कोरोना काल में अस्पताल में एक्सपायर डेट की दवाएं

-कमिश्नर, कलेक्टर चकित
-स्टोर प्रभारी के निलंबन का निर्देश

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 17 Sep 2020, 04:17 PM IST

रीवा. एक तरफ लोगों की जान सांसत में है। कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। लोग इलाज के लिए बेहतर अस्पतालों की ओर भाग रहे हैं ताकि समय से सही दवा मिल सके। सही इलाज हो सके। ऐसे में कोई अस्पताल प्रशासन इतना लापरवाह कैसे हो सकता है कि उसके स्टोर में एक्सपायरी डेट की दवाओं का जखीरा मिले। लेकिन ऐसा हुआ है, ऐसा पाया गया है वह भी संजय गांधी अस्पताल के स्टोर में।

वैसे इसका तो खुलासा भी नहीं होता और अस्पताल प्रशासन भर्ती रोगियो को एक्सपायरी डेट की दवा ही वितरित करता। वो तो इस अस्पताल के औचक निरीक्षण के लिए पहुंच गए कमिश्नर राजेश कुमार जैन व कलेक्टर डॉ इलैयाराजा टी। ये दोनों आला अफसर जब अस्पताल के स्टोर में पहुंचे तो उनके होश उड़ गए। स्टोर में एक्सपायरी डेट की दवाओं का जखीरा पड़ा मिला। इस पर सख्त रुख अपनाते हुए अफसरों ने तत्काल स्टोर प्रभारी को निलंबित करने का हुक्म सुनाया।

अस्पताल निरीक्षण के दौरान अधिकारियों ने खनिज मद तथा अल्ट्रा सोलर पॉवर प्लांट के सीएसआर मद से स्वीकृत निर्माण कार्यों का जायजा लिया। कमिश्नर ने अधिकारियों तथा निर्माण एजेंसी को स्पष्ट निर्देश दिया कि कार्य स्वीकृति के समय निर्धारित की गई कार्य योजना के अनुसार सभी निर्माण कार्य पूरे कराएं। इसके लिए पर्याप्त धनराशि का प्रावधान किया गया है। गांधी मेमोरियल हास्पिटल में नए वार्डों के निर्माण, सभी शौचालयों के पुर्ननिर्माण तथा वार्डों में पुर्ननिर्माण का कार्य निर्धारित समय सीमा में गुणवत्ता पूर्ण कराने की हिदायत दी।

कमिश्नर ने कहा कि जीएमएच तथा संजय गांधी हास्पिटल से सुपर स्पेशलिटी हास्पिटल को जोड़ने वाले मार्ग व नाले का निर्माण शीघ्र पूरा कराया जाय। पूरे परिसर में नालियों तथा ड्रेनेज सिस्टम व सीवर लाइन में आवश्यक सुधार प्राथमिकता के आधार पर हो। भवन में बिजली के तारों को व्यवस्थित और सुरक्षित कराया जाय। कमिश्नर ने वर्तमान में चल रहे निर्माण कार्यों की गुणवत्ता पर असंतोष व्यक्त किया। मौके पर मौजूद लोक निर्माण विभाग के चीफ इंजीनियर जीआर गुजरे को स्वीकृत निर्माण कार्यों का डीपीआर के अनुसार सत्यापन करने तथा निर्माण कार्यों की नियमित निगरानी के निर्देश दिए।

कमिश्नर ने पोस्ट नेटल वार्ड, शिशु वार्ड, प्रसूति वार्ड, नेत्र वार्ड सहित विभिन्न वार्डों में पुर्ननिर्माण के कार्यों का जायजा लिया। निरीक्षण के समय कलेक्टर ने कहा कि सभी निर्माण कार्य क्रमबद्ध तथा डीपीआर के अनुसार कराएं। नए वार्डों के निर्माण के लिए रिक्त पड़ी भूमि का उपयोग करें। पूरे परिसर की तत्काल साफ-सफाई कराएं। कमिश्नर जैन ने संजय गांधी हास्पिटल के भी विभिन्न वार्डों का निरीक्षण किया। उन्होंने मानसिक रोगियों के लिए बनाए जा रहे नवीन वार्ड का निरीक्षण करते हुए उसे शीघ्र पूरा करने के निर्देश दिए।

इस दौरान चीफ इंजीनियर लोक निर्माण विभाग जीआर गुजरे, डॉ. मनोज इंदुलकर, सुपर स्पेशलिटी हास्पिटल के प्रभारी अधीक्षक डॉ. सुधाकर द्विवेदी, अन्य चिकित्सक तथा निर्माण एजेंसी के प्रतिनिधि उपस्थित रहे।

Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned