रिजल्ट जारी होने के 24 घंटे के अंदर 50 अनुत्तीर्ण छात्रों को कर दिया पास, जानिए सेशनल में कैसे किया खेल

रिजल्ट जारी होने के 24 घंटे के अंदर 50 अनुत्तीर्ण छात्रों को कर दिया पास, जानिए सेशनल में कैसे किया खेल
APS University : 50 fail students to pass in 24 hours

Balmukund Dwivedi | Publish: Jul, 11 2019 01:23:04 AM (IST) Rewa, Rewa, Madhya Pradesh, India

अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय का कारनामा: कॉलेज से नहीं गया तो कहां से दिए सेशनल नंबर

रीवा. अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय ने बीएससी द्वितीय सेमेस्टर का रिजल्ट जारी होने के बाद ५० से ज्यादा अनुत्तीर्ण छात्रों को 24 घंटे के अंदर उत्तीर्ण कर दिया। 8 जुलाई को जारी रिजल्ट में सेशनल नंबर मनमानी रूप से चढ़ाए गए थे। इस पर छात्रों ने विरोध जताया। हरकत में आए विश्वविद्यालय ने पोर्टल पर उनके सेशनल नंबर बढ़ाकर उनकी उत्तीर्ण वाली अंकसूची जारी कर दी। दरअसल विश्वविद्यालय के जिम्मेदारों ने रिजल्ट तैयार करने में बड़ी लापरवाही की है। 8 जुलाई को जारी हुई बीएससी द्वितीय सेमेस्टर के रिजल्ट में कई ऐसे छात्रों को अनुपस्थित बताकर अनुत्तीर्ण कर दिया गया है जो परीक्षा में शामिल हुए थे। वहीं कुछ छात्रों के सेशनल नंबर मनमानी जोड़े गए हैं। हैरत है कि रिजल्ट जारी होने के बाद फिर से सेशनल नंबर बढ़ाए जा रहे हैं।

कॉलेज से जाते हैं सेशनल नंबर
आंतरिक मूल्यांकन का नंबर कॉलेज से यूनिवर्सिटी को भेजा जाता है। जिसके बाद यूनिवर्सिटी से वह अंकसूची में जोड़ा जाता है। विश्वविद्यालय प्रबंधन सेशनल नंबर नहीं मिलने की बात कह रहा है। जिस पर कॉलेज प्रबंधन फिर से सेशनल नंबर की प्रति भेजने की प्रक्रिया शुरू की है। अब सवाल यह उठ रहा है कि जब कॉलेज प्रबंधन से भेजा गया सेशनल नंबर यूनिवर्सिटी को नहीं मिला तो बच्चों की अंकसूची में कहा से सेशनल के नंबर जोड़े गए।

प्राचार्य से मिले छात्र
इस संबंध में बुधवार को आलोक तिवारी, ओम प्रकाश वर्मा सहित कई छात्र मॉडल साइंस कॉलेज के प्राचार्य डॉ. पंकज श्रीवास्तव से मिले। प्राचार्य ने बताया कि यह विश्वविद्यालय की गलती है, लेकिन इसके बावजूद कॉलेज से दोबारा सेशनल के नंबरों की लिस्ट विश्वविद्यालय भेज रहे हैं। इसके बाद समस्या का समाधान हो जाएगा।

विश्वविद्यालय से बात की जा रही ह
प्राचार्य डॉ. पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि हमारे पास छात्र आए थे। उनकी समस्या का निराकरण हो सके इसके लिए विश्वविद्यालय से बात की जा रही है। जो भी दिक्कतें होंगी उसे दूर किया जाएगा।

कई छात्रों ने शिकायत की है
प्रो. केएन सिंह यादव, कुलपति ने कहा कि सेशनल नंबर को लेकर कई छात्रों ने शिकायत की है। संबंधित विभाग को उनकी दिक्कतें दूर करने के लिए निर्देशित किया गया है। इस प्रकार की दिक्कतें कॉलेज एवं विश्वविद्यालय के बीच सामंजस्य की वजह से आती हैं।

केस-एक
एपीएस यूनिवर्सिटी के पोर्टल पर बीएससी द्वितीय सेमेस्टर की छात्रा शिवांगी सिंह की जो पहली अंकसूची जारी की गई उसमें केमिस्ट्री सब्जेक्ट में सेशनल (आंतरिक टेस्ट) के 12 अंक दिए गए। 9 जुलाई तक यही अंक रहा। 10 जुलाई को केमिस्ट्री में सेशनल का नंबर 5 अंक बढ़कर 17 हो गया। कुल अंक भी बढ़ गया। पहले कुल अंक 319 था जो बाद में बढ़कर 396 हो गया।

केस-दो
यूनिवर्सिटी के पोर्टल पर बीएससी सेमेस्टर की छात्रा अभिश्रृति नामदेव की जो पहली अंकसूची जारी की गई उसमें केमिस्ट्री सब्जेक्ट में सेशनल के छह अंक दिए गए। परीक्षा परिणाम में छात्रों को सप्लीमेंट्री कर दिया गया। 10 जुलाई को केमिस्ट्री में सेशनल का नंबर तीन अंक बढ़ाकर 9 कर दिया गया। परीक्षा परिणाम में उसे उत्तीर्णकर दिया गया। कुल अंक 373 से 376 कर दिया।

केस-तीन
मॉडल साइंस की बीएससी सेमेस्टर की छात्रा साधना तिवारी केमिस्ट्री विषय की परीक्षा में उपस्थित थी, लेकिन यूनिवर्सिटी से जारी परिणाम में उसे अनुपस्थित बनाया गया है। बुधवार को छात्रा समस्या लेकर कॉलेज प्राचार्य के पास पहुंची। उसने बताया कि उसे अनुपस्थित कर दिया गया है। प्राचार्य ने आवेदन को अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय के लिए अग्रेषित कर दिया है।

 

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned