बाणसागर बांध में पानी की आवक कम, महीने भर में एक मीटर भरा

- पिछले पांच वर्षों में जुलाई में सबसे कम जलस्तर पर है बांध
- बांध के ऊपरी हिस्से में कमजोर बारिश के चलते बनी स्थिति

By: Mrigendra Singh

Published: 01 Aug 2021, 12:01 PM IST




रीवा। बाणसागर बांध में इस वर्ष पानी की आवक कम हो रही है। जिसकी वजह से बांध का जलस्तर काफी धीरे गति से बढ़ रहा है। जुलाई के महीने में सामान्य तौर पर अ'छी बारिश की वजह से तेजी से जलस्तर में वृद्धि होती है। इस वर्ष जुलाई महीने में अब तक करीब डेढ़ एक मीटर ही जलस्तर बढ़ा है। एक मीटर भी ठीक से पूरा नहीं हुआ है।

बारिश कम होने की वजह से पानी नहरों के लिए छोड़ा गया था, जिसकी वजह से जलस्तर में कमियां भी कुछ दिनों के लिए आई थी। बांध के ऊपरी हिस्से में बारिश अभी तेज गति से नहीं हो रही है, जिसकी वजह से जलस्तर में वृद्धि नहीं हो रही है। बाणसागर बांध के पानी में मध्यप्रदेश का आधा और शेष हिस्से में उत्तर प्रदेश और बिहार का अधिकार होता है।

तीन राÓयों की यह संयुक्त बहुउद्देश्यीय परियोजना है। इसलिए बांध का पूरा भरना जरूरी होता, अन्यथा पर्याप्त मात्रा में विंध्य के जिलों को सिंचाई के लिए पानी मिल पाना मुश्किल हो सकता है। जानकारी मिली है कि उत्तर प्रदेश में इस साल जुलाई में ही अपने हिस्से का पानी आंशिक तौर पर मांग लिया था। उत्तर प्रदेश की ओर जाने वाली नहर में कई दिनों तक पानी भेजा गया है। उत्तर प्रदेश में अभी इसके पानी से बहुत कम क्षेत्र में सिंचाई हो पाता है, शेष हिस्सा नदी में बह जाता है। धान की रोपाई की वजह से पानी की मांग की गई थी।
--
पर्याप्त बारिश नहीं होने से पानी की पड़ी जरूरत
रीवा एवं सीधी जिले में पर्याप्त बारिश नहीं होने की वजह से किसानों ने बाणसागर बांध का पानी छोड़े जाने की मांग उठाई थी। जिसमें सीधी के किसानों ने कहा था कि उन्हें पर्याप्त बिजली नहीं मिल पाती इसलिए सिहावल नहर में पानी छोड़ा जाए। किसानों की मांग पर धान का रोपा लगाने के लिए पानी छोड़ा गया है। पानी छोड़े जाने के चलते बांध का जलस्तर कम भी होता रहा है। हालांकि रीवा जिले में अभी उस तरह की समस्या नहीं है।
-----------
हर पांच दिन में ऐसे बढ़ा जलस्तर
तारीख- जलस्तर
एक जुलाई- 333.97
पांच जुलाई - 333.91
10 जुलाई - 333.86
15 जुलाई - 333.71
20 जुलाई-- 333.40
25 जुलाई- 333.88
30 जुलाई- 334.77
----------------------
पिछले पांच साल में 30 जुलाई की स्थिति
2020-- 338.87
2019-- 335.70
2018-- 334.80
2017-- 337.16
2016-336.62
2015- 336.50
नोट- उक्त जलस्तर मीटर में है।

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned