Collector Rewa के आकस्मिक निरीक्षण में ड्यूटी से गायब मिले जिला अस्पताल के डॉक्टर, नर्स व सुरक्षा गार्ड

-मरीजों ने Collector Rewa को बताया, डेंगू, मलेरिया की जांच भी नहीं हो रही अस्पताल में

By: Ajay Chaturvedi

Published: 04 Oct 2021, 11:28 AM IST

रीवा. Collector Rewa इलैयाराजा टी अचानक पहुंच गए जिला अस्पातल। मचा हड़ंकप। ड्यूटी से नदारद स्वास्थ्य कर्मियों जिनमें एक डॉक्टर भी शामिल मिले। इन सभी के विरुद्ध सख्त कार्रवाई करने की हिदायत दी। कलेक्टर वार्डों में भी पहुंचे और मरीजों व तीमारदारों से मिल कर उनका हाल जाना तथा उनकी पीड़ा भी सुनी।

कलेक्टर रीवा बीती देर रात अचानक पहुंच गए जिला अस्पताल। वहां पहुंचे तो पता चला कि इमरजेंसी ड्यूटी वाले स्वास्थ्यकर्मी, यहां तक कि डॉक्टर भी अनुपस्थित हैं। ऐसी बुरी स्थिति जान वह काफी नारज हुए और दो सुरक्षा गार्ड जो गैरहाजिर रहे उनका एक दिन का वेतन काटने का निर्देश दिया। साथ ही एक अन्य गार्ड को कार्य में लापरवाही बरतने के लिए उसका भी एक दिन का वेतन काटने की हिदायत दी। वह जब आईसीयू वार्ड पहुंचे तो पाया कि डॉक्टर व नर्स भी नदारद हैं। ऐसे में अनुपस्थित डॉ रंजीत सिंह व नर्स रश्मि सोनी का भी एक-एक दिन का वेतन काटने का निर्देश सिवल सर्जन को दिया। साथ ही एक अन्य डॉ ईशान गोयल को चेतावनी देकर समझाने की हिदायत दी।

ये भी पढें- CM Shivraj Chauhan कुछ ही देर में पहुंच रहे हैं सिंगरौली, विंध्य क्षेत्र के लिए होगी सौगातों की बरसात

कलेक्टर रीवा का जिला अस्पताल में आकस्मिक निरीक्षण

उन्होंने आईसीयू वार्ड के मरीजों से उनका हाल जाना तथा इलाज व दवा वितरण संबंधी जानकारी हासिल की। वो गायनी और अन्य वार्डों में भी गए और वहां भी डॉक्टर व नर्स के गैरहाजिर होने पर उनसे जवाब तलब करने को कहा। अस्पताल परिसर में अपक्षित साफ-सफाई न मिलने पर नाराजगी जताई। उन्होंने शिकायत रजिस्टर भी देखा और शिकायतों का त्वरित निस्तारण न पाए जाने पर नाराजगी व्यक्त की। वार्डों के निरीक्षण के दौरान मरीजों और तीमारदारों ने बताया कि अस्पताल में डेंगू और मलेरिया की जांच नहीं हो रही है। ऐसे में उन्हें सारी जांच बाहर से करानी पड़ रही हैं। इसे कलेक्टर ने गंभीरता से लिया और सिवल सर्जन व अन्य जिम्मेदारो से सवाल किया।

अस्पताल में जांच न होने के बारे में जिम्मेदारों ने कलेक्टर को बताया कि सर्वर में तकनीकी गड़बड़ी के चलते जांच में व्यवधान आ रही है। इस पर कलेक्टर ने मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी को तत्काल सारी व्यवस्था दुरुस्त करने की हिदायत दी। उन्होंने बाहर से कराई गई जांच की राशि लौटाने के निर्देश भी दिए।

उन्होंने अस्पताल परिसर में कायाकल्प अभियान के तहत कराए जा रहे कार्यों को भी देखा। इस दौरान खुली नाली को ढंकने का निर्देश दिया।

कलेक्टर के निरीक्षण के दौरान सिविल सर्जन केपी गुप्ता, नगर निगम के अधीक्षण यंत्री शैलेंद्र शुक्ल आदि मौजूद रहे।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned