रोजगार मेले में दिव्यांग को पत्रिका ने दिलाई व्हीलचेयर

जिले के जवा से 80 किमी दूर से रोजगार मेले में आए दिव्यांग राहुल पंजीयन काउंटर तक पहुंचने के लिए हर आने जाने वाले से मदद की आस लगाए देख रहे थे राह, कलेक्टर ने दिव्यांग को दी व्हीलचेयर

By: Rajesh Patel

Updated: 21 Jan 2021, 11:07 AM IST

रीवा. रोजगार मेले में दोनों पैर से दिव्यांग राहुल त्रिपाठी पहुंचे। इंदौर में एमसीए की पढ़ाई कर रहे राहुल लॉकडाउन के दौरान घर लौट गए। बुधवार को रोजगार मेले में पहुंचे। जवा के बरेती खुर्द निवासी राहुल 80 किमी दूर बस पर सवार होकर जैसे-जैसे मेले में पहुंच गए। टीआरएस ग्राउंड में रोजगार के लिए पंजीयन कराने दिव्यांग राहुल कांटर तक पहुंचने में लाचार रहे। भीड़ के बीच मेले में आने जाने वाले हर किसी की राह देख रहे थे। किसी ने पीढ़ा नहीं सुनी।
पत्रिका रिपोर्ट पर दिव्यांग पर पड़ी नजर
पत्रिका के सीनियर रिपोर्टर राजेश पटेल की नजर पड़ी। दिव्यांग राहुल जमीन पर घिसट रहा था। पत्रिका रिपोर्टर ने पूछा तो दिव्यांग ने अपनी पीढ़ा व्यक्त की और कहा यदि उन्हें व्हीलचेयर मिल जाए तो काउंटर तक पहुंच कर आवेदन जमा कर सकेंगे। रिपोर्टर काउंटर तक पहुंचाने के लिए कोशिश कर रहा था कि राहुल ने कहा अगर आप कलेक्टर या फिर किसी अन्य अधिकारी से बात करें तो काउंटर तक पहुंचने के लिए व्हीलचेयर मिल जाएगी। व्हीलचेयर अन्य दिव्यांगों को भी काम आ जाएगी।
पत्रिका के हस्तक्षेप पर कलेक्टर ने दी व्हीलचेयर
पत्रिका रिपोर्टर ने तत्काल कलेक्टर इलैयाराजा टी से मोबाइल पर संपर्क किया। और कलेक्टर ने तत्काल सामाजिक न्याय विभाग के जेडी अनिल दूबे को फोन पर मैसेज कर व्हीलचेयर उपलब्ध कराने को कहा। कलेक्टर ने रिपोर्ट के मोबाइल से राहुल से भी बात की। राहुल को व्हीलचेयर भी मिल गई। पत्रिका और कलेक्टर को धन्यवाद किया।
कलेक्टर ने उपलब्ध कराए व्हीलचेयर
कलेक्टर ने व्हीलचेयर घर ले जाने को कहा, लेकिन, राहुल ने कहा साहब ट्राइसिकल दिलवा दीजिए, अकेले हूं व्हीलचेयर से कैसे जाएंगे। जेडी सामाजिक न्याय को कलेक्टर ने ट्रायसिकिल देने का निर्देश दिए। मामले में जेडी सामजिक न्याय ने अनिल दूबे ने पत्रिका टीम को बताया कि व्हीलचेयर उपलब्ध करा दिया हूं। व्हीलचेयर की प्रक्रिया पूरी कर लिया हूं। जल्द ही व्हीलेचयर वापस लेकर ट्राइसिकल दिया जाएगा। रोजगार मेले के नोडल उप संचालक रोजगार कार्यालय एवं जेडी सामाजिक न्याय ने अनिल दूबे ने बाद चार पाहिया गाड़ी से दिव्यांग के आवास तक पहुंचाए।

employment : Magazine provided wheelchair to Divyang in employment
rajesh patel IMAGE CREDIT: patrika
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned