पेयजल संकट : अप्रैल में 50-60 फीट नीचे गिरा जलस्तर, पानी के लिए हाहाकार

जिले में सबसे अधिक गंगेव, सिरमौर और हनुमाना में पानी के लिए जद्दो-जहद, 3000 से ज्यादा हैंडपंप बंद, 500 से ज्यादा हैंड़पंप सुधार योग्य नहीं, 94 नलजल परियोजनाओं पर जम रही धूल की लेयर

By: Rajesh Patel

Published: 03 Apr 2021, 08:45 AM IST

Drinking Water Crisis: Water level drags down 50-60 feet in April, water scarcity
rajesh patel IMAGE CREDIT: patrika

रीवा. गर्मी शुरू होते ही ग्रामीण क्षेत्र में पेयजल का संकट बढने लगा। जनवरी की तुलना में अप्रैल के शुरुआत में ही ग्रामीण क्षेत्र में जलस्तर औसत 50-60 फीट नीचे घिसक गया। जलस्तर नीचे गिरने से अप्रेल के पहले सप्ताह में ही तीन हजार से ज्यादा हैंड़पंप पानी देना छोड़ दिया। जिससे ग्रामीण क्षेत्र में हर ओर पानी के लिए अभी से हाहाकार मचा है।

2670 हैंडपंपों ने छोड़ा पानी
जिले में 2670 हैंड़पंप बंद पड़े हैं। हैरानी की बात तो यह कि मोटर पंप और पाइपलाइन क्षतिग्रस्त होने से 94 परियोजनाएं खराब पड़ी हैं। पंचायत और लोक स्वास्थ्य विभाग की कागजी खींचतान में जनता का कंठ सूख रहा है।

30 हजार में 28 हजार हैंडपंप के चालू होने का दावा
जिले के 827 ग्राम पंचायतों में 30737 हैंड़पंप स्थापित किए गए हैं। जिसमें 28,067 हैंड़पंपों चालू है। और 2670 को बंद बताया है। पेयजल संकट से निपटने दो जोन में बांटा गया है। पहला रीवा व दूसरा मऊगंज। मऊगंज के ज्यादातर एरिया में अप्रेल माह में ही औसत 40 से 60 फीट जलस्तर नीचे घिसक गया है।

14 करोड़ की योजना बेमानी
सिरमौर नगर पंचायत में पेयजल का संकट खड़ा हो गया है। होली त्योहार के पहले एसडीएम ने कइयो पंप के बिजली के कनेक्शन कटवा दिए। जिससे पेयजल का संकट और बढ़ गया। यहां पर पांच साल से निर्माणाधीन करीब 14 करोड़ की पेयजल व्यवस्था अभी तक पूर्ण नहीं हो सकी है। नगर पंचायत में मोहल्ले वासी पानी के लिए जद्दो जहद कर रहे हैं। इसी तरह मनगवां, मऊगंज, हनुमना, डभौरा आदि नगर पंचायतों में पानी के लिए रहवासी जद्दो जहद कर रहे हैं।

रीवा जोन में 60, मऊगंज में 34 परियोजनाएं खराब
रीवा जोन के पांच ब्लाकों के 60 गांवों में नलजल परियोजनाएं बंद पड़ी हैं। जबकि मऊगंज जोन के चार ब्लाक में 34 परियोजनाएं बंद पड़ी हैं।

केस--1
मऊगंज के बहेरीनानकार में मोटरपंप खराब होने के कारण ग्रामीणों के सामने पेयजल का संकट खड़ा हो गया है। हैरानी की बात तो यह कि इसी क्षेत्र के नौढिय़ा में केबल चोरी के कारण नलजल योजना बंद पड़ी है। सेंगरवार में पंचायत के द्वारा चालू नहीं की जा रही है।

केस--2
सिरमौर के हटवा में पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने के कारण जलापूर्ति नहीं हो पा रही है। जवा के कटांगी में मोटर पंप खराब पड़ी है। त्योथर के कलवारी में मोटर पंप बोर में गिर जाने के कारण पेयजल का संकट खड़ा हो गया है। चंदपुर में पंचायत द्वारा नहीं चलाए जाने पर दिक्कत है। रायपुर कर्चुलियान के बदवार में मोटर पंप खराब है।

फैक्ट फाइल
सुधार योग्य--137
असुधार योग्य--414
जलस्तर गिरने से बंद--2119

Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned