POS Machine से ही खाद बिक्री, अधिकारी करेंगे जांच

-संभाग स्तरीय निगरानी दल गठित

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 28 Oct 2020, 06:06 PM IST

रीवा. अब खाद की दुकानों पर POS Machine रखना होगा अनिवार्य। दुकान पर पॉस मशीन है या नहीं, इसकी जांच के लिए संभाग स्तरीय निगरानी दल गठित किया गया है। इस टीम में रीवा के अलावा सतना, सीधी और सिंगरौली के सभी विकासखंडों के कृषि विस्तार अधिकारियों को शामिल किया गया है।

क्या है पॉस मशीन

दरअसल पॉस एक कंप्यूटराइज्ड मशीन है जिसका उपयोग कैश रजिस्टर के स्थान पर किया जाता है। पॉस मशीन डेबिट, क्रेडिट कार्ड को रीड करने और खरीदारी की पुष्टि के साथ ग्राहक को सामान की रसीद देने का काम करती है। इस पॉस मशीन का फुल फॉर्म Point of Sale है। यानी एक पॉस टर्मिनल दुकान या खुदरा स्टोर में वह स्थान होता है जहां से ग्राहक सामान खरिदते है। इन दिनों जिन स्टोर्स में पॉस टर्मिनिल का उपयोग किया जा रहा है, वहां कैशियर के स्थान पर पॉस मशीन काम में लाई जा रही है। पॉस मशीन डिजिटल (नगद रहित) ट्रांजेक्शन में सक्षम होती है। ग्राहकों को खरिदी की पर्ची भी बनाकर दे देती है और यह सारा काम मिनटों में हो जाता है।

ऐसे में शासन ने अब सभी रासायनिक खाद की बिक्री पीओएस मशीन से कराने के निर्देश दिए हैं। इसकी निगरानी के लिए संभाग स्तरीय निगरानी दल तैनात किया गया है। इस संबंध में संयुक्त संचालक कृषि आरएस शर्मा ने बताया कि संभागीय दल का नेतृत्व, बीज परीक्षण अधिकारी सुभाष कुमार श्रीवास्तव को सौंपा गया है। दल में कृषि विकास अधिकारी बृजकिशोर तिवारी, कृषि विकास अधिकारी, रामायण प्रसाद मिश्रा तथा सतना, सीधी और सिंगरौली के सभी विकासखंडों के कृषि विस्तार अधिकारियों को शामिल किया गया है।

संयुक्त संचालक ने बताया कि गठित दल के सदस्य सभी विकासखंडों में खाद बेचने वाले सभी दुकानदारों से पीओएस मशीन से ही खाद बिक्री सुनिश्चित कराएंगे। इसके अलावा दल के सदस्य खाद, कीटनाशक तथा बीज के नमूने लेकर उनकी गुणवत्ता की नियमित रूप से जांच करेंगे। प्रत्येक दल की कार्रवाई का प्रतिवेदन हर सप्ताह संयुक्त संचालक कृषि कार्यालय में प्रस्तुत करना होगा।

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned