scriptChange in broadcasting service of All India Radio after 45 years | रेडियो में बघेली बोली के कार्यक्रम हो जाएंगे बंद, 45 साल बाद प्रसारण सेवा में बदलाव | Patrika News

रेडियो में बघेली बोली के कार्यक्रम हो जाएंगे बंद, 45 साल बाद प्रसारण सेवा में बदलाव

एक मई से भोपाल से प्रसारित होंगे कार्यक्रम

रीवा

Published: April 29, 2022 12:18:22 pm

रीवा। संचार का सबसे तेज और विश्वसनीय माध्यम अब से कुछ साल पहले तक रेडियो रहा है। शहर से लेकर गांव तक इसकी लोकप्रियता रही है। आकाशवाणी का रीवा केन्द्र अपने कार्यक्रमों को लेकर पूरे प्रदेश में अलग पहचान रखता रहा है।

aakashwani.jpg

करीब 45 वर्षों से चली आ रही आकाशवाणी की प्रसारण सेवा में अब बदलाव होने जा रहा है। आगामी एक मई से इस पर नया प्रयोग शुरू हो जाएगा। यदि वह सफल रहा तो आने वाले समय में रीवा से प्रसारित होने वाले सभी कार्यक्रम बंद कर दिए जाएंगे और सब भोपाल से प्रसारित होंगे।

सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय की यह अपनी आंतरिक व्यवस्था है लेकिन आकाशवाणी से भावनात्मक रूप से जुड़े लोगों को मायूषी हुई है और वह इसका विरोध भी शुरू करने लगे हैं। जिस पर आकाशवाणी का कहना है कि यह अभी प्रयोग के तौर पर किया जा रहा है।

प्रसारण सेवा की गुणवत्ता में सुधार होगा। श्रोताओं को जोडऩे के लिए आकाशवाणी से क्षेत्रीय बोली बघेली में कार्यक्रम प्रसारित किए जा रहे थे। अब नई व्यवस्था से इनमें भी बदलाव नजर आएगा। बघेली के कार्यक्रम भी अब हिन्दी में सुनाई देंगे।

अभी दोपहर के कार्यक्रम होंगे बंद
एक मई से आकाशवाणी के नए शेड्यूल में रीवा के केन्द्र से प्रसारित होने वाले दोपहर के कार्यक्रम बंद किए जाएंगे। अब इनका प्रसारण भोपाल से किया जाएगा। शुरुआती चरण में सुबह के 11 बजे से दोपहर के तीन बजे तक के कार्यक्रम बंद किए जाएंगे। इसके बाद सुबह दस बजे से सायं पांच बजे तक किया जाएगा। बाद में नई व्यवस्था की समीक्षा के बाद नए शेड्यूल पर निर्णय लिया जाएगा।

रीवा सहित सभी केन्द्रों को एक-एक दिन मिलेगा
नई व्यवस्था में भोपाल से होने वाले प्रसारण में प्रदेश के सभी आकाशवाणी केन्द्रों को सप्ताह में एक-एक दिन का समय दिया जाएगा। रीवा को शनिवार का दिन मिलेगा। जिसमें दिनभर समाचारों के अलावा रीवा के कार्यक्रम प्रसारित किए जाएंगे। इसके लिए आकाशवाणी के केन्द्र से रिकार्डिंग भोपाल भेजी जाएंगी, जहां से प्रसारण होगा।

नई व्यवस्था आर्थिक संकट का हवाला देकर बनाई जा रही है। इससे दो दर्जन की संख्या में स्थानीय कलाकार प्रभावित होंगे। जिन्हें अंशकालिक सेवा के रूप में अवसर मिलता रहा है। कंपियर के रूप में सेवाएं देने वालों की ड्यूटी एक मई के बाद से निरस्त कर दी गई है।

MP के आकाशवाणी केन्द्र
रीवा आकाशवाणी केन्द्र - 2 अक्टूबर 1977
इंदौर आकाशवाणी केन्द्र- 22 मई 1955
भोपाल आकाशवाणी केन्द्र- 31 अक्टूबर 1956
ग्वालियर आकाशवाणी केन्द्र- 15 अगस्त 1964
जबलपुर आकाशवाणी केन्द्र - 6 नवंबर 1964
छतरपुर आकाशवाणी केन्द्र - 7 अगस्त 1976
सागर आकाशवाणी केन्द्र- वर्ष 1995

अब नहीं सुनाई देगी रेडियो में बघेली
आकाशवाणी के रीवा केन्द्र की लोकप्रियता बघेली में प्रसारित किए जाने वाले कार्यक्रमों की वजह से रही है। महिलाओं के लिए दोपहर में 1.30 बजे घर-आंगन और सायं 7.20 बजे चौपाल कार्यक्रम अब बघेली में नहीं सुनाई देंगे। चौपाल की लोकप्रियता गांवों में गजब की रही है। लोगों को बघेली बोली में संदेश देने का सबसे सशक्त माध्यम रहा है। कहा जा रहा है कि चौपाल का प्रसारण होगा लेकिन वह हिन्दी में होगा। युववाणी भी अब सप्ताह में एक दिन आएगा। एक ओर सरकार मातृभाषा को बढ़ावा देने का प्रयास कर रही है, वहीं क्षेत्रीय बोली के प्रसारण को रोकने का विरोध भी शुरू हो गया है।

सबसे लोकप्रिय

शानदार खबरें

Newsletters

epatrikaGet the daily edition

Follow Us

epatrikaepatrikaepatrikaepatrikaepatrika

Download Partika Apps

epatrikaepatrika

Trending Stories

मौसम अलर्ट: जल्द दस्तक देगा मानसून, राजस्थान के 7 जिलों में होगी बारिशइन 4 राशियों के लोग होते हैं सबसे ज्यादा बुद्धिमान, देखें क्या आपकी राशि भी है इसमें शामिलस्कूलों में तीन दिन की छुट्टी, जानिये क्यों बंद रहेंगे स्कूल, जारी हो गया आदेश1 जुलाई से बदल जाएगा इंदौरी खान-पान का तरीका, जानिये क्यों हो रहा है ये बड़ा बदलावNumerology: इस मूलांक वालों के पास धन की नहीं होती कमी, स्वभाव से होते हैं थोड़े घमंडीबुध जल्द अपनी स्वराशि मिथुन में करेंगे प्रवेश, जानें किन राशि वालों का होगा भाग्योदयमोदी सरकार ने एलपीजी गैस सिलेण्डर पर दिया चुपके से तगड़ा झटकाजयपुर में रात 8 बजते ही घर में आ जाते है 40-50 सांप, कमरे में दुबक जाता है परिवार

बड़ी खबरें

Ranji Trophy Final: मध्य प्रदेश ने रचा इतिहास, 41 बार की चैम्पियन मुंबई को 6 विकेट से हरा जीता पहला खिताबBypoll results 2022 LIVE: UP की आजमगढ़ सीट से निरहुआ की हुई जीत, दिल्ली में मिली जीत पर केजरीवाल गदगदMaharashtra Political Crisis: केंद्र ने शिवसेना के बागी 15 विधायकों को दी Y प्लस कैटेगरी की सुरक्षा, शिंदे गुट ने डिप्टी स्पीकर के खिलाफ लिया ये फैसलाMaharashtra Political Crisis: शिवसेना को बीजेपी से दूर क्यों रखना चाहते हैं उद्धव ठाकरे? समझिए पूरा समीकरणसिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद, फिर से सामने आया कनाडाई (पंजाबी) गिरोहIAS के बेटे की मौत या मर्डर? छापेमारी में मिला 12 किलो सोना, 3 KG चांदी, जानिए क्या है पूरा मामलाAzamgarh Rampur By Election Result : रामपुर और आजमगढ़ में भाजपा और सपा के बीच कड़ा मुकाबलाNDA की राष्ट्रपति उम्मीदवार द्रौपदी मुर्मू के गांव में नहीं है बिजली , शुरू हुआ खंभे, ट्रांसफार्मर लगाने का काम
Copyright © 2021 Patrika Group. All Rights Reserved.