रीवा में नई पीढ़ी के नेता अजय सिंह को मिली भाजपा की कमान, बदलेंगे समीकरण

- विद्यार्थी परिषद की राजनीति से जुड़े और कई प्रमुख पदों पर रहे अजय

By: Mrigendra Singh

Published: 10 May 2020, 10:22 PM IST


रीवा। लंबे इंतेजार के बाद भाजपा के जिला अध्यक्ष की घोषणा आखिर कर दी गई। जिसमें नई पीढ़ी के नेता को कमान सौंपी गई है। लंबे समय तक छात्र नेता रहे डॉ. अजय सिंह को रीवा इकाई का अध्यक्ष नियुक्त किया गया है। सिंह के साथ छात्र राजनीति से जुड़े रहे नरेन्द्र शर्मा एवं अन्य कार्यकर्ता भी फूल-माला लेकर पहुंचे और नए अध्यक्ष का स्वागत किया। रविवार को सुबह पार्टी के कई पुराने नेताओं के घर पहुंचकर अजय ने आशीर्वाद लिया तो वहीं दोपहर पार्टी कार्यालय पहुंचकर पदभार ग्रहण किया।
- प्रदेश अध्यक्ष के साथ छात्र राजनीति में जुड़े रहे
भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष वीडी शर्मा के साथ विद्यार्थी परिषद की राजनीति में अजय लंबे समय तक जुड़े रहे हैं। शर्मा के अध्यक्ष बनने के बाद ही यह संकेत मिल रहे थे कि इन्हें प्रदेश स्तर पर कोई प्रमुख पद मिलेगा, हालांकि अजय की भी इच्छा थी कि जिले के कार्यकर्ताओं से पहले संपर्क बने फिर प्रदेश की राजनीति पर जाएं। आखिरकार जिला अध्यक्ष की घोषणा हो गई।
- ऐसा रहा अजय सिंह का राजनीतिक सफर
भाजपा के नवनियुक्त अध्यक्ष डॉ. अजय सिंह(42) की शिक्षा एमबीए पीएचडी तक है। 1995 से 2014 तक अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से जुड़े रहे। जिसमें जिला संयोजक, विभाग संयोजक, प्रदेश उपाध्यक्ष,
राष्ट्रीय कार्यपरिषद सदस्य एवं प्रदेश अध्यक्ष जैसे महत्वपूर्ण पदों में रहे। वर्तमान में भाजपा किसान मोर्चा के प्रदेश सह मीडिया प्रभारी एवं रीवा सम्भाग प्रभारी हैं। साथ ही भाजपा रीवा के दो मंडलो रामपुर सर्किल एवं बनकुइयां के संगठनात्मक प्रभारी हैं। अवधेश प्रताप सिंह विश्वविद्यालय कार्य परिषद के सदस्य भी राज्यपाल की ओर से नियुक्त किए गए हैं।
- परिवार के लिए गौरव का क्षण : राम सिंह
नवनियुक्त भाजपा अध्यक्ष के पिता राम सिंह लंबे समय से भाजपा में हैं। सहकारिता के प्रमुख नेता माने जाते हैं। नियुक्ति के बाद उन्होंने कहा कि कुछ वर्षों पहले इस पद के लिए स्वयं प्रयास कर रहे थे लेकिन कुछ समीकरणों की वजह से अवसर नहीं मिला। परिवार के लिए यह गौरव का क्षण है। साथ ही उन्होंने कहा कि इस नियुक्ति से कार्यकर्ताओं में यह संदेश जाएगा कि आम कार्यकर्ता को भी भाजपा में महत्व दिया जाता है। पार्टी में नए ऊर्जा का संचार होगा।
- धरे रह गए स्थानीय समीकरण
रीवा में भाजपा का जिला अध्यक्ष पिछड़ा वर्ग से होगा यह तो तय था, क्योंकि सीधी में क्षत्रिय और सतना में ब्राह्मण को देना था। इसमें पूर्व महापौर शिवेन्द्र पटेल सबसे मजबूत दावेदार माने जा रहे थे। हालांकि पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला का निर्णय ही रीवा में अंतिम होता है, इसलिए उनकी ओर से कुछ और नाम सुझाए गए थे। जिस पर भाजपा के अन्य विधायकों ने भी आपत्ति जाहिर की थी। बाद में शुक्ला की ओर से भी शिवेन्द्र के नाम पर सहमति दी गई लेकिन यहां पर प्रदेश अध्यक्ष ने स्थानीय नेताओं की पसंद को दरकिनार कर अपनी पसंद का नया नेतृत्व दिया है। माना जा रहा है कि बीते कुछ वर्षों से रीवा की राजनीति में पूर्व मंत्री राजेन्द्र शुक्ला का ही बर्चस्व रहा है, उनकी पसंद के अनुसार ही नियुक्तियां होती रही हैं, अजय की नियुक्ति से शुक्ला खेमे में सन्नाटा है। भाजपा में बड़ा वर्ग उनके खिलाफ रहा है लेकिन अब तक खुलकर सामने नहीं आता रहा है। उसे संरक्षण मिला तो खुलकर सामने भी आ सकता है।
--
अजय सिंह के अध्यक्ष बनने से पार्टी में नई ऊर्जा आएगी
रीवा। भाजपा के नए जिला अध्यक्ष के रूप में अजय सिंह की नियुक्ति हुई है। उनके साथ लंबे समय तक छात्र राजनीति करने वाले युवा नेता नरेन्द्र शर्मा ने कहा है कि इस नियुक्ति से कार्यकर्ताओं में विश्वास बढ़ा है कि संगठन आम कार्यकर्ता को भी महत्व देता है। सिंह के नेतृत्व में संगठन में युवाओं की संख्या बढ़ेगी और नई ऊर्जा के साथ पार्टी काम करेगी। शर्मा ने कहा कि लंबे समय तक नेतृत्व करने का अनुभव नए अध्यक्ष के पास है इसलिए युवाओं और वरिष्ठ नेताओं में वे बेहतर तालमेल स्थापित करेंगे।

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned