जिला पंचायत कार्यालय में प्रकरणों की सुनवाई कर रहे सीईओ, जानिए, बाहर फाइलों पर कैसे सौदा कर रहे ‘दलाल’

जिपं कार्यालय में धारा-40 और 92 की सुनवाई पर आए सरपंच-सचिवों से वसूली कर रहे कर्मचारियों के करीबी

By: Rajesh Patel

Updated: 13 Mar 2018, 10:15 PM IST

CEOs hearing cases in district panchayat office
rajesh patel patrika IMAGE CREDIT: patrika

रीवा. पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग की योजनाओं में वित्तीय गड़बड़ी के 340 से अधिक मामलों में जिला पंचायत सीईओ कार्यालय में सुनवाई चल रही है। इन मामलों में फंसे कई सरपंच और सचिव बाबुओं और दलालों से मिलकर प्रकरणों के निराकरण के लिए सौदेबाजी का सहारा ले रहे हैं। सोमवार दोपहर सुनवाई के दौरान ऐसा ही मामला देखने को मिला।
बाबू से कहा साहब, कुछ खर्चा लेकर ग्राम रोजगार सहायक को हटवा दीजिए
जिला पंचायत कार्यालय में दोपहर तीन बजे सीईओ मामलों की सुनवाई कर रहे थे। प्रकरणों के जवाब तैयार करने के दौरान त्योंथर जनपद के पूर्वा मनीराम ग्राम पंचायत की सरपंच चंपादेवी का प्रतिनिधि पंचायत के लेटरपैड पर आवेदन लेकर पहुंचा। उसने बाबू से कहा साहब, कुछ खर्चा लेकर ग्राम रोजगार सहायक को हटवा दीजिए। मामला टेबल पर नहीं बना तो दलाल के साथ कर्मचारी बाहर गेट पर आ गया।
यहां ठीक नहीं है, चारों ओर सीसीटीवी कैमरा लगा है
कर्मचारी ने सरपंच प्रतिनिधि से कहा कि यहां ठीक नहीं है, चारों ओर सीसीटीवी कैमरा लगा है। तीनों गेट के बाहर एक फोटो स्टेट की दुकान पर पहुंचे। यहां सौदा तय होने के बाद बाबू ने दस्तावेजों की छायाप्रति लेकर कार्रवाई का आश्वासन दिया। इसी तरह अन्य प्रकरणों के निराकरण की सौदेबाजी में संबंधित जनपद के बाबू से लेकर जिला पंचायत कार्यालय के कर्मचारी तक शामिल रहते हैं।
13 प्रकरणों में दो का निराकरण
जिला पंचायत सीईओ कार्यालय में धारा-40 और धारा-92 की सुनवाई के लिए सोमवार को 13 प्रकरणों की सुनवाई हुई। इसमें दो प्रकरणों का निराकरण हो गया। सिरमौर जनपद पुरवा गांव के तत्कालीन सचिव नईम खान और तत्कालीन सरपंच ने बगैर काम कराए पैसे आहरित कर लिए थे, मामले में अधूरे कार्य को पूर्ण कराकर उपयोगिता प्रमाण-पत्र लेने के बाद बरी कर दिया गया। इसी तरह एक अन्य पंचायत के प्रकरण का निराकरण किया गया, जबकि 11 प्रकरणों में पेशी दे दी गई है।

 

Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned