शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने कालेजों में बौद्धिक प्रकोष्ठ का होगा गठन, कौन हो सकते हैं शामिल यहां जानिए


- बेहतर कार्य करने वाले अध्यापकों को प्रकोष्ठ के जरिए किया जाएगा सम्मानित
- उच्च शिक्षा विभाग का आया आदेश, अतिरिक्त संचालक ने कालेज प्राचार्यों को भेजा पत्र


रीवा। कालेजों में शिक्षा की गुणवत्ता सुधारने के लिए बौद्धिक प्रकोष्ठ का गठन किए जाने का निर्देश आया है। शासन द्वारा जारी किए गए निर्देश में कहा गया है कि सभी कालेज चाहे वह सरकारी हों अथवा प्राइवेट हर जगह बौद्धिक प्रकोष्ठ का गठन किया जाना है। उच्च शिक्षा के अतिरिक्त संचालक कार्यालय में आए इस पत्र में शासन ने कहा है कि सभी कालेजों में बौद्धिक प्रकोष्ठ का गठन किया जाए।

सरकार ने कालेजों में शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार लाने के लिए यह निर्णय लिया है। कहा गया है कि कालेजों में प्राध्यापकों द्वारा विभिन्न गतिविधियां संचालित की जाती हैं, जिसमें अध्ययन, अध्यापन, शोध एवं पाठ्यक्रम संबंधी नवाचार के कार्य किए जाते हैं। ये कार्य प्राध्यापकों के नियमित कार्य के अंग होते हैं।

हर महीने प्रध्यापकों की ओर से मानकों एवं स्व मूल्यांकन की भेजी जाने वाली रिपोर्ट के आधार पर एक डाटा बैंक तैयार किया जाना है। इसे बौद्धिक प्रकोष्ठ के रूप में जाना जाएगा। इस प्रकोष्ठ का गठन कालेजों के प्राचार्यों की ओर से किया जाना है। जिसमें कम से कम पांच सदस्यों का होना आवश्यक है। इसके अतिरिक्त अन्य लोगों को भी शामिल किया जा सकता है। इस प्रकोष्ठ में कालेज के प्राध्यापकों के साथ ही विषय विशेषज्ञों को भी शामिल किया जा सकता है।

जिसमें सेवानिवृत्त प्रोफेसरों को शामिल करने से अध्ययन एवं शोध जैसे कार्यों में मदद ली जा सकेगी। इस प्रकोष्ठ के जरिए बेहतर कार्य करने वालों को सम्मानित भी किया जाएगा। स्थानीय स्तर से लेकर राज्य स्तर तक सम्मान देने की व्यवस्थाएं भी बनाई जा रही हैं। शासन ने कहा है कि बौद्धिक प्रकोष्ठ से जुड़ी जानकारी हर महीने प्रस्तुत करनी होगी।


- कालेजों से मांगी जानकारी : एडी
उच्च शिक्षा के अतिरिक्त संचालक डॉ. पंकज श्रीवास्तव ने बताया कि शासन का पत्र मिला है। उसमें दिए गए निर्देशों के अनुसार बौद्धिक प्रकोष्ठ का गठन किया जाना है। इसमें कम से कम पांच लोगों को रखना है और उससे अधिक कालेज की अपनी व्यवस्था के अनुसार रखे जा सकते हैं। शासन का यह पत्र कालेजों के प्राचार्यों को भेजा गया है। साथ ही कहा है कि निर्धारित समय पर बौद्धिक प्रकोष्ठ का गठन कर सूचना दें।

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned