कोरोनाबंदी में घर पर जरूरतों की सामग्री के लिए बढ़ सकता है संकट, यहां जानिए वर्तमान हालात

- चीन की तर्ज पर आनलाइन सामग्री घर पहुंचाने की व्यवस्था हो तो बने बात


रीवा। कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन की अवधि बढ़ाकर 14 अप्रेल तक कर दी गई है। कुछ हद तक लोगों ने अपनी व्यवस्थाएं की हैं लेकिन अधिकांश लोग ऐसे हैं जो महज सप्ताह भर का ही इंतजाम कर पाए हैं। ऐसे में उन्हें आने वाले दिनों में जरूरत की सामग्री को लेकर संकट उत्पन्न हो सकता है। हालांकि लॉकडाउन के दौरान रोजमर्रा की जरूरतों को छूट दी गई है। शहर के अधिकांश हिस्सों में किराना, सब्जी, दूध, दवाएं, राशन आदि की दुकानें खुली हैं। कोरोना संक्रमण की शुरुआत चीन से हुई लेकिन वहां पर सबसे पहले लॉकडाउन कर लोगों के घरों तक सामग्री पहुंचाने के इंतजाम किए गए। उसी तर्ज पर अब रीवा में भी मांग उठने लगी है कि उनके घरों तक सुविधाएं पहुंचें तो उन्हें बाहर निकलना नहीं पड़े।
- हेल्पलाइन नंबर की जरूरत
प्रशासन ने कोरोना संक्रमण की जांच के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किया है, जिसमें कई अधिकारियों के मोबाइल नंबर भी दिए गए हैं। इसी तरह रोजमर्रा की वस्तुओं की सप्लाई के लिए भी हेल्पलाइन नंबर जारी करने की मांग उठाई जा रही है, ताकि लोग सूचनाएं दे सकें।
---
दुकानदारों को होमडिलवरी करने के निर्देश
कलेक्टर ने एक आदेश जारी करते हुए आवश्यक जरूरतों से जुड़ी सामग्री की होमडिलवरी करने के लिए कहा है। सामग्री घर पहुंचाने वालों का पास जिला पंचायत एवं संबंधित एसडीएम कार्यालय से बनाए जा रहे हैं। खाद्य सामग्री का उत्पादन करने वाले उद्योग चलते रहेंगे। वर्कर्स को एक ही स्थान पर रुकने और हर आधे घंटे में सेनिटाइजर का उपयोग करने के लिए कहा गया है। आटा चक्की चालू रखने के लिए कहा गया है, जिसमें टोकन व्यवस्था होगी ताकि अधिक संख्या में लोग एक साथ नहीं जुटें। फल, सब्जी, दूध, अनाज आदि की आवाजाही जारी रखने के लिए कहा गया है। लोगों ने प्रशासन से होम डिलवरी की सुविधा देने की मांग उठाई है।

Corona virus
Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned