शरद पूर्णिमा का धार्मिक ही नहीं, वैज्ञानिक महत्व भी जानिये

शरद पूर्णिमा का धार्मिक ही नहीं, वैज्ञानिक महत्व भी जानिये

Devendra Kashyap | Updated: 12 Oct 2019, 11:05:47 AM (IST) धर्म

शरद पूर्णिमा के दिन चंद्रमा से कुछ विशेष दिव्य गुण प्रवाहित होते हैं।

13 अक्टूबर ( रविवार ) को शरद पूर्णिमा है। इस दिन चंद्रमा 16 कलाओं से परिपूर्ण रहता है। पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, इस दिन चंद्रमा से कुछ विशेष दिव्य गुण प्रवाहित होते हैं। यही कारण है कि इसे कोजागरी या रस पूर्णिमा भी कहा जाता है।

sharad_purnima_2019.jpg

धार्मिक मान्याओं के अनुसार, शरद पूर्णिमा के दिन कई वैद्य जीवन रक्षक विशेष औषधियों का निर्माण करते हैं। कहा ये भी जाता है कि दशहरा से लेकर पूर्णिमा तक चंद्रमा से विशेष प्रकार का रस झरता है, जिसे बोलचाल की भाषा में अमृत कहा जाता है, जो अनेक रोगों में संजीवनी की तरह काम करता है।

sharad_purnima_kheer.jpg

यही कारण है कि शरद पूर्णिमा के रात खीर बनाकर छत पर राखी जाती है ताकि वह औषधि रूप धारण कर सके। कहा जाता है कि जब चंद्रमा की किरणें खीर पर पड़ती है तो वह अमृतमय औषधी के रूप में काम करती है। बताया जाता है यह खीर मलेरिया और दमा में विशेष तौर पर काम करती है।

eye.jpg

वहीं, अगर वैज्ञानिक दृष्टि से बात किया जाए तो पूर्णिमा की रात बहुत लाभकारी होता है। दरअसल, इस दिन मौसम बदलता है और शीत ऋतु की शुरुआत होती है। यही कारण है कि इस दिन के बाद गर्म तासीर वाले खाद्य पदार्थ का सेवन करना शुरू हो जाता है।

Show More
खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned