सीमेंट फैक्ट्री के मृत कर्मचारियों के परिजनों को 40-40 लाख के मुआवजा पर बनी सहमती, 30 घंटे बाद PM

संजय गांधी अस्पताल में प्रशासन की मौजूदगी में दो दिन तक चला सीमेंट फैक्ट्री प्रबंधन व परिजनों के बीच मंथन, प्रशासन के प्रयास से पोस्टमार्टम कराने को तैयार हुए परिजन

By: Rajesh Patel

Published: 09 Jan 2021, 09:01 AM IST

रीवा. अल्ट्राटेक सीमेंट फैक्ट्री के मृत कर्मचारियों के शव का पोस्टमार्टम दूसरे दिन शुक्रवार को हुआ। संजय गांधी अस्पताल में फैक्ट्री प्रबंधन और परिजनों के बीच प्रत्येक मृत परिवार को मुआवजा, नौकरी व बच्चों की पढ़ाई लिखाई की मांग के बीच ३० घंटे बाद मृत परिजनों और सीमेंट फैक्ट्री प्रबंधन के बीच 40-40 लाख रुपए मुआवजा के बाद सहमती बनी है। प्रशासन के प्रयास के बाद संजय गांधी अस्पताल में दूसरे दिन शुक्रवार दोपहर बाद करीब दो बजे फैक्ट्री और परिजनों के बीच सहमती बनी।
अंतिम संस्कार के लिए दिए 25-25 हजार रुपए
हुजूर तहसीलदार यतीश शुक्ला के मुताबिक फैक्ट्री प्रबंधन के बीच हादसे में मृत प्रत्येक परिवार के वारिस को 40-40 लाख रुपए की सहायता राशि देने की सहमती बनी है। इसके अलावा प्रत्येक मृतक परिवार को दाहसंस्कार के लिए 25-25 हजार रुपए उपलब्ध कराया गया। सामझौते के बाद करीब तीन बजे से तीनों शवों का पोस्टमार्टम किया गया। इस दौरान फैक्ट्री प्रबंधन की ओर से अस्पताल से शव को घर तक पहुंचाने के लिए शव वाहन भी उपलब्ध कराए गए। समझौता के दौरान फैक्ट्री प्रबंधन की ओर से एचआर हेड मयंक श्रीवास्तव और प्लांट हेड भानू प्रताप ङ्क्षसह, अमहिया थाना प्रभारी शिवा अग्रवाल, एसजीएमएच के सीएमओ डॉ. अतुल ङ्क्षसह सहित तीनों मृतकों के परिजन मौजूद रहे।
गंभीर घायल को प्रयागराज रेफर
संजय गांधी अस्पताल में तीन मृतकों के शव का पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को दिए गए। इधर, घायलों में एक की हालत गंभीर होने पर फौरीतौर पर प्रयागराज रेफर कर दिया गया है। बताया गया कि गंभीर घायल को पहले एयर एंबुलेंस से दिल्ली भेजने की बात हुई। बाद में प्रयाराज रेफर कर दिया गया।

रातभर मर्चुरी में रख रहा शव
गोविंदगढ़ में छुहिया घाटी में हादसे में मारे गए मृतकों के शव पंचनामा कर मुर्चरी में रखवा दिए गए थे। पहले दिन फैक्ट्री प्रबंधन और परिजनों के बीच वार्ता बेनतीजा रही। जिससे रातभर मृतक गिरीश त्रिपाठी पिता बद्री प्रसाद निवासी पटेहरा बैकुंठपुर, प्रतिभा पांडेय पति भस्कर निवासी समान, रज्जन मिश्रा पिता केसरी पसाद निवासी गजिगवां जिला सतना का शव मर्चुरी में रखा रहा। दूसरे दिन सहमती बनने के बाद पोस्टमार्टम कर शव परिजनों को उपलब्ध कराए गए। देरशाम घर पर शवों का दाहसंस्कार करा दिया गया।

Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned