विवि थाने के भवन निर्माण करवाने की कवायद में विभाग जुटा

विवि थाने के भवन निर्माण करवाने की कवायद में विभाग जुटा

By: Bajrangi rathore

Published: 06 Jan 2020, 10:17 PM IST

रीवा। मप्र के रीवा जिले में लंबे समय से अधर में लटके विवि थाने के भवन निर्माण करवाने की कवायद में विभाग जुटा हुआ है। विभाग द्वारा अब शासकीय भवन व जमीन तलाशी जा रही है जिसमें भवन का निर्माण कराया जा सके। विवि थाने के भवन निर्मण हेतु पीएचक्यू द्वारा राशि जारी की गई थी।

जिस पर विवि की जमीन पर भवन का निर्माण कराया जा रहा था लेकिन विवि द्वारा उसमें आपत्ति की गई जिससे काम रुक गया और करीब दो साल से थाने का भवन नहीं बन पा रहा है। अब विभाग थाना भवन का अन्यत्र निर्माण करवाने के लिए जमीन तलाश रहा है।

रविवार को नगर पुलिस अधीक्षक शिवेन्द्र सिंह, टीआई पियूष चार्ल ने इटौरा, बरा, कोठार व बाईपास के आसपास जमीन की तलाश की है। विभाग फिलहाल कोई शासकीय बिल्डिंग तलाश रहा है जिसमें कुछ समय के लिए थाने का संचालन किया जा सके। तब तक थाने का भवन भी बनकर तैयार हो जायेगा।

हालांकि अभी तक विभाग को जमीन नहीं मिल पाई है। पुलिस विभाग जल्द से जल्द थाना भवन का निर्माण करवाने का प्रयास कर रहे है। थाना निर्माण के लिए स्वीकृत राशि अभी भी विभाग के पास मौजूद है।

जर्जर हालत में है भवन

वर्तमान में विवि थाने का भवन पूरी तरह से जर्जर हालत में है और वह किसी भी दिन धराशायी हो सकताा है। दुकाननुमा चार-पांच कमरों में थाने का संचालन किया जा रहा है जिसमें बैठने तक की जगह नहीं है। हालत यह है कि बरामदे में टीन शेड लगा हुआ है जिसमें बैठकर पुलिसकर्मी काम करते हंै। बरसात के दिनों में तो वह भी बैठने लायक नहीं रहता है।

2014 से रुका काम

थाना भवन निर्माण 2014 में स्वीकृत हुआ था। राशि आने के बाद विश्वविद्यालय की जमीन पर भवन का निर्माण शुरू किया गया। करीब 9 लाख रुपए का काम भी उसमें हो चुका था लेकिन बाद में मामला न्यायालय में पहुंच गया जिसके चलते काम रोक दिया गया। पुलिस विभाग लगातार भवन निर्माण करवाने का प्रयास कर रहा है।

विवि थाने का भवन निर्माण करवाने के लिए जमीन तलाशी जा रही है। फिलहाल कोई शासकीय बिल्डिंग तलाशी जा रही है जिसमें थाने का संचालन किया जा सके। जल्द भवन निर्माण कराया जायेगा।
शिवेन्द्र सिंह सीएसपी रीवा

Bajrangi rathore Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned