पूर्व CM कमलनाथ का सरकार पर हमला, कहा- 'अगर जनता साथ है तो मतपत्र पर चुनाव से परहेज क्यों'

संभागीय सम्मलेन में पूर्व सीएम कमलनाथ ने कहा कि, माफिया राज्य की पहचान होने की वजह से प्रदेश में पिछले 15 सालों से उद्योग नहीं लग सके हैं।

By: Faiz

Updated: 27 Feb 2021, 06:11 PM IST

रीवा। मध्य प्रदेश के रीवा स्थित संत रविदास जंयती के अवसर पर शनिवार को शहर के एनसीसी मैदान में कांग्रेस का संभागीय सम्मलेन आयोजित किया गया। कार्यक्रम में पूर्व मुंख्यमत्री कमलनाथ भी शामिल हुए। सम्मेलन में पूर्व मुख्यमंत्री ने प्रदेश में बढ़ रही बेरोजगारी का जिम्मेदार सूबे की शिवराज सरकार को ठहराया है। उन्होंने कहा कि, पद्रंह सालों में भाजपा कार्यकाल में प्रदेश की पहचान माफिया राज्य के रुप में बनी है। परिणाम स्वरुप प्रदेश में निवेश नहीं होने से उद्योग नहीं लगे, क्योकिं निवेश वहां होता है, जहां विश्वास है। उद्योगों के न लगने की वजह से अब तक प्रदेश के युवा वर्ग का बड़ा तबका बेरोजगार है।

 

देखें खबर से संबंधित वीडियो...

सम्मेलन में शामिल हुए कांग्रेस के ये दिग्गज नेता

आपको बता दें कि, जिले में आयोजित कांग्रेस के संभागीय सम्मेलन में पूर्व मंत्री कमलेश्वर पटेल, लखन घनघोरिया, पूर्व नेता प्रतिपक्ष अजय सिंह, प्रदेश युवा अध्यक्ष विक्रांत भूरिया और पूर्व मंत्री हर्ष यादव, राज्यसभा सदस्य राजमणि पटेल समेत कई अन्य नेता और सैकड़ों की संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए।


सीएम शिवराज पर झूठ बोलने का आरोप

अपने भाषण के दौरान कमलनाथ ने कार्यकताओं को संबोधित करने हुए कहा कि, जनता ने कांग्रेस को मत दिया था, लेकिन सत्ता पाने के प्रजातंत्र को खत्म करने काम भाजपा ने किया। प्रदेश की सैद्धांतिक छवि बनाने कांग्रेस ने सौदे बाजी की राजनीति से दूर रही है। इस दौरान उन्होंने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान पर हमला बोलते हुए कहा कि, पंद्रह सालों बाद भी उनकी झूठ बोलने की आदत कम नहीं हुई। विधान सभा में जो आकड़े प्रस्तुत किए, उनके झूठ देखकर मै हैरान रह गया। लेकिन आज का युवा तकनीकी से जुड़ा है इसलिए उसे झूठ से गुमराह नहीं किया जा सकता।


कहा- 'अगर जनता आपके साथ है, तो मतपत्र से चुनाव क्यों नहीं कराना चाहते'

वहीं, ईवीएम को लेकर कमलनाथ ने कहा कि, अमेरिका और यूरोप जैसे देश ईवीएम से चुनाव कराने से दूरी बना रहे है, लेकिन भारत की मोदी सरकार और भाजपा को ईवीएम पर ही सबसे ज्यादा भरोसा है। भाजपा को भरोसा है कि, जनता उनके साथ है, तो मतपत्र से चुनाव कराने से पीछे क्यों हट रहे हैं। मोदी सरकार और प्रदेश सरकार के मुखिया शिवराज सिंह किसान आंदोलन के दौरान अब तक हो चुकी 230 किसानों की मौत पर भी चुप हैं। कमलनाथ ने आरोप लगाया कि, कृषि बिल के जरिये सरकार किसानों का भला नहीं कर रही, बल्कि उन्हें बधुआ मजदूर बनाने जा रही है। कांग्रेस भी इसी वजह से लगातार इस बिल का विरोध कर रही है।


पार्टी को और मजबूत करने की खाई शपथ

इसके अलावा, कांग्रेस क अन्य नेताओं ने अपने भाषण में कार्यकर्ताओं से आने वाले नगरीय निकाय चुनावों में कांग्रेस को मजबूत करने की बात कही। जयंती पर सीधी बस दुर्घटना में मृत आत्माओं की शांति के लिए दो मिनट का मौन भी रखा गया। इस कार्यकर्ता सम्मेलन सीधी, सिंगरौली, सतना से बड़ी संख्या में कार्यकर्ता शामिल हुए थे।

pm modi
Show More
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned