कोरोना से निपटने बनाए गए 6 वेंटीलेटर, 18 आइसोलेशन व 12 करंट केयर वार्ड

जिले में लॉक डाउन के दौरान इमर्जेंसी में एसजीएमएच सहित सरकारी-गैर सरकारी अस्पताल आरक्षित, एम्बुलेंस सहित निजी वाहन लगाए जाएंगे

रीवा. जिले की २६ लाख लोगों की सेहत की सुरक्षा को लेकर तैैयारियां तेज हो गई हैं। कोरोने से लडऩे के लिए फौरीतार पर 6 वेंटीलेटर और लगभग 18 आइसोलेशन व इतनी ही संख्या में करंट केयर वार्ड बनाए हैं। जिला अस्पताल में फौरीतौर पर 8 बेड आइसोलेशन के हैं। जबकि डिहिया में 12 बेड का करंट केयर वार्ड बना है। इसी तरह एसजीएमएच में 6 वेंटलेटर व 10 आइसोलेशन वार्ड बनाया गया है। वहीं आज की स्थित में कोरोनो के मरीजों के लिए एक एम्बुलेंस है। इसके अलावा सभी स्वास्थ्य दलों को वाहन दिए हैं। शहर में चार दल, ब्लाक स्तर पर दो-दो दल गठित हैं। यानी कुल मिलाकर 22 स्वास्थ्य दल बने हैं। जिला प्रशासन ने भीड़ बढऩे पर इमर्जेंसी के लिए सरकारी व गैर सरकारी सहित एसजीएमएच को चिन्हित किया है। जिसमें एसमीएमएच में 120 व निजी में 114 आइसोलेशन वार्ड हैं। इसके अलावा एसजीएमएच के पूरे लगभग 1200 वार्ड आरक्षित करने की तैयारी है। एसजीएमएच में इमर्जेंसी को छोड़ नए मरीजों को भर्ती करने पर रोक लगा दिया है। कोरोना व संक्रमित रोगों के नोडल अधिकारी डॉ. अक्षय श्रीवास्वत ने बताया कि आश्वयकता पडऩे पर सभी सरकारी-गैर सरकारी अस्पतालों को आरक्षित कर लिया जाएगा। प्राइवेट अस्पताल के भी लगभग 114 आइसोलेशन वार्ड मिल जाएंगे।

कोरोना से दूर रखी गई हैं जननी एक्सप्रेस
जिले में कहने को आपातकालीन सेवा के लिए 43 एम्बुलेंस सड़क पर दौड़ रहीं हैं। लेकिन, कोरोना के संदिग्ध को लाने के लिए अभी तक एक एम्बुलेंस है। सूचना मिलने पर उसी का उपयोग किया जा रहा है। इमर्जेंसी पडऩे पर इन्हीं एम्बुलेंस में सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी इस के अलावा नए वाहनों को भी अधिग्रहीत करने की तैयारी है।

Balmukund Dwivedi Desk
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned