अमानक चावल दोबारा खपाने की तैयारी, चालीस दिन बाद भी अपग्रेड नहीं हो सका रिजेक्ट चावल

जिले में नान और एफसीआई की टीम ने 1.40 लाख क्विंटल चावल गोदाम में चावल को किया था रिजेक्ट

By: Rajesh Patel

Updated: 08 Oct 2020, 06:38 AM IST

रीवा. प्रदेश के बालाघाट, मंडला में बड़े पैमाने पर गोदाम में अमानक चावल मिलने के बाद जिम्मेदारों की जवाबदेही तय की गई है। लेकिन, रीवा में अभी तक कोई ठोस कदम नहीं उठाया गया। हैरानी की बात तो यह कि अगस्त माह में रिजेक्ट चावल में से अभी तक लगभग 80 हजार क्विंटल चावल को मिलर्स ने अपग्रेड के लिए उठाव तक नहीं किया। जबकि नान अधिकारियों का दावा है कि मिलर्स ने रिजेक्ट किए गए 1.40 लाख क्विंटल चावल में से 60 हजार क्विंटल चावल अपग्रेड कर जमा कर दिया है।

पीटीएस गोदाम में 20 हजार क्विंटल से ज्यादा खराब
अगस्त माह में नान और एफसीआई के क्आलिटी नियंत्रकों ने पीटीएस, सिरमौर सहित अन्य गोदाम में दर्जनभर से अधिक मिलर्स के द्वारा गोदाम में जमा किए गए चावल में से लगभग 1.40 लाख क्विंटल चावल की गुणवत्ता ठीक नहीं होने पर रिजेक्ट कर दिया था। अकेले पीटीएस गोदाम में 20 हजार क्विंटल से अधिक चावल रिजेक्ट किया गया है। एफसीआई की टीम लौटने के बाद मिलर्स ने गोदामों में रिजेक्ट किए गए चावल को अपग्रेड करने के लिए उठाव तक नहीं किया। कुछ मिलर्स अपग्रेड का काम शुरू कर दिया है। लेकिन, कई मिलर्स आज भी रसूख के दम पर अमानक चावल खपाने की तैयारी में हैं।

नान प्रबंधक ने जारी किया नोटिस
नान प्रबंधक आरबी तिवारी ने गोदाम में अमानक चावल के उठाव को लेकर मिलर्स को नोटिस जारी की है। बावजूद इसके कई मिलर्स चावल का उठाव नहीं कर रहे हैं। नान कर्मचारियों के मुताबिक सिरमौर गोदाम में चावल जमा करने वाले बाके बिहारी, ओंकार, सत्या फ्रूड सहित कई अन्य मिलर्स ने अभी तक अमानक चावल को अपग्रेड नहीं किया है।

खंडवा जाने वाली रैक में अमानक धान खपाने की तैयारी
नागरिक आपूर्ति कार्यालय के रेकार्ड के मुताबिक शासन ने सप्ताहभर के भीतर चावाल की चार रैक की डिमांड रीवा भेजी है। जिसमें भोपाल, अशोक नगर एक-एक व दो रैक खंडवा के लिए। जिसमें खंडवा समेत तीन रैक भेजी जा चुकी है। जबकि एक रैक खंडवा भेजने के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है। बताया गया कि खंडवा रैक में अमानक चावल खपाने की तैयारी है। भोपाल, अशोक नगर और खंडवा की भेजी गई रैक में कुछ अमानक चावल भेज दिया गया है। प्रत्येक रैक में 26 हजार क्विंटल चावल होता है।

गोदामों पर क्वालिटी नियंत्रकों की भूमिका संदिग्ध
जिले में वेयर हाउस में नान के क्वालिटी नियंत्रकों की भूमिका संदिग्ध है। चावल जमा करने के दौरान गुणवत्ता की जांच के बिना ही चावल जमा कराया गया। एफसीआई की जांच में नान के क्आलिटी नियंत्रकों की अनदेखी सामने आई। शासन के चेतावनी के बाद भी जिम्मेदार नहीं जागे। अभी भी अमानक चावल खपाने की तैयारी में हैं।

दो लाख क्विंटल से ज्यादा धान की मिलिंग बाकी
--जिले में धान की मिलिंग अभी बाकी है। एफसीआई की टीम की जांच के बाद से मिलिंग का काम चालू नहीं हो सका है। ऐसे में गोदाम में रखी धान सडऩे लगी है। जिले में ओपेन कैप में अब तक 40 हजार क्विंटल से अधिक धान सड़ चुकी है। जिम्मेदार सड़ी धान पर पर्दा डालने में जुटे हैं। समय से धान की मिलिंग नहीं की गई तो आगामी सीजन की धान रखने में भी दिक्कत होगी।

वर्जन...
कुछ मिलर्स के द्वारा अमानक चावल को अपग्रेड करने के लिए उठाव में देरी की जा रही थी। नोटिस जारी की गई है। कई मिलर्स अपग्रेड का काम शुरू कर दिया है। जल्द प्रक्रिया पूरी हो जाएगी। अपग्रेड नहीं करने वालों के खिलाफ शासन की गाइड लाइन पर कार्रवाई की जाएगी।
आरबी तिवारी, जिला प्रबंधक, नागरिक आपूर्ति निगम

Show More
Rajesh Patel Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned