'हम दो हमारे दो' की अलख जगाएगा 'सारथी'

मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी ने हरी झंडी दिखाकर किया रवाना, सभी ब्लॉकों से गुजरेगा

By: Balmukund Dwivedi

Published: 20 Jul 2018, 05:50 PM IST

रीवा. बढ़ती आबादी बड़ी चुनौती है। इसे सीमित रखने के लिए परिवार कल्याण कार्यक्रम के तहत तमाम उपाए किए जा रहे हैं। लेकिन स्वास्थ्य महकमे को इसमें सफलता नहीं मिल रही है। इसी कड़ी में गुरुवार को विभाग ने सारथी रथ को रवाना किया है। जो सभी ब्लॉकों में जाकर लोगों को कम आबादी होने के फायदे बताने के साथ जनसंख्या स्थिरीकरण की अलख जगाएगा।

सारथी रथ 24 जुलाई तक जिले का भ्रमण करेगा
विश्व जनसंख्या पखवाड़े के अंतर्गत गुुरुवार को मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. संजीव शुक्ल ने सारथी रथ को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। जिला अस्पताल से रवाना हुआ सारथी रथ 24 जुलाई तक जिले का भ्रमण करेगा। इस दौरान जनसंख्या स्थिरीकरण के बारे में जागरूकता फैलाई जाएगी। हितग्राहियों को परिवार नियोजन के स्थायी व अस्थायी साधनों की जानकारी सुलभ कराई जाएगी। यह रथ सभी ब्लॉकों के बाजार वाले क्षेत्रों मेंं पहुंचेगा। इसी कड़ी में जिला आयुर्वेदिक अस्पताल में नियत सेवा दिवस भी मनाया गया। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. संजीव शुक्ल ने कहा कि परिवार नियोजन का लक्ष्य पूरा करना है। जिले को इस वित्तीय वर्ष में 21 हजार नसबंदी आपरेशन किए गए हैं। अभी प्रगति बेहद खराब है। इसमें सुधार करने के लिए यह पखवाड़ा अच्छा मौका है। बीएमओ, सेक्टर मेडिकल अफसर अपने-अपने क्षेत्रों में परिवार नियोजन के लक्ष्यों की प्राप्ति के लिए प्रयास करें। लोगों को छोटा परिवार, सुखी परिवार की अवधारणा भरें ताकि बढ़ती जनसंख्या पर लगाम लगाई जा सके। इस दौरान अर्बन नोडल अधिकारी डॉ. डीपी अग्रवाल, डीपीएम डॉ. एसके शर्मा, डीसीएम नरेंद्र पटेल सहित अन्य लोग मौजूद रहे।

जूूनियर डॉक्टरों ने चलाई समानांतर ओपीडी
मानदेय बढ़ाने की मांग को लेकर श्यामशाह मेडिकल कॉलेज के करीब डेढ़ सौ जूनियर डॉक्टर विरोध पर आ गए हैं। गुरुवार को समानांतर ओपीडी चलाकर विरोध जताया। मेडिकल कॉलेज के डीन को मांगों का ज्ञापन सौंपा। जूडॉ का कहना है कि अगर उनकी मांगे नहीं मानी गई तो 23 जुलाई से अनिश्चितकालीन हड़ताल करेंगे।

Balmukund Dwivedi Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned