मंच पर बैठे रहे अधिकारी और नेता, शिविर में काउंटरों पर आवेदन देने के लिए जद्दो-जहद करते रहे आवेदक

सरकार आपके द्वार शिविर में लगाए गए स्टाल पर पंजीकृत किए गए 84 आवेदन, अधिकारियों का मौके पर 38 आवेदनों के निराकरण का दावा

By: Mahesh Singh

Published: 01 Mar 2020, 12:09 PM IST

रीवा. जिले के डभौरा कस्बे में जिला प्रशासन ने आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम के तहत शिविर लगाया। जिसमें अधिकारी 98 आवेदनों में से 38 का मौके पर ही निराकरण का दावा कर रहे हैं। उधर लोगों का कहना है कि शिविर में कलेक्टर और सीइओ से सीधे फरियादी नहीं मिल पाए। ज्यादातर आवेदक शिविर में काउंटर पर आवेदन लेकर जद्दो-जहद करते रहे। पंजीयन कराने के बाद दर्जनों गांव के दलित आदिवासी अफसर और नेताओं के भाषण सुनकर बैरंग लौट गए।

शिविर में डभौरा क्षेत्र के 47 गांवों के भूमिहीन खेतिहर आदिवासियों ने राजस्व विभाग के काउंटर पर आवेदन देकर बताया कि 2001 में 1150 दलित आदिवासी भूमिहीन गरीबों को पट्टा दिया गया था। जिस पर कब्जा नहीं मिला है। इसके अलावा छतैनी व लोनी-521 गांव निवासी बिहारी लाल सहित दर्जनों की संख्या में आवेदन देकर बताया कि एमपी-ऑनलाइन में आवेदन दिया है इसके बावजूद पंजीयन नहीं हुआ है।

इसी तरह शिविर में अंसरा गांव निवासी फूलनदेवी ने आवेदन देकर कहा कि एक साल पहले रीवा मुख्यालय पर आयोजित मुख्यमंत्री कन्या विवाह में फेरे लिए थे। आज तक प्रोत्साहन राशि नहीं मिली है। इसी तरह अर्चना आदिवासी ने आवेदन देकर कर्मचारियों को बताया कि जनवरी 2019 में बेटी पैदा हुई। आज तक मातृत्व योजना का लाभ नहीं मिला है।

वहीं शिविर में कलेक्टर बसंत कुर्रे ने कहा कि आपकी सरकार आपके द्वार कार्यक्रम शासन का महत्वपूर्ण व जनोपयोगी अभियान है जिसे अधिकारियों के साथ जनप्रतिनिधियों को भी सार्थक बनाना है। उन्होंने कहा कि इन शिविरों का अधिक से अधिक प्रचार-प्रसार हो। उन्होंने कहा कि रोजगार के अवसर बढ़ाने के लिए लोग परंपरागत कृषि के साथ उद्यानिकी फसलों का उत्पादन लें।

उन्होंने पानी को सहेजने का कार्य करें, हैण्डपंपों के पास रिचार्ज पिट बनाएं व ग्राम विकास में सहभागी बनें उन्होंने अधिकारियों को निर्देशित किया कि प्राप्त आवेदनों का निराकरण करें व कम्प्यूटर में दर्ज भी करें। कलेक्टर ने पीएचई विभाग को निर्देशित किया कि गर्मी से पूर्व पूरे जवाए डभौरा व त्योंथर क्षेत्र में पानी की समस्या न हो इस ओर विशेष ध्यान दें।

जैव विविधता काउंटर पर देखा देशी बीज बैंक
शिविर में जैव विविधता काउंटर लगाया गया था। भ्रमण के दौरान कलेक्टर ने देशी बीज बैंक देखा। इस दौरान महुआ सहित अन्य देशी वस्तुओं की खरीदारी भी की।

Mahesh Singh Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned