पत्रिका रियालिटी चेक : तहसील-ब्लाक में शाम पांच बजे के बाद मुख्यालय में नहीं रहते 90 फीसदी कर्मचारी

जिले में तहसील, ब्लाक, नगर पंचायत स्तर पर 20 विभाग के अधिकारी-कर्मचारियों का मुख्यालय, फील्ड में कार्यालय आने जाने का शेड्यूल निर्धारित नहीं

By: Rajesh Patel

Updated: 24 Jun 2020, 10:01 AM IST

रीवा. जिले में फील्ड के कार्यालयों में अफसरों को छोड़ 90 फीसदी अधिकारी व कर्मचारी शाम पांच बजे के बाद मुख्यालय छोड़ देते हैं। तहसील और ब्लाक स्तर पर कुछ कर्मचरियों को छोड़ दे तो अधिकांश कर्मचारियों का कार्यालय आने-जाने का शेड्यूल निर्धारित नहीं है। इतना ही नहीं कई ऐसे विभाग हैं जिनके कार्यालय में लंबे समय से ताला लटक रहा है। अनुभाग स्तर पर अधिकारी व कर्मचरी कार्यालय में बैठते ही नहीं है।

सीइओ को छोड़ तो दो ज्यादातर कर्मचारी मुख्यालय छोड़ देते है

सोमवार को टीएल बैठक के दौरान ब्लाक व तहसील स्तर पर मुख्यालय रहने के लिए कलेक्टर ने निर्देश दिया है। निर्देश के दूसरे दिन मंगलवार को पत्रिका ने जवा और नईगढ़ी ब्लाक व तहसील मुख्यलय की रियालिटी चेक की तो तस्वीरें सामने आई। तहसीलदार, सीइओ को छोड़ तो दो ज्यादातर कर्मचारी मुख्यालय छोड़ देते हैं। महिला बाल विकास की परियोजना अधिकारी मालती पांडेय के आवास पर शाम छह बजे ताला लटक रहा है। आवास प्रभारी पुष्पेन्द्र ङ्क्षसह मुख्यालय पर नहीं रहते। रीवा मुख्यालय से आना जाना है। कृषि विस्तार अधिकारी तो मुख्यलय पर रहते ही नहीं है। ब्लाक के निकट ही गांव है। घर से आना जाना है। कार्यालय में प्रमुख अधिकारियों को छोड़ दे तो 90 फीसदी अधिकारी व कर्मचारियों की कार्यालय में शाम चार बजे से ही कुर्सियां खाली होने लगती हैं। शाम पांच बजे तक मुख्यालय छोड़ देते हैं। कार्यालय के कुछ कर्मचरियों को छोड़ दे तो अधिकतर कर्मचरियों का यही हाल है।

पीडब्ल्यूडी के उपखंड कार्यालय में लटक रहा ताला
जवा में पीडब्ल्यूडी उपखंड कार्यालय में ताला लटक रहा है। कभी-कमी टाइम कीपर कार्यालय खोलने के लिए आता है। इसी तरह सिंचाई और पीएचई विभाग का कोई कर्मचरी नहीं रहता है। कॉल पर पहुंचते हैं। ज्यादातर अधिकारी व कर्मचरियों का शहर से आना जाना है।

नईगढ़ी में सीइओ के बंगले में स्वच्छता समन्वयक का कब्जा
जिले के नईगढ़ी ब्लाक सीइओ का आवास जर्जर हो गया है। सीइओ किराए के भवन में निवास करते हैं। कार्यालय कर्मचारियों के सीइओ के आवास में स्वच्छता विभाग की महिला ब्लाक समन्वयक रहती हैं। लंबे समय से रह रहीं हैं। तसीलदार राकेश शुक्ला आवास में रात्रि को भी मुख्यालय पर रहते हैं। नगर पंचायत सीएमओ अंकिता जैन मुख्यालय पर रहती हैं। महिला बाल विकास की परियोजनाधिकारी अधिकारी सप्ताह में दो दिन जिला मुख्यालय पर रहती हैं। कृषि विस्तार अधिकारी का घर से आना जाना है। इसके अलावा सभी विभाग के अधिकारी व कर्मचारी शाम पांच बजे मुख्यालय छोड़ कर घर चले जाते हैं।

कर्मचरियों-अधिकारियों के आने-जाने का शेड्यूल नहीं
जिले के फील्ड में स्थित तहसील, ब्लाक स्तर पर कार्यालय में कर्मचारी व अधिकारियों के आने-जाने का शेड्य्ल नहीं है। अकेले जवा ब्लाक में मंगलवार को ही कई कर्मचारी दोपहर 12 बजे पहुंचे। यही नहीं कई तो ऐसे रहे कि फील्ड में निरीक्षण की जानकारी देने के बाद दोपहर दो बजे कार्यालय में पहुंचे। कमवेश यही कहानी नईगढ़ी में रही। कार्यालय में सुबह 11 बजे के पहले ताला नहीं खुलता है। कुछ को छोड़ दे तो अधिकांश कर्मचरी सुबह 11 बजे के बाद कार्यालय आते हैं। और समय से पहले कार्यालय छोडकऱ घर चलते जाते हैं।

इन प्रमुख विभागें का ब्लाक स्तर पर मुख्यालय
पंचायत एवं ग्रामीण विकास विभाग, सिंचाई विभाग, आरइएस, लोकनिर्माण, विद्युत यांत्रिकी विभाग, पशु चिकित्सा, शिक्षा, स्वास्थ्य, परियोजना, महिला बाल विकास, परियोजना समन्वय शिक्षा केद्र, आदिम जाति कल्याण विभाग, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग, खनिज, कृषि, उद्यानिकी, सामाजिक न्याय आदि विभागों के ब्लाक स्तरीय अधिकारी व कर्मचरियों के रहने का मुख्यालय निर्धारित किया गया है।

वर्जन...
ब्लाक व तहसील स्तर पर मुख्यालय पर रहने वाले कर्मचारियों का सत्यापन कराएंगे। टीएल बैठक के दौरान सभी विभागों को मुख्यालय पर अधिकारियों और कर्मचारियों को रहने के निर्देश दिए गए हैं। जांच कराएंगे । मुख्यालय छोडऩे वाले जिम्मेदारों की जवाबदेही तय की जाएगी।
इलैया राजा टी, कलेक्टर

Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned