डॉक्टर अस्पताल से नदारद, मरीज करते रहते हैं इंतजार

डॉक्टर अस्पताल से नदारद, मरीज करते रहते हैं इंतजार

Mahesh Kumar Singh | Publish: Sep, 08 2018 12:02:10 PM (IST) Rewa, Madhya Pradesh, India

प्रसूताओं को लिखी जाती है बाहर की दवाइयां, ओपीडी पहुंची 200 के पार


रीवा. स्वास्थ्य केन्द्र में डॉक्टरों की लापरवाही मरीजों की जान पर बन आई है। मौसमी बीमारियों का कहर बढ़ता जा रहा है। जिससे ओपीडी 200 के पार पहुंच चुकी है। वहीं अस्पताल में अव्यवस्था की हालत यह है कि डॉक्टर कक्ष से नदारद रहते हैं और मरीज उनके इंतजार में परेशान होते हैं। इतना ही नहीं प्रसूताओं को अस्पताल में दवा नहीं मिलती, बाहर की दवाइयां लिखी जाती हैं। यह हाल सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र सेमरिया का है।

अस्पताल की ओपीडी में मरीजों की भारी भीड़ थी। 100 से अधिक मरीज पर्ची लेकर जब चिकित्सकों को दिखाने पहुंचे तो उनका कक्ष और कुर्सी मिली। जबकि मरीज कराहते हुए लाइन में लगे रहे। बताया गया कि डॉक्टर समय से पहले ही उठकर चले गए और अब घर में मरीजों को देखेंगे। जिससे मरीज भडक़ गए और डॉक्टर को बुरा-भला कहते हुए ओपीडी की पर्ची लेकर गए झोलाछापों डॉक्टर के पास इलाज कराने पहुंच गए। कर्मचारियों ने बताया कि डॉक्टर 12 बजे ही अस्पताल से चले जाते हैं और निजी क्लीनिक में मरीजों को देखते हैं। वहीं एक्सरे कमर्चारी के न आने से मरीजों को रीवा एक्सरे कराने के लिए जाना पड़ता है।

लिखी जाती हैं बाहर की दवाइयां
प्रसूति के बाद महिलाओं की छुट्टी के बाद उनको बाहर की दवाइयां लिखी जाती हैं। कई महिलाओं ने बताया कि अस्पताल से दवाई नहीं दी जाती। बाहर के मेडिकल स्टोर से दवाइयां खरीदने के लिए लिख दिया जाता है। यहां तक कि अस्पताल के अंदर ही मेडिकल स्टोर संचालक मौजूद रहते हैं और मरीजों की पर्ची लेकर स्टोर से दवा खरीदने को विवश करते हैं।

अस्पताल में चोरों तरफ गंदगी
अस्पताल परिसर के चारों ओर गंदगी पसरी है। आवारा मवेशी, कुत्तों सहित सुअरों का डेरा जमा हुआ है। जिससे यहां उपचार कराने आने वाले मरीजों एवं उनके परिजनों को भारी परेशानी होती हैं। अस्पताल की गंदगी से मरीजों के साथ आने वाले उनके परिजन भी बीमार हो जाते हैं। अस्पताल के ओपीडी पास ही सुअरों को झुण्ड अपना अड्डा बनाए हुए हैं। वहीं जानकारी देने के बाद भी बीएमओ एवं सीएमओ कभी भी अस्पताल का निरीक्षण नहीं करते।

-----------------------
डॉक्टर की ड्यूटी प्रतिदिन के अनुसार लगाई गई है। डॉक्टर के न आने से मरीजों को परेशानियों का सामना करना पड़ा है। संबंधित डॉक्टर के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। बाहर की दवा यदि लिखी जा रही है तो जांच होगी।
डॉ. डीपी पाण्डेय, बीएमओ

----------------------
डॉक्टरों के न रहने मरीज परेशान हुए, बीएमओ को इसका ध्यान रखना चाहिए। उन्हें अस्पताल का निरीक्षण करने के लिए निर्देशित किया गया है। शिकायत मिली है, जांच कराकर कार्रवाई की जाएगी।
डॉ. आरएस पाण्डेय, सीएमएचओ रीवा

MP/CG लाइव टीवी

खबरें और लेख पड़ने का आपका अनुभव बेहतर हो और आप तक आपकी पसंद का कंटेंट पहुंचे , यह सुनिश्चित करने के लिए हम अपनी वेबसाइट में कूकीज (Cookies) का इस्तेमाल करते है । हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति (Privacy Policy ) और कूकीज नीति (Cookies Policy ) से सहमत होते है ।
OK
Ad Block is Banned