गेहूं पंजीयन में 10 हेक्टेयर से ज्यादा रकवे में गड़बड़ी, सीलिंग एक्ट में होगी कार्रवाई

जिला प्रशासन समर्थन मूल्य पर गेहूं की तौल को लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई है। प्रारंभिक चरण में पंजीयन का काम चालू है। पंजीयन में गड़बड़ी की आशंका पर कलेक्टर ने जांच रिपोर्ट तलब की है

रीवा. जिला प्रशासन समर्थन मूल्य पर गेहूं की तौल को लेकर तैयारियां शुरू कर दी गई है। प्रारंभिक चरण में पंजीयन का काम चालू है। पंजीयन में गड़बड़ी की आशंका पर कलेक्टर ने जांच रिपोर्ट तलब की है। दोषी राजस्व निरीक्षक, पटवारी और पंजीयनकर्ताओं के खिलाफ दंडात्मक कार्रवाई होगी। इतना ही नहीं जांच के दौरान संबंधित भू-स्वामी पर भी सीलिंग एक्ट के तहत कार्रवाई का निर्णय लिया गया है।

सहकारी समितियों की मनमानी से पंजीयन में गड़बड़ी
कलेक्टर दो दिन पहले जांच के लिए फील्ड में निकले। गेहूं पंजीयन केन्द्र पर गड़बड़ी मिलने पर कलेक्टर ने एफआइआर दर्ज कराने का निर्देश दिया है। पंजीयन के दौरान दस हेक्टेयर से ज्यादा के रजिस्ट्रेशन में किसानों के खेत पर वास्तविक बोनी और कुल भूमि के रकबा में अंतर है। केन्द्रों पर गिरदावरी के आधार पर ऑनलाइन हो रहे पंजीयन व मोबाइल एप के जरिए किसानों के पूरे रकबे का पंजीयन कर दिया। मामले में कलेक्टर ने दस हेक्टेयर से अधिक की बोनी के पंजीयन की जांच बैठा दी है।

जांच में गड़बड़ी मिली तो सीलिंग एक्ट में जाएगी भूमि
कलेक्टर ने कहा कि पंजीयन की लिस्ट में जिन किसानों का रजिस्ट्रेशन 10 हेक्टेयर से अधिक है। ऐसे किसानों के खेत पर बोनी की जांच करें। तीन दिन पहले कलेक्टर के पास शिकायत पहुंची कि जवा में एक किसान के नाम 51 हेक्टेयर एरिया में पंजीयन हुआ है। जिस पर गेहूं की बोनी की गई है। कलेक्टर ने त्योंथर एसडीएम से जांच कराई तो बात झूठी निकली। एसडीएम ने जवाब दिया कि दुकानों पर ऑनलाइन पंजीयन के दौरान सर्वर व्यस्त होने के कारण एक ही नंबर के रजिस्ट्रेशन से दो से तीन बार हो जाने से रकबा अधिक बढ़ गया। जिसे जांच कर निरस्त कर दिया गया है।

पचास हजार हेक्टेयर का हो चुका है पंजीयन
जिले में अब तक 21741 किसानों ने पचास हजार हेक्टेयर बोनी का पंजीयन करा चुके हैं। जिसमें 15 हजार किसान पुराने हैं। शेष 5974 नए किसानों ने रजिस्ट्रेशन कराया है। जिसमें 1085 किसानों ने मोबाइल एप के जरिए रजिस्ट्रेशन कराया है। जिसमें करीब 143 किसानों ने रजिस्ट्रेशन में अपडेशन किया है।

Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े

MP/CG लाइव टीवी

हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned