कब लौटेगा रीवा का लाल : राज्यसभा में गूंजा अनिल के पाकिस्तान की जेल से रिहाई का मामला

राज्यसभा सदस्य राजमणि पटेल ने मुद्दा उठाते हुए कहा सरकार अनिल के वापसी की पहल करे

By: Mahesh Singh

Published: 17 Jul 2019, 10:09 PM IST

रीवा. राज्यसभा में रीवा के अनिल साकेत के पाकिस्तान की जेल से रिहाई का मामला उठाया गया। राज्यसभा सदस्य राजमणि पटेल ने यह मुद्दा उठाते हुए सरकार से कहा कि अनिल के वापसी के लिए पहल की जाए। जिसपर विदेश मंत्री ने बताया कि मदद पोर्टल पर इस शिकायत को दर्ज किया गया है। साथ ही भारतीय उच्च आयोग ने इस्लामाबाद से अनुरोध किया है कि इस मामले का हल निकालें। इससे अनिल के वापसी की उम्मीद बंधी है।

राज्यसभा सदस्य पटेल ने नियम 180 के आधीन राज्य सभा में अबिलम्वनीय लोक महत्व के विषय के तहत अनिल साकेत के लाहौर (पाकिस्तान) की जेल से रिहाई का मु्द्दा उठाते हुए कहा कि ग्राम छदहाई थाना नईगढ़ी जिला रीवा (मप्र) का निवासी अनिल साकेत 3 जनवरी 2015 से लापता हुअ। जिसकी गुमशुदा रिपोर्ट थाना नईगढ़ी में 10 जनवरी 2015 को दर्ज की गई। समाचार पत्रों के तथा पुलिस के माध्यम से अनिल साकेत के लाहौर जेल में होने की सूचना मिली।

पटेल ने सदन में कहा कि जब से पीडि़त परिवार को पाकिस्तान की जेल में बंद होने की सूचना मिली है, परिवार की चिंता बढ़ती जा रही है कि उनका बिछड़ा बेटा सकुशल वापस आयेगा या नहीं। इसी चिंता में परिवार तथा पूरे क्षेत्र में विशेषकर अनुसूचित जाति वर्ग के लोगों में भय और निरासा का वातावरण है।

मैं प्रधानमंत्री तथा विदेश मंत्री से आग्रह करना चाहता हूं कि लाहौर जेल में बंदी अनिल साकेत के रिहाई के लिए तत्काल ठोस पहल करें। साथ ही कार्यवाही की जानकारी भी दी जाय ताकि पीडि़त परिवार और क्षेत्रीय जनता में विश्वास तथा साहस की भावना मजबूत हो।

विदेश मंत्रालय ने दी जानकारी
विदेश मंत्रालय द्वारा सांसद पटेल को बताया गया है कि अनिल साकेत चार वर्ष से लापता थे, जो पाकिस्तन के लाहौर जेल में है। विदेश में संकट में पड़े भारतीय नागरिकों को प्रभावी काउंसलर सहायता प्रदान करने के लिए विदेश मंत्रालय ने एक मदद नाम से प्रणाली शुरू किया है।

जिसमें वेबसाइट (www.madad.gov.in) के माध्यम से पहुंचा जा सकता है। इस पर त्वरित समस्या का निराकरण का प्रावधान है। जिसके तहत कार्यवाही की जा रही है। मदद पोर्टल में शिकायत दर्ज की गई है। साथ ही भारतीय उच्च आयोग ने पाकिस्तानी दूतावास के जरिए इस्लामाबाद से अनुरोध किया गया है कि सम्बंधित अधिकारियों के साथ बात कर मामले का हल निकालें।

यह है पूरा मामला
रीवा जिला मुख्यालय से लगभग 60 किमी दूर नईगढ़ी तहसील के छदहाई गांव निवासी अनिल साकेत तनय बुद्धसेन साकेत 3 जनवरी 2015 को अचानक घर से लापता हो गया था। परिजनों ने तब नईगढ़ी थाने में 10 जनवरी को गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज कराई थी। कई बार थाने गए, पुलिस से ढूंढऩे को कहा लेकिन उसका कुछ पता नहीं चल पाया।

ऐसे करके पूरे साढ़े चार साल गुजर गए और परिजनों ने उसके लौटने की आस छोड़ दी थी। लेकिन अब पुलिस ने बताया है कि वह पिछले 3 साल से पाकिस्तान की लाहौर जेल में बंद है। जिसके बारे में विदेश विभाग द्वारा जानकारी मांगी गई है। वहां तक वह कैसे पहुंचा यह किसी को पता नहीं है। कब लौटेगा इसके बारे में भी सरकार ही कुछ कर सकती है। उधर परिजन बेटे की वापसी की राह देख रहे हैं। मां पंचू देवी को पूरा भरोसा है कि उसका बेटा एक दिन जरूर लौटेगा।

-----------------------
अनिल रीवा का बेटा है, उसकी रिहाई के लिए राज्यसभा में प्रश्न रखा है। विदेश मंत्रालय ने जानकारी दी है कि भारत सरकार ने दूतावास के जरिए पाक हाईकमीशन से अनुरोध किया है कि इस मामले का हल निकालें। हम लगातार पहल करते रहेंगे।
-राजमणि पटेल, सदस्य राज्यसभा

Show More
Mahesh Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned