MP के इस शहर में विधवा संग गैंग रेप, गंभीर हाल में अस्पताल छोड़ा

-आरोपियों ने बेटे को दी सूचना, चेताया रिपोर्ट न करना
-पैसा देने का प्रलोभन भी दिया

 

By: Ajay Chaturvedi

Updated: 06 Oct 2020, 04:08 PM IST

रीवा. रेप और गैंग रेप की घटनाएं तेजी से सामने आने लगी हैं। चाहे वो उत्तर प्रदेश हो या मध्य प्रदेश दोनों ही प्रांतों में दुराचारी बेखौफ किसी के साथ दुराचार की घटना को अंजाम दे रहे हैं। अब तो गैंग रेप के बाद पीड़ित के बेटे को रिपोर्ट न करने की धमकी के साथ प्रलोभन भी दिया जा रहा है। ऐसी ही एक घटना रीवा में प्रकाश में आई है जिसे लेकर जिले भर में माहौल गर्म है, लोगों में इसे लेकर गुस्सा भी है।

जिले के शाहपुर थाना के खटखरी चौकी क्षेत्र में एक विधवा संग सामूहिक दुष्कर्म का मामला सामने आया है। पीड़ित के बेटे के मुताबिक बताया कि गत 30 सितंबर की रात उसके गांव के समीप रहने वाले अरुण सिंह ठाकुर अपने पांच साथियों के साथ घर के समीप शराब पी रहे थे। वह मेरी मां को लेकर रात में कहीं चले गए। हम लोगों ने रात में ही मां को खोजने का प्रयास किया लेकिन उनका कहीं पता नहीं चला। दूसरे दिन हमें उनके (आरोपी) ने ही बताया कि तुम्हारी मां संजय गांधी अस्पताल में भर्ती है, तुम रिपोर्ट मत करना, तुम्हें हम लोग पैसा भी देंगे। बेटे ने कहा है कि, जब मैं अस्पताल पहुंचा तो पता चला मेरी मां के साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ है। इसकी सूचना मैंने पुलिस अधीक्षक रीवा को दी है जिसके बाद रविवार की देर रात महिला थाने में अपराध पंजीबद्ध हुआ।

आरोप है कि पिछले 5 दिनों से जीवन और मौत के बीच झूल रही पीड़िता के मामले को दबाने का प्रयास पुलिस व स्थानीय नेताओं द्वारा किया जा रहा था। लेकिन जब उसकी स्थिति बिगड़ने लगी तो संजय गांधी अस्पताल के डॉक्टरों ने उसे आनन-फानन में आईसीयू वार्ड में न केवल भर्ती किया बल्कि इसकी सूचना अस्पताल चौकी को दे दी। बेटे की फरियाद के बाद पुलिस अधीक्षक ने अज्ञात लोगों के विरुद्ध महिला थाने में अपराध पंजीबद्ध करा दिया है।

"बेटे के बयान के आधार पर अज्ञात लोगों के विरुद्ध मामला दर्ज कर लिया गया है। मैं स्वयं पीड़िता से बयान लेने अस्पताल पहुंची थी, लेकिन वह बोलने की स्थिति में नहीं है। लिहाजा उसका बयान नहीं हो सका हैं। हम मेडिकल रिपोर्ट का इंतजार कर रहे हैं। हालांकि कुछ संदिग्धों को गिरफ्तार कर पूछताछ की जा रही है।"-आराधना सिंह परिहार, महिला थाना प्रभारी

"बेटे के बयान के आधार पर महिला थाने में अपराध पंजीबद्ध करा दिया गया है। उसके द्वारा लगाए गए आरोप के प्रत्येक पहलुओं की जांच की जा रही है। महिला मानसिक रूप से पीड़ित दिख रही है। कुछ संदिग्धों को हिरासत में लेकर पूछताछ भी की जा रही है।" - राकेश कुमार सिंह , पुलिस अधीक्षक रीवा

Show More
Ajay Chaturvedi
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned