास्तुरूपी पारिच से राहत । 107. तारक: तरनेवाले 108. परमेश्वर: प्रथम ईश्वर।

17 फरवरी से बिखरेंगे फाल्गुन के रंग
हमेशा की तरह इस बार भी फाल्गुन मास में महाशिवरात्रि के साथ ही अन्य पर्वों के रंग भी बिखरेंगे। ऐसे में फाल्गुन मास जो 17 फरवरी 2022 से 18 मार्च 2022 तक रहेगा, में तीज-त्योहारों के अनेक रंग देखने को मिलेंगे। हिंदू कैलेंडर के अनुसार इस माह में भगवान विष्णु और भगवान शंकर से जुड़े दो विशेष पर्व आते हैं।

इनमें कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को महाशिवरात्रि और फाल्गुन शुक्ल एकादशी को भगवान विष्णु के पूजन का दिन आमलकी एकादशी व्रत होगा। 01 मार्च को शिवरात्रि, 02 मार्च को फाल्गुन अमावस्या, 4 मार्च को फुलैरा दूज, 14 मार्च को आमलकी एकादशी और 17 मार्च को होलिका दहन होगा। इसके बाद 18 मार्च को रंगों का पर्व धुलेंडी यानि रंगों से खेलने वाली होली पर्व मनाया जाएगा।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

नाम ज्योतिष: ससुराल वालों के लिए बेहद लकी साबित होती हैं इन अक्षर के नाम वाली लड़कियांभारतीय WWE स्टार Veer Mahaan मार खाने के बाद बौखलाए, कहा- 'शेर क्या करेगा किसी को नहीं पता'ज्योतिष अनुसार रोज सुबह इन 5 कार्यों को करने से धन की देवी मां लक्ष्मी होती हैं प्रसन्नइन राशि वालों पर देवी-देवताओं की मानी जाती है विशेष कृपा, भाग्य का भरपूर मिलता है साथअगर ठान लें तो धन कुबेर बन सकते हैं इन नाम के लोग, जानें क्या कहती है ज्योतिषIron and steel market: लोहा इस्पात बाजार में फिर से गिरावट शुरू5 बल्लेबाज जिन्होंने इंटरनेशनल क्रिकेट में 1 ओवर में 6 चौके जड़ेनोट गिनने में लगीं कई मशीनें..नोट ढ़ोते-ढ़ोते छूटे पुलिस के पसीने, जानिए कहां मिला नोटों का ढेर

बड़ी खबरें

अब तक 11 देशों में मंकीपॉक्स : शुक्रवार को WHO की इमरजेंसी मीटिंग, भारत में अलर्ट, अफ्रीकी वैज्ञानिक हैरानMP में ओबीसी आरक्षण: जिला पंचायत 30, जनपद 20 और सरपंचों को 26 फीसदी आरक्षणInflation Around the World: महंगाई की मार, भारत से ज्यादा ब्रिटेन और अमरीका हैं लाचारसावधान! अब हेलमेट पहनने के बावजूद कट सकता है 2 हजार रुपये का चालान, बाइक चलाने से पहले जान लें नया नियमIPL 2022 RR vs CSK: चेन्नई को हरा टॉप 2 में पहुंची राजस्थानIPL 2022 Point Table: गुजरात और राजस्थान ने प्लेऑफ में टॉप 2 में जगह की पक्की, आरसीबी-मुंबई दिल्ली भरोसेबैंक में डाका डालने से पहले चोरों ने की विधिवत पूजा, फिर लॉकर से उड़ा ले गए गहने और कैशOla-Uber की मनमानी पर लगेगी लगाम! CCPA ने अनुचित व्यवहार पर भेजा नोटिस, 15 दिन में नहीं दिया जवाब तो हो सकती है कार्रवाई
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.