ट्रक से कुचलकर बच्ची की मौत, भड़के परिजनों ने लगाया जाम

गढ़ थाने के अगडाल के समीप हुआ हृदय विदारक हादसा

रीवा। तेज रफ्तार ट्रक ने सड़क पार कर रही स्कूली छात्रा को कुचल दिया। इस हृदय विदारक हादसे में उसकी घटनास्थल पर ही मौत हो गई। घटना से गुस्साए लोगों ने जाम लगा दिया और शिक्षकों द्वारा छात्रों से गुटका व पान मंगवाने का आरोप लगाया है। पुलिस ने परिजनों को समझाइश देकर जाम खुलवा दिया। हादसा गढ़ थाने के अगडाल के समीप हुआ।

शासकीय पूर्व माध्यमिक विद्यालय अगडाल परिसर में स्थित आंगनवाड़ी केन्द्र क्र. 2 में पढऩे वाली छात्रा मानसी पटेल (5) पिता नीलेश कुमार प्रतिदिन की तरह मंगलवार की सुबह स्कूल आई थी। सुबह करीब साढ़े दस बजे आंगनबाड़ी लगने के बाद 11 बजे छात्रा विद्यालय से बाहर निकली और सड़क पार कर रही थी। उसी दौरान वहां से गुजरे तेज रफ्तार ट्रक क्र. यूपी 6 3 एटी 4002 ने छात्रा को टक्कर मार दी। ट्रक के भारी भरकम पहिये उसे कुचलते हुए निकल गए जिससे छात्रा की घटनास्थल पर ही मौत हो गई।

इस दौरान चालक ट्रक छोड़कर मौके से फरार हो गया। घटना देखकर स्थानीय लोगों का आक्रोश फूट पड़ा और उन्होंने सड़क पर जाम लगा दिया। घटना की सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंच गई जिसने लोगों को समझाईश देने का प्रयास किया लेकिन वे शिक्षकों पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग कर रहे थे। पुलिस ने लोगों को जांच के बाद कार्रवाई का भरोसा दिलाया। बाद में बच्ची का शव पोस्टमार्टम के लिए अस्पताल भिजवा दिया गया। पुलिस ने ट्रक को जब्त कर चालक के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। आरोपी चालक काफी तेज गति से वाहन चला रहा था जिससे यह हादसा हुआ है।

शिक्षक पर छात्रों से गुटका व पान मंगवाने का आरोप, एक शिक्षक को पुलिस ले गई थाने

इस घटना के बाद परिजनों ने विद्यालय के शिक्षकों पर बच्चों से पान व तम्बाखू गुटका दुकान से मंगवाने का आरोप लगाया है। बच्ची के बड़े पिता का सीधा आरोप था कि शिक्षक प्रतिदिन बच्चों को भेजकर गुटका मंगवाते थे। छोटे-छोटे बच्चे हाइवे को क्रास करके गुटका लेने जाते थे। मंगलवार भी उक्त बच्ची को गुटका लेने ही भेजा गया था जो इस हादसे का शिकार हो गई। लोगों के आक्रोश को देखते हुए पुलिस ने एक शिक्षक को पकड़कर थाने भिजवा दिया। उससे घटना के संबंध में पूछताछ की जा रही है। हालांकि शिक्षक उक्त आरोप से इंकार कर रहे हैं।

गेट बंद न करने पर आक्रोश
उक्त विद्यालय परिसर में बाऊंड्रीवाल का निर्माण कराया गया है और गेट भी लगा हुआ है लेकिन गेट विद्यालय लगने के बाद बंद नहीं किया जाता है। विद्यालय में छोटे-छोटे बच्चे पढ़ते हैं जिनकी सुरक्षा को लेकर खुद विद्यालय के शिक्षक गंभीर नहीं है। गेट खुला होने से अक्सर बच्चे बाहर निकल जाते हैं और हादसे की संभावना बनी रहती है।

Show More
Manoj singh Chouhan Desk
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned