जिला पंचायत में दो साल से अटकी अनुकंपा नियुक्तियां, 19 अभ्यिर्थियों ने किया आवेदन

शासन की गाइड लाइन के तीन साल बाद भी पंचायतों में मृत कर्मचारियों के आश्रितों की पूरी नहीं हो सकी नियुक्ति प्रक्रिया -एडिशनल सीइओ की टेबल पर रखी फाइलों पर जम रही धूल की लेयर, नियुक्ति को लेकर अफसरों की चौखट पर पसीना बहा रहे आश्रित

By: Rajesh Patel

Published: 27 Jul 2020, 09:52 AM IST

रीवा. जिला पंचायत कार्यालय में अनुकंपा नियुक्ति की फाइलों पर धूल की लेयर जम रही है। प्रक्रिया चालू होने के दो साल बाद भी नियुक्तियां फाइनल नहीं हो सकी । शासन की गाइड लाइन के तीन साल बाद भी प्रक्रिया को पूरा नहीं किया जा सका । तत्कालीन जिपं सीइओ ने अनुकंपा नियुक्ति की प्रक्रिया शुरू की। लेकिन, अभी तक फाइनल नहीं हो सकी है। नियुक्ति के लिए पंचायत सचिवों के परिजन चक्कर लगा रहे हैं।

दो साल पहले चालू कर दी गई
पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग में शासकीय सेवा के दौरान पंचायत कर्मियों के आकस्मिक मौत के बाद आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति के लिए शासन ने वर्ष 2017 की गाइड लाइन जारी की है।मृत पंचायत कर्मियों के आश्रितों की नियुक्त गाइड लाइन के तहत जिला पंचायत कार्यालय में दो साल पहले चालू कर दी गई है। गाइड लाइन जारी होने के बाद जिले के विभिन्न ब्लाकों से 19 अभ्यर्थियों ने अनुकंपा नियुक्ति के लिए जिला पंचायत कार्यालय में आवेदन किया है।
नियुक्ति की प्रक्रिया ठंडे बस्ते में पड़ी
तत्कालीन सीइओ ने प्रक्रिया को पूरी करने के लिए एडिशनल सीइओ सीबी मिश्रा की अध्यक्षता में टीम गठित की गई है। तत्कालीन एडिशनल सीइओ ने अभ्यर्थियों के आवेदन प्रक्रिया के तहत अभ्यर्थियों के आवेदनों का सत्यापन का पूरा कर लिया गया है। कुछ अभ्यर्थियों के दस्तावेज सत्यापन के लिए ब्लाक को भेजे गए हैं। इस बीच जिपं सीइओ और एडिशनल सीइओ का स्थानांतरण हो गया। तब से नियुक्ति की प्रक्रिया ठंडे बस्ते में पड़ी है। आश्रितों के मुताबिक नियुक्ति प्रक्रिया करीब-करीब पूरी हो गई है। रीवा, गंगेव जनपद में तीन-तीन आश्रितों के आवेदन आए हैं। इसी तरह अन्य ब्लाक को मिलाकर 19 अभ्यिर्थियों ने आवेदन किया है। रीवा में रामरहीस के आश्रित लंबे समय से भटक रहे हैं। अनुकंपा नियुक्ति के लिए आश्रिमों ने आवेदन किया है।

हनुमना-मऊगंज ने नहीं भेजी जानकारी अनुकंपा नियुक्ति
नियुक्ति के लिए हनुमना-मऊगंज ने नहीं भेजी जानकारी अनुकंपा नियुक्ति की प्रक्रिया के दौरान जिपं कार्यालय से हनुमना और मऊगंज के अभ्यिर्थियों के दस्तावेजों की जांच के बाद हनुमना और मऊगंज जनपद कार्यालय से अभ्यर्थियों के दस्तावेज संबंधी जानकारी मांगी है। लंबे समय बाद भी जानकारी मुख्यालय पर नहीं भेजी गई है।


ओबीसी का आरक्षण 27 प्रतिशत कर दिया गया
नियुक्ति में आरक्षण का भी पेंचजिला पंचायत कार्यालय में अनुकंपा नियुक्ति की प्रक्रिया में आरक्षण का भी पेंच है। एक साल पहले कांग्रेस सरकार में ओबीसी का आरक्षण 27 प्रतिशत कर दिया गया है। इसके अलावा सामान्य वर्ग में भी अति गरीबों को दस प्रतिशत की आरक्षण नीति की व्यवस्था लागू हो गई थी। अनुकंपा नियुक्ति के दौरान कमेटी के सामने आरक्षण का भी पेंच आ गया है। जिससे अभी प्रक्रिया लटकी हुई है।

Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned