धूमधाम से निकलेगी भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा, मानस भवन में करेंगे रात्रि विश्राम

धूमधाम से निकलेगी भगवान जगन्नाथ की रथ यात्रा, मानस भवन में करेंगे रात्रि विश्राम

Balmukund Dwivedi | Publish: Jul, 13 2018 08:32:37 PM (IST) Rewa, Madhya Pradesh, India

भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की सदियों पुरानी परंपरा का निर्वाहन विधि-विधान से किया जाएगा

रीवा. आषाढ़ शुक्ल पक्ष द्वितीया शनिवार को रथ यात्रा पर्व मनाया जाएगा। भगवान जगन्नाथ लंबी बीमारी से ठीक होने के बाद लक्ष्मण बाग मंदिर से सज धज कर निकलेेंगे। एक साल बाद भक्तों को दर्शन देंगे। शहर में रथयात्रा को लेकर गजब का उत्साह है। जगह-जगह स्वागत की तैयारियां की गई हैं। शनिवार द्वितीया तिथि उदया के रूप में रात्रि 12.55 मिनट तक व्याप्त रहेगी। चंद्र अहोरात्र कर्क राशि में होगा। इसी दिन पुष्य नक्षत्र उदय काल से लेकर सायंकाल 4.07 मिनट तक रहेगा। अत्यंत शुभ वज्र योग रात्रि 12 बजे तक है। मध्याह्न काल रथ यात्रा के दिन का सर्वाधिक प्रशस्त मुहूर्त है जो सुबह 10.40 से दोपहर 1.24 बजे तक रहेगा। मध्याह्न कालीन शास्त्रोक्त अभिजीत मुहूर्त सुबह 11.34 बजे से 12.28 बजे तक रहेगा। मध्याह्नकाल की इसी अवधि में 12.03 बजे से लेकर 17.05 बजे के मध्य चर, लाभ, अमृत नामक चौघडिय़ा का संयोग रथयात्रा के मध्याह्न कालीन मुहूर्त को और भी बलवान बना रहा है। विंध्य में रथ यात्रा का उत्सव मनाया जाता है। इस उत्सव में भगवान जगन्नाथ, बलभद्र और सुभद्रा को श्रद्धा पूर्वक रथ में विराजमान करते हुए नगर भ्रमण कराया जाएगा। ज्योतिर्विद राजेश साहनी ने बताया कि ओडि़शा के पूरी नामक स्थान की रथ यात्रा विश्व में प्रसिद्ध है।

विंध्य में दो दिवसीय उत्सव
विंध्य में यह उत्सव 2 दिन का तो पुरी में 10 दिनों का होता है। ऐसी मान्यता है कि रथ यात्रा के समय पुरी में समस्त तीर्थों का समागम होता है। पुरी का प्रधान पर्व होते हुए भी यह रथयात्रा पर्व पूरे भारत सहित रीवा नगर में भी श्रद्धा और प्रेम के साथ मनाया जाता है। जो लोग पुरी की रथयात्रा में नहीं शामिल हो पाते वे अपने नगर की रथयात्रा को पुरी की रथयात्रा के प्रतीक के रूप में निकालते हैं। उसमें अवश्य शामिल होते हैं। उत्साहपूर्वक जगन्नाथ का रथ खींचकर लोग अपने आपको धन्य समझते हैं। पुराणों का कथन है कि जगन्नाथ जी के रथ में मनुष्य के त्रितापों को दूर करने की अद्भुत क्षमता है और व्यक्ति मनुष्य के मन में इस कृत्य को करने से एक अद्भुत आध्यात्मिक ऊर्जा तथा भौतिक प्रगति के सोपान प्रशस्त होते हैं।

भगवान जगन्नाथ को रात्रि विश्राम का न्यौता
भगवान जगन्नाथ रथयात्रा की सदियों पुरानी परंपरा का निर्वाहन इस बार भी विधि-विधान से किया जाएगा। मंगलवार को मानस मंडल परिवार ने लक्ष्मणबाग संस्थान पहुंचकर भगवान जगन्नाथ को मानस भवन में रात्रि विश्राम करने के लिए न्यौता दिया। सेवा का सौभाग्य प्रदान करने की विनती की गई। चौदह जुलाई को भगवान जगन्नाथ की रथयात्रा शहर में निकाली जाएगी। इस दौरान भगवान जगन्नाथ शहर भ्रमण करेंगे। रात्रि विश्राम मानस भवन में करेंगे। दूसरे दिन यहां भंडारे के बाद भगवान फिर लक्ष्मणबाग संस्थान वापस लौट जाएंगे। इसकी तैयारियों पूरी हो गई हैं। इसी क्रम में मानस मंडल परिवार की बैठक लक्ष्मणबाग में हुई। बैठक से पहले वैद्य ओम प्रकाश गुप्ता पंसारी ने भगवान को औषधियां समर्पित की। लू लगने से भगवान कई दिनों से बीमार चल रहे हैं। उपचार के बाद 14 जुलाई तक स्वस्थ हो जाएंगे। ऐसी मान्यता है। इस मौके पर डॉ. दीनानाथ शास्त्री भी मौजूद रहे। उन्होंने बताया कि उपचार का क्रम रोजाना उनके स्वस्थ होने तक चलता है। रथयात्रा के दिन नगर भ्रमण के दौरान जगह-जगह दर्शन के लिए भीड़ उमड़ेगी। जिसे देखते हुए व्यवस्थाएं करने के लिए जिला और ननि प्रशासन को कहा गया है। मानस भवन में रात्रि विश्राम के बाद दूसरे दिन आरती, भजन-कीर्तन किया जाता है।

Ad Block is Banned