MP में पुलिस को वकीलों ने चेताया- कोर्ट परिसर में घुसने नहीं देंगे, जानिए क्यों भडक़े

लूट के एक माह बाद भी दर्ज नहीं हुई एफआइआर, पुलिस कंट्रोल रूम के सामने सडक़ पर धरने पर बैठे
पुलिस अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन देकर कराया शांत

By: Manoj singh Chouhan

Published: 13 Mar 2018, 06:31 PM IST

रीवा. अधिवक्ताओं से लूट और मारपीट के मामले एफआइआर दर्ज नहीं करने से भडक़े वकीलों ने सोमवार को पुलिस कंट्रोल रूम के सामने जमकर हंगामा किया। अधिवक्ता संघ ने वकील से अभद्रता करने वाले सिटी कोतवाली टीआई आदित्य प्रताप सिंह को दो दिन में हटाने की मांग की। साथ ही चेतावनी दी है कि अधिवक्ता विरोध स्वरूप पुलिस को न्यायालय परिसर में नहीं घुसने देंगे।

मामला बढ़ता देख पुलिस अधिकारियों ने कार्रवाई का आश्वासन देकर वकीलों को शांत कराया। एएसपी ने अधिवक्ता की शिकायत पर तत्काल एफआईआर दर्ज करने की बात कही है। बताया गया कि 12 फरवरी की रात में कबाड़ी मोहल्ले के पास अधिवक्ता अरुण द्विवेदी से 40 हजार रुपए लूटकर बदमाशों ने मारपीट की थी। इसकी शिकायत अधिवक्ता ने सिटी कोतवाली थाने मेंं की, लेकिन पुलिस ने एफआइआर दर्ज नहीं की। थाने में शिकायत के दौरान टीआई ने अभद्र व्यवहार भी किया। वहीं, तीन दिन पहले उपरहटी में अधिवक्ता मनीष शर्मा के घर में घुसकर चार लोगों ने मारपीट की थी।

दोनों मामले सिटी कोतवाली थाना क्षेत्र में घटित हुए, लेकिन कार्रवाई करना तो दूर पुलिस ने एफआइआर तक नहीं लिखी। इस पर जिला अधिवक्ता संघ ने कड़ी आपत्ति जताते हुए सोमवार को पुलिस प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया। इस दौरान जिला अधिवक्ता संघ से सचिव रामजी पटेल, वीरेन्द्र सिंह सहित बड़ी संख्या में वकील मौजूद रहे।
अधिवक्ता संघ के अध्यक्ष राजेन्द्र पांडेय के नेतृत्व में पहुंचे अधिवक्ता पुलिस कंट्रोल रूम के सामने ही सडक़ पर बैठ गए। इससे जाम लग गया, लेकिन कुछ देर में ही लोगों की सहूलियत देखते हुए सडक़ से हटकर सामने धरने पर बैठ गए।

टीआई बोले- सुबह दर्ज किया है मामला
१२ फरवरी को अधिवक्ता अरुण द्विवेदी से मारपीट और लूट के मामले में सोमवार सुबह ही मामला दर्ज कर लिया था। अधिवक्ता मनीष शर्मा ने एक दिन पहले दो आरोपियों द्वारा मारपीट की शिकायत दी थी। अधिवक्ता का मेडिकल भी कराया गया है, जांच अभी चल रही है।
आदित्य प्रताप सिंह, टीआई सिटी कोतवाली

-अधिवक्ताओं की मांग पर उचित कार्रवाई की जा रही है। यदि इसमें किसी की लापरवाही सामने आती है तो उस पर भी कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
आशुतोष गुप्ता, एएसपी

 

rewa

कार्रवाई का दिया आश्वासन
दोपहर १ बजे अधिवक्ता पुलिस कंट्रोल रूम में पहुंचे, लेकिन कोई अधिकारी नहीं मिला तो सडक़ पर ही धरने पर बैठ गए। जानकारी मिलते ही सीएसपी भरत दुबे पहुंचे और वकीलों को शांत कराने का प्रयास किया है। कुछ देर बाद एएसपी आशुतोष गुप्ता ने भी पहुंचकर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया तो अधिवक्ता शांत हुए।

rewa

आम आदमी का क्या होता होगा
अधिवक्ताओं ने एएसपी से कहा, हम कानून जानते हैं इसके बावजूद पुलिस और टीआई भटका रहे हैं तो अंदाजा लगा लीजिए की आम आदमी की थाने में किस तरह सुनवाई होती है। अधिवक्ताओं ने कहा, आरोपियों से सांठगांठ के कारण टीआई केस दर्ज नहीं कर रहे हैं।

Manoj singh Chouhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned