निजी स्कूलों में नि:शुल्क प्रवेश की 7611 सीटें खाली, 12 जून तक है मौका जल्द करें आवेदन

निजी स्कूलों में नि:शुल्क प्रवेश की 7611 सीटें खाली, 12 जून तक है मौका जल्द करें आवेदन
childrens admission in private school through rte

Vedmani Dwivedi | Updated: 04 Jun 2019, 11:06:57 AM (IST) Singrauli, Singrauli, Madhya Pradesh, India

12 जून आवेदन की अंतिम तिथि, एक बार पहले ही बढ़ाई जा चुकी है तिथि, पिछले वर्ष के मुकाबले 2136 कम हुए हैं आवेदन, शत प्रतिशत सीटों में प्रवेश कराने जुटा हुए है शिक्षा विभाग, 7६११ सीटें खाली, 4989 ही हुए आवेदन

रीवा. निजी स्कूलों में गरीब बच्चों के नि:शुल्क प्रवेश की प्रक्रिया करीब अंतिम दौर में है। अब आवेदन के लिए महज कुछ ही दिन शेष रह गए हैं। ऐसे में प्रवेश के लिए बहुत कम संख्या में आए आवेदन स्कूल शिक्षा विभाग के अधिकारियों के लिए मुश्किल खड़ी कर रहे हैं। एक बार पहले ही आवेदन की तिथि बढ़ाई जा चुकी है, तिथि बढ़ाने के बावजूद आवेदनों की संख्या में ज्यादा सुधार नहीं हुआ।

आवेदन कम संख्या में आना विभागीय अधिकारियों के लिए सिरदर्द बना हुआ है। १२ जून तक आवेदन की अंतिम तिथि है। ऐसे में अब करीब हफ्ते भर का समय बचा है। इस दौरान यदि शिक्षा विभाग के अधिकारी एवं जमीनी अमले ने प्रयास किया तो निश्चित रूप से सुधार होगा। यदि विभाग के अधिकारी एवं जमीनी अमले ने प्रयास नहीं किए तो बड़ी संख्या में सीटें खाली रह जाएंगी।

आरटीई के तहत हो रहा प्रवेश
शिक्षा के अधिकारी अधिनियम 2009 के तहत निजी स्कूलों में गरीब बच्चों के लिए नि:शुल्क प्रवेश की प्रक्रिया चल रही है। अभिभावक ऑनलाइन आवेदन कर नजदीकी निजी स्कूल का चयन कर रहे हैं। आवेदन की प्रक्रिया धीमी है। छात्र एवं अभिभावक बहुत कम संख्या में आवेदन कर रहे हैं। यही वजह है कि अभी तक सीट की संख्या के मुकाबले आधे भी आवेदन नहीं हुए हैं।

इस सत्र में 12600 सीटों पर प्रवेश दिया जाना है लेकिन अभी तक महज 4989 सीटों के लिए आवेदन आए हैं। जिले में 1112 निजी स्कूलो में प्रवेश दिया जाना है।

12 जून अंतिम तिथि, कुछ ही दिन रह गए शेष
इस समय आवेदन के लिए फॉर्म भरे जा रहे हैं। पहले 29 मई अंतिम तिथि निर्धारित की गई थी। कम संख्या में आवेदन होने की वजह से तिथि को बढ़ाना पड़ा। जिसे बढ़ाकर 12 जून कर दिया गया है। आवेदन के साथ ही दस्तावेजों के सत्यापन का कार्य भी चल रहा है। सत्यापन संकुल स्तर पर हो रहे हैं। ऑनलाइन आवेदन के बाद अभिभावक आवश्यक दस्तावेजों के साथ संकुल प्राचार्य के यहां सत्यापन के लिए पहुंच रहे हैं। छात्रों का चयन लाटरी के माध्यम से होगा।

आवेदन के साथ दस्तावेजों का सत्यापन
इस सत्र में स्कूल शिक्षा विभाग ने नियमों के कई तब्दीलियां की है। पिछले वर्ष लाटरी से छात्रों की लिस्ट जारी होने के बाद दस्तावेजों का सत्यापन हुआ था। जिसकी वजह से कई दिक्कते आई थीं। दस्तावेज सही नहीं होने की वजह से चयनित कई छात्र बाहर हो गए। ऐसे में उन खाली सीटों का लाभ अन्य छात्रों को नहीं मिल पाया। इसी को देखते हुए इस बार ऑनलाइन आवेदन के साथ ही दस्तावेजों के सत्यापन भी कराए जा रहे हैं। जिससे लॉटरी में जिल छात्रों का चयन हो उन्हें कोई दिक्कत न हो। पिछले वर्ष बीआरसी कार्यालय में सत्यापन की व्यवस्था थी। इस वर्ष इसे और सरल कर दिया है। आवेदन कर्ता संकुल प्राचार्य के यहां दस्तावेजों का सत्यापन करा सकते हैं।

सत्यापन में देरी की शिकायत
इन दिनों स्कूलों में छुट्टी है। जिसकी वजह से संकुल केन्द्र पर सत्यापन के लिए पहुंचने वाले अभिभावकों को संकुल प्राचार्यों से मुलाकात नहीं हो पा रही है।अभिभावकों को सत्यापन कराने में दिक्कत हो रही है। हनुमना ब्लॉक के कुछ आवेदन कर्ताओं ने ऐसी शिकायतें की हैं। जिसके बाद जिला शिक्षा परियोजना समन्वयक ने संबंधित प्राचार्यों को सत्यापन में लापरवाही नहीं करने की हिदायत दी है।

पिछले वर्ष खाली रह गईं थी ११ हजार से ज्यादा सीटें
पिछले वर्ष भी सभी सीटों पर प्रवेश नहीं हो पाया था। सत्र 2017 - 18 में कुल 18000 सीटों पर प्रवेश होना था लेकिन 7105 सीट पर प्रवेश हो पाया था। इस वर्ष सीटों की संख्या कम कर दी गई है। 12600 सीटों पर ही प्रवेश दिया जा रहा है। इस वर्ष महज पहली कक्षा में प्रवेश दिया जा रहा है। जबकि पिछले वर्ष नर्सरी एवं पहली कक्षा में भी सीटें आरक्षित की गई थीं। इस वर्ष महज पहली कक्षा में सीट आरक्षित की गई है।

Show More

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पढ़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते हैं। हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned