बसों में दिव्यांगो के लिए यह सीटे रहेगी आरक्षित, किराया में रियायत लेने यह अभिलेख रखना होगा जरुरी

प्रत्येक बसों में एक से लेकर पांच नम्बर तक सीटे में बैठेंगे दिव्यांग ,रियायत नहीं देने पर बस आपरेटर के विरुद्ध होगी कार्रवाई

By: Lokmani shukla

Updated: 02 Mar 2019, 01:00 PM IST

रीवा। बस में यात्रा करने वाले दिव्यांगों की परिवहन विभाग अब बड़ी रियायत देने जा रहे है। २ मार्च से निजी बसों में यात्रा करने वाले दिव्यांगों को किराए पर पचास प्रतिशत की छूट मिलेगी। इतना ही नहीं दिव्यांगों के लिए प्रत्येक बसों में सीट क्रमांक 1 से पांच तक के नम्बर दिव्यांग के लिए आरक्षित होगे। इन सीटों में बैठे व्यक्तिओं को दिव्यांग आने पर खाली करनी होगी। किराया में रियायत लेने के लिए दिव्यांग को मेडिकल प्र्रमाण पत्र दिखाना होगा।
बताया जा रहा है सरकार ने दिव्यांगों को सड़क यात्रा के दौरान किराया में रियायत देने की बात कही थी। इस संबंध में राज्य सरकार द्वारा अधिसूचना जारी होने के बाद परिवहन आयुक्त इसके पालन में लग गया है। मार्च से अब दिव्यांगों को सभी निजी बसों में पचास प्रतिशत तक किराया लगेगा। इसके लिए दिव्यांगों को यात्रा के दौरान मेडिकल बोर्ड से जारी दिव्यांगता प्रमाण पत्र प्रस्तुत करना होगा। इसके पहले दिव्यांगों को रेलवे में यात्रा के दौरान किराए पर पचास प्रतिशत तक रियायत एवं सीट पर आरक्षण मिलता है। लेकिन ग्रामीण क्षेत्रों व अन्य सड़क मार्ग में यह व्यवस्था नहीं होने से दिव्यांगों को परेशानी उठानी पड़ती है।

चलाया विशेष अभियान-
दिव्यांगों को योजना के तहत लाभ मिल सके। इसके लिए शुक्रवार को पूरे दिन परिवहन विभाग ने विशेष अभियान चलाया । इसमें न्यू बस स्टैंड एवं पुराने बस स्टैंड में जाकर बस आपरेटरों की इस संबंध में जानकारी दी गई। साथ ही प्रचार प्रसार के लिए बनैर पोस्टर लगाए गए। साथ ही बसों में सीट आरक्षित के लेख लिखाए गए है।

5 मार्च तक सभी बसों में आरक्षित हो जाएगी सीटें-
क्षेत्रीय परिवहन अधिकारी मनीष त्रिपाठी ने बताया दिव्यांगों के लिए सीट आरक्षित करने बसों में लेख कराया जा रहा है। अभी तक 200से अधिक बसों में लिखाया जा चुका है। 5मार्च तक रीवा आने वाली सभी बसों में यह लिखाया जाएगा। शासन की मंशानुसार दिव्यांंगो को रियायत नहीं देने पर कड़ी कार्रवाई होगी।

आरटीओ में उपस्थित की नई व्यवस्था
परिवहन विभाग में लंब से समय बात ई अटेंडेंस व्यवस्था 1 मार्च से लागू हो गई है। शुक्रवार को सभी कर्मचारी ने सुबह 10.30 बजे पहुंचकर अपनी उपस्थित थम लगाकर दर्ज कराई है। इसके बाद कर्मचारियों को शाम 5.30 बजे अटेंडेंस दर्ज करानी है। यह व्यवस्था लागू होने के बाद पहले दिन सभी कर्मचारी अपने निश्चित समय से पहुंंचे। नई व्यवस्था के तहत अब सुबह 10.30 बजे पहले कार्यालय की कार्ययोजना बनाकर चर्चा होगी। जिससे लक्ष्य को आसानी से पूरा किया जा सके।

 

Lokmani shukla
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned