लॉक डाउन के चलते सड़क दुर्घटनाओं में गिरावट, सत्तर फीसदी से अधिक की कमी

सड़कों में नहीं निकले वाहन, दो माह में पन्द्रह की हुई मौत

By: Shivshankar pandey

Published: 06 Jun 2020, 09:00 PM IST

रीवा। लॉक डाउन ने भले ही लोगों के लिए समस्याएं खड़ी हो लेकिन इसने सड़क हादसों को एक झटके में कम कर दिया। लॉक डाउन में वाहनों की आवाजाही सड़कों पर कम रहती थी जिसका असर सड़क दुर्घटनाओं पर पड़ा है। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष हादसों में काफी कमी दर्ज की गई है।

कोरोना वायरस के चलते घोषित था लॉक डाउन
कोरोना वायरस के चलते लॉक डाउन घोषित कर दिया गया था जिसमें लोगों को अकारण घरों से निकलने पर रोक दी। इसके अतिरिक्त तमाम यात्री वाहन भी बंद रहे जिसका असर सड़क दुर्घटनाओं पर देखने को मिला है। गत वर्ष की तुलना इस वर्ष दो माह के दौरान सड़क हादसों में सत्तर फीसदी की कमी दर्ज की गई है। वर्ष 2019 में अप्रैल महीने में 117 हादसे हुए थे लेकिन इस वर्ष महज 21 हादसे हुए है। वहीं मई महीने में भी हादसों में गिरावट आई है।

गत वर्ष हुई थी 180 घटनाएं
गत वर्ष जहां एक माह में 180 हादसे हुए थे वहीं इस वर्ष महज 65 घटनाएं हुई है। हादसे में घायल और मृतकों की संख्या में भी कमी आई है। पुलिस विभाग अब सड़क हादसों में कमी के कारणों का पता लगा रही है जिसके आधार पर भविष्य में सड़क हादसों को कम किया जा सके।

प्रवासी मजदूर सबसे ज्यादा हुए हादसे का शिकार
लॉक डाउन में सबसे ज्यादा प्रवासी मजदूर हादसे का शिकार हुए है। चोरहटा थाना क्षेत्र में दो हादसों में प्रवासी मजदूर शिकार हुए थे जो दूसरे प्रांत से अपने घर जा रहे थे लेकिन रास्ते में ही वे सड़क हादसे का शिकार हो गए। जिले के विभिन्न थाना क्षेत्रों में आधा दर्जन से अधिक हादसों में प्रवासी मजदूर शिकार हुए है।

भविष्य में हादसों को रोकने का होगा प्रयास
लॉक डाउन के दौरान सड़क हादसों में कमी आई है। गत वर्ष की तुलना में इस वर्ष सड़क हादसों व उसमें घायल व मृतकों की संख्या में कमी आई है। जिन कारणों से हादसों में कमी आई है उसका पता लगाकर हम भविष्य में भी इन्हें रोकने का प्रयास करेेंगे।
मनोज वर्मा, डीएसपी यातायात

Show More
Shivshankar pandey Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned