गेहूं बेचने के लिए सप्ताहभर से भूखे-प्यासे मंडी में पड़े किसान, अव्यवस्था से आक्रोश

बारदाना की कमी से नहीं हो पा रही खरीदी

By: Anil singh kushwah

Published: 25 May 2020, 01:42 AM IST

रीवा. गेहूं खरीदी के लिए मैसेज करके किसानों को मंडी में बुला लिया गया लेकिन अव्यवस्था के कारण खरीदी नहीं हो पा रही है। बारदाना की कमी के चलते तौल ही नहीं हो रही है कई केंद्र पर दर्जनों किसान भूखे-प्यासे खरीदी का इंतजार कर रहे हंै। बताया गया कि शासन ने गेहूं खरीदी के लिए किसानों को फोन कर बुलाने का आदेश दिया था जिस पर करहिया मंडी से आसपास के कई किसानों को फोन कर बुलाया गया। किसान ट्रैक्टरों में गेहूं लोडकर मंडी पहुंच गए लेकिन तौल नहीं हो रही है। किसान एक सप्ताह से यहीं पड़े हंै। भूखे-प्यासे अपने अनाज की रखवाली कर रहे हंै। किसानों को बारदाना की कमी बताकर अधिकारी पल्ला झाड़ रहे हैं लेकिन कब तक तौल होगी इसकी जानकारी कोई अधिकारी देने को तैयार नहीं है।

सोशल डिस्टेंसिंग का नहीं हो रहा पालन
मंडी में अनाज बेचने आए काफी संख्या में किसान सहित अन्य लोग न तो सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर रहे हैं और न ही मास्क लगा रहे। मंडी परिसर में किसानों की भीड़ शेड के नीचे मौजूद रहती है जिससे संक्रमण का भी खतरा रहता है। मंडी में अनाज नहीं बिक पाने से काफी भीड़भाड़ एकत्र हो जाती है। सोशल डिस्टेंसिंग मंडी परिसर में मजाक बनकर रह गई है।

कांटों का हो परीक्षण
किसान नेता रविदत्त सिंह ने मामले में कहा है कि रीवा जिले में कई जगह से ऐसी शिकायतें आ रही हैं कि तौल के नाम पर किसानों को ठगा जा रहा है। उन्होंने कहा कि कलेक्टर से मांग की है कि सभी केन्द्रों के कांटों की जांच कराई जाए और जहां पर विसंगतियां हैं संबंधित कर्मचारी, अधिकारियों पर सख्त कार्रवाई हो।

Anil singh kushwah Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned