अनूपपुर में गायब हो गया 23 हजार क्विंटल चावल, रीवा वेयर हाउस को 6 करोड़ रुपए का क्लेम

जिले में सोलह ट्रक धान के गायब होने की जांच शुरू, नान से लेकर समिति प्रबंधक तक मनमानी

By: Rajesh Patel

Published: 20 Jul 2018, 09:26 PM IST

रीवा. रीवा-शहडोल संभाग में धान-चावल के परिवहन में बड़े पैमाने पर घोटाला सामने आया है। नागरिक आपूर्ति निगम (नान) के क्षेत्रीय कार्यालय सतना और मध्य प्रदेश वेयर हाउसिंग कारपोरेशन (एमपी डब्ल्यूएलसी) के क्षेत्रीय कार्यालय रीवा की साठगांठ से अनूपपुर में भी तेइस हजार क्विंटल चावल गायब हो गया है। इसका खुलासा नान कार्यालय सतना ने वेयर हाउस के क्षेत्रीय कार्यालय रीवा पर छह करोड़ रुपए का किए गए क्लेम में हुआ है। इधर, रीवा में सोलह ट्रक धान गायब होने के मामले में कलेक्टर ने जांच बैठा दी है।

नान के जीएम नेमा की मनमानी से करोड़ों की चपत
नान के क्षेत्रीय कार्यालय सतना और वेयर हाउस रिजनल कार्यालय रीवा के रिकार्ड के अनुसार धान खरीदी सत्र 2015-16 में अनूपपुर जिले में स्थित गोदाम से तेरह हजार क्विंटल चावल का हिसाब नहीं मिल रहा है। खरीदी सत्र बीतने के बाद नागरिक आपूर्ति निगम कार्यालय सतना ने वेयर हाउस के क्षेत्रीय कार्यालय रीवा को छह करोड़ रुपए से ज्यादा का क्लेम किया है। इसकी सूचना से वेयर हाउस के रीवा से लेकर अनूपपुर तक हडकंप मचा है।

रिजनल मैनेजर के इशारे पर जारी किया गया था ट्रक चालान

कार्यालय के आधिकारिक सूत्रों के अनुसार क्षेत्रीय कार्यालय सतना के रिजनल मैनेजर जीएम नेमा के निर्देश पर अनूपपुर गोदाम से ट्रक चालान (टीसी) जारी कर दिया गया। लेकिन, नान के अनूपपुर जिला प्रबंधक कार्यालय को इसकी जानकारी तक नहीं हुई। वेयर हाउस के गोदाम में चावल शार्ट हुआ तो नान के जिला प्रबंधक के प्रस्ताव पर वेयर हाउस के क्षेत्रीय कार्यालय को छह करोड़ रुपए काटने का नोटिस जारी कर दिया। मामला भोपाल पहुंचा तो जांच शुरू हो गई है। प्रारंभिक जांच में नान के रिजनल मैनेजर की गर्दन फंस रही है। इसकी सूचना से नान के रिजनल मैनेजर 31 जुलाई तक अवकाश पर चले गए हैं। बताया गया कि अगस्त माह में उनकी नौकरी भी पूरी हो रही है।

सोलह ट्रक धान गायब होने की जांच शुरू
रीवा के अमिलिया खरीदी केंद्र और उमरी कैप के बीच सोलह ट्रक धान गायब होने के मामले में कलेक्टर ने जांच बैठा दी है। धान खरीदी और मिलिंग का काम बंद हो गया। जिम्मेदारों की लापरवाही इस कदर है कि अमिलिया केंद्र का सोलह ट्रक धान यानी 3200 क्विंटल से ज्यादा धान का हिसाब नहीं मिल रहा है। विभागीय अधिकारी एक दूसरे पर ठीकरा फोड़ रहे हैं। दोनों ओर से दस्तावेज भी प्रस्तुत किए जा रहे हैं।

परिवहन मामले में सस्पेंड हो चुके हैं नेमा
दो साल पहले सतना से रीवा के सिरमौर के लिए गेहूं का परिवहन किए जाने में गड़बड़ी पाए जाने पर प्रभारी रिजनल मैनेजर जीएम नेमा को सस्पेंड कर दिया था। लेकिन उन्होंने विभागीय अधिकारियों से सांठगांठ कर दोबारा सतना में रिजनल मैनेजर का प्रभार देखने लगे। एक बार फिर गड़बडिय़ों की जांच शुरू हुई तो रिर्जनल मैनेजर की कारतूत सामने आने लगी। अनूपपुर के मामले में गर्दन फंसने की सूचना पर वो अवकाश पर चले गए।

 

Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned