हादसे में युवक की मौत पर बवाल, टोल प्लाजा पर शव रखकर धरना, 15 लाख मुआवजे पर बनी सहमति

सोहागी टोल प्लाजा के समीप हादसा

 

By: Balmukund Dwivedi

Published: 01 Jul 2019, 01:27 AM IST

रीवा. हादसे में टोल प्लाजा कर्मचारी की शनिवार की रात हुई मौत को लेकर रविवार को बवाल मच गया। युवक की मौत से नाराज परिजन शव को लेकर टोल प्लाजा पहुंच गए और धरने पर बैठ गए। इस दौरान वे मुआवजे की मांग कर रहे थे। तनाव को देखते हुए पुलिस बल मौके पर पहुंच गया, लेकिन समझाने के बाद भी वे नहीं माने। शाम करीब छह बजे पुलिस सहित स्थानीय लोगों ने मध्यस्थता करके परिजनों और टोल प्लाजा के अधिकारियों की बातचीत करवाई। टोल प्लाजा के अधिकारियों ने पीडि़त परिवार को पन्द्रह लाख रुपए का मुआवजा देने का आश्वासन दिया जिस पर परिजन राजी हो गए। करीब चार घंटे बाद टोल प्लाजा में वाहनों की आवाजाही शुरू हो पाई।

तेज रफ्तार डंपर ने बाइक को मार दी टक्कर
सोहागी स्थित टोल प्लाजा के कर्मचारी ज्ञानेन्द्र शुक्ला (30) शनिवार की रात बाइक से घर जा रहे थे। जैसे ही वे टोल प्लाजा से थोड़ा आगे पहुंचे तभी एक तेज रफ्तार डंपर ने उनकी बाइक को टक्कर मार दी। इस दौरान सड़क पर गिरे कर्मचारी को डंपर कुचलते हुए निकल गया। हादसे में युवक की घटनास्थल पर ही मौत हो गई। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने देररात शव को पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवा दिया। रविवार की सुबह पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम करवाया और परिजनों को सौंप दिया।

प्लाजा पहुंचे और धरने पर बैठ गए
शव लेकर परिजन घर न जाकर टोल प्लाजा पहुंचे और धरने पर बैठ गए। इस दौरान स्थानीय लोग भी पहुंच गए और पीडि़त परिवार को मुआवजा दिलाने की मांग करने लगे। टोल प्लाजा के अधिकारी पीडि़त परिवार को 10 लाख की आर्थिक सहायता व 1 लाख रुपए तत्कालीक सहायता देने को तैयार थे लेकिन स्थानीय लोग 25 लाख का मुआवजा व एक सदस्य को नौकरी की मांग पर अड़े रहे। जिससे घंटों टोल प्लाजा में बवाल मचा रहा। इस दौरान अप्रिय स्थिति को रोकने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल भी तैनात था।

आरोपियों की गिरफ्तारी के पूर्व शव नहीं उठने दे रहे थे कर्मचारी
हादसे में टोल प्लाजा कर्मचारी की मौत से यहां का स्टाफ भी नाराज था। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवाने का प्रयास किया लेकिन कर्मचारी इसका विरोध कर रहे थे। कर्मचारियों की मांग की थी कि तीन दिन पूर्व हमला करने वाले आरोपियों की गिरफ्तारी की जाये। उसके बाद ही युवक का शव उठने दिया जायेगा। पुलिस अधिकारियों ने काफी देर तक उनको समझाइश दी जिसके बाद वे शव को पोस्टमार्टम के लिए ले जाने को राजी हुए।

Balmukund Dwivedi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned