डॉक्टरों की टीम ने छह घंटे के सफल ऑपरेशन के बाद बचा ली बैककर्मी की जान

-हनुमना के पास बैंककर्मी की हुई थी बड़ी दुर्घटना
-हाथ की हड्डियों में कंपाउंड फ्रैक्चर संग नसे भी फट गई थीं

By: Ajay Chaturvedi

Published: 27 Jun 2021, 05:19 PM IST

रीवा. डॉक्टरों को धरती का भगवान यूं नहीं कहा जाता। उनकी योग्यता और रोगी के प्रति समर्पण के भाव के चलते उन्हें इस उपाधि से नवाजा गया है। इसका ज्वलंत उदाहरण हैं रीवा हॉस्पिटल के डॉक्टर जिन्होंने बुरी तरह से दुर्घटनाग्रस्त बैंककर्मी की जान बचा ली। इसके लिए उन्हें छह घंटे तक ऑपरेशन थिएटर में गुजारना पड़ा।

बता दें कि जिले के नईगढी निवासी 30 वर्षीय युवा एचडीएफसी बैंककर्मी, हनुमना के पास बड़ी दुर्घटना के शिकार हो गए थे। उनके हाथों में कंपाउंड फ्रैक्चर था तो कंधे की नस भी फट गई थी जिससे हाथों में रक्त का संचार लगभग बंद सा हो गया था। घटना स्थल पर ही काफी मात्रा में खून बह गया था जिससे रक्त की कमी भी हो गई थी। बतया जाता है कि बैंककर्मी वर्तमान में इंदौर में कार्यरत हैं और वह निजी काम से मिर्जापुर जा रहे थे, तभी हनुमना के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गए।

दुर्घटना के बाद मिली सूचना पर परिवारजन मौके पर पहुंचे और बैंककर्मी को फौरन रीवा हॉस्पिटल पहुंचाया। वहां हड्डी रोग विशेषज्ञ डॉक्टर शुभम मिश्रा और प्लास्टिक सर्जन डॉक्टर सौरभ सक्सेना, एनेस्थीसिया विशेषज्ञ डॉ अभय राज की टीम ने तत्काल ऑपरेशन करने का फैसला लिया।

ऑपरेशन के दौरान डॉक्टरों ने वैस्कुलर नसों को पैर और पेट से निकाल कर ऊपर कंधे में जोड़ा। इसके बाद कंधे की करंट वाली नस जिसको ब्रेकियल प्लेक्सस बोलते हैं को भी सिला गया। साथ में डॉक्टर शुभम मिश्रा ने कंधे और कलाई का ऑपरेशन किया। इस ऑपरेशन में 6 यूनिट खून और 10 घंटे समय लगा। डॉक्टरों के अनुसार बैंककर्मी का ऑपरेशन सफल रहा। वह अब पहले से बेहतर हैं। अस्पताल प्रशासन के मुताबिक डॉक्टरों के टीम वर्क ने बैंककर्मी की जान बचा ली।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned