सब्जी मंडी और आसपास वर्षों से जमे अतिक्रमण को नगर निगम ने तोड़ा

- कोरोना कफ्र्यू की वजह से मंडी परिसर तक नगर निगम के वाहन पहुंचे, अन्यथा भीड़ की वजह से आती थी रुकावट

By: Mrigendra Singh

Published: 18 Apr 2021, 11:15 AM IST


रीवा। शहर के सब्जी मंडी और उसके आसपास के पुराने बाजार के हिस्से में लंबे समय से जमे कब्जे को आखिरकार तोड़ा गया। नगर निगम ने पुलिस बल के साथ यहां से अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई की है। शहर के जानकी पार्क, सब्जी मंडी क्षेत्र का कलेक्टर, एसपी और नगर निगम आयुक्त ने संयुक्त रूप से भ्रमण किया था। जहां पर देखा कि वाहन निकलने तक की जगह नहीं है।

व्यवसाइयों ने अपनी दुकानों के बाहर शेड बनाकर कब्जा जमा रखा है। सब्जी मंडी परिसर के भीतर दुकानों के बाहर शेड बनाने के साथ ही सामग्री का भंडारण भी किया जा रहा था। जिससे वहां पर लोगों की आवाजाही मुश्किल हो रही थी। कलेक्टर ने इस तरह के कार्य को मनमानी पूर्वक मानते हुए कार्रवाई का निर्देश दिया था। जिस पर पुलिस और नगर निगम की संयुक्त टीम शनिवार को दोपहर पहुंची और अवैध रूप से जमाए गए कब्जे को तोडऩे की कार्रवाई की। वहीं कुछ दुकानदारों ने स्वयं अपना कब्जा हटाने की बात कही है, इसलिए उनका शेड नहीं तोड़ा गया है। रविवार को इस क्षेत्र का फिर से नगर निगम एवं पुलिस के अधिकारी भ्रमण कर वस्तुस्थिति का जायजा लेंगे।


- पार्किंग क्षेत्र में सजा ली थी दुकानें
सब्जी मंडी के नजदीक ही वाहनों को खड़ा करने के लिए पार्किंग के लिए स्थान चिन्हित किया गया था। जिस पर स्थानीय व्यवसाइयों ने अपनी दुकानें लगा ली थी। पहले गुमटियां रखी फिर उसे स्थाई करने का प्रयास किया था। मंडी क्षेत्र में लोगों को सुविधा देने दिए गए स्थान का कुछ व्यवसाइयों ने दुरुपयोग किया था। बताया यह भी गया है कि कुछ व्यवसाइयों ने यहां पर गुुमटियां किराए पर दे रखी थी। जिन्हें नगर निगम के अमले ने तोड़ दिया है।
-
कफ्र्यू की वजह से मिला खाली स्थान
कोरोना कफ्र्यू की वजह से जानकी पार्क, सब्जी मंडी, गुड़हाई बाजार, खटकहाई आदि के क्षेत्र में भीड़भाड़ नहीं होने की वजह से जेसीबी एवं अन्य वाहन पहुंचे। इसके पहले भी कई बार उक्त क्षेत्र में कार्रवाई का प्रयास किया गया था लेकिन भीड़ की वजह से कार्रवाई नहीं हो पाती थी।
----------

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned