कलेक्टर के निर्देशों को धता बनाने वाले सरपंच-सचिव पर दर्ज हुई एफआइआर, ऐसे लगे गंभीर आरोप

गंगेव जनपद के कैथा पंचायत में भ्रष्टाचार के मामले की जांच के बाद एफआइआर भी दर्ज

By: Mrigendra Singh

Updated: 05 Feb 2021, 11:18 AM IST



रीवा। भ्रष्टाचार के आरोपों से घिरे सरपंच-सचिव पर आखिरकार एफआइआर दर्ज कर ली गई है। इसके लिए जनपद सीइओ ने पुलिस को पहले ही पत्र लिखा था। जिस पर पुलिस ने धोखाधड़ी और भ्रष्टाचार से जुड़ी धाराओं के तहत मामला दर्ज किया है।

बताया गया है कि गंगेव जनपद के कैथा पंचायत में भ्रष्टाचार के मामले की जांच के बाद कलेक्टर ने राशि वसूली के साथ ही एफआइआर भी दर्ज कराने का निर्देश दिया था। जिस पर कैथा पंचायत के सरपंच संतकुमार पटेल निवासी ग्राम इटहा और सचिव अच्छेलाल पटेल नवासी अमिलिया के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 409, 420 एवं 34 के तहत गढ़ थाने में एफआइआर दर्ज की गई है।

थाने में एफआइआर दर्ज होते ही दोनों आरोपी फरार बताए गए हैं। जानकारी के मुताबिक जनपद गंगेव की ओर से थाने भेजे गए पत्र पर एफआइआर दर्ज करने की कार्रवाई को सप्ताह भर के लिए पुलिस ने राजनीतिक दबाव के चलते टाल दिया था। इस पर शिकायतकर्ता शिवानंद द्विवेदी ने तत्काल कार्रवाई की मांग उठाई थी।
जिसके बाद पुलिस ने एफआइआर दर्ज कर लिया है। बता दें कि ग्राम पंचायत कैथा में वर्ष 2015 से लेकर अब तक निरंतर मनरेगा, पंच परमेश्वर, 14वें वित्त आयोग एवं 15वें वित्त आयोग सहित विधायक एवं सांसद निधि से प्राप्त की गई राशि में भ्रष्टाचार और बंदरबांट के लिए कलेक्टर न्यायालय रीवा द्वारा 15 जनवरी 2021 को सरपंच को पद से पृथक करने एवं तत्कालीन सचिव से भी 17 लाख रुपए वसूली कराने का निर्देश दिया था। इतना ही सरपंच पर यह भी आरोप है कि कलेक्टर के निर्देश के बाद भी पंचायत मद की राशि का आहरण सरपंच की ओर से किया गया है।

Mrigendra Singh Reporting
और पढ़े
हमारी वेबसाइट पर कंटेंट का प्रयोग जारी रखकर आप हमारी गोपनीयता नीति और कूकीज नीति से सहमत होते हैं।
OK
Ad Block is Banned